(55) न्याय

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

न्याय

1. हमें क्या आश्‍वासन मिला है कि एक न्याय होगा?
30 इसलिये परमेश्वर आज्ञानता के समयों में अनाकानी करके, अब हर जगह सब मनुष्यों को मन फिराने की आज्ञा देता है।
31 क्योंकि उस ने एक दिन ठहराया है, जिस में वह उस मनुष्य के द्वारा धर्म से जगत का न्याय करेगा, जिसे उस ने ठहराया है और उसे मरे हुओं में से जिलाकर, यह बात सब पर प्रामाणित कर दी है॥” (प्रेरितों के काम 17:30,31)।

2. क्या पौलुस के दिनों में न्याय अभी भी भविष्य में था?
“और जब वह धर्म और संयम और आने वाले न्याय की चर्चा करता था, तो फेलिक्स ने भयमान होकर उत्तर दिया, कि अभी तो जा: अवसर पाकर मैं तुझे फिर बुलाऊंगा।” (प्रेरितों के काम 24:25।

3. कितने लोगों को न्याय की कसौटी पर खरा उतरना चाहिए?
“मैं ने मन में कहा, परमेश्वर धर्मी और दुष्ट दोनों का न्याय करेगा, क्योंकि उसके यहां एक एक विषय और एक एक काम का समय है।” (सभोपदेशक 3:17)। “क्योंकि अवश्य है, कि हम सब का हाल मसीह के न्याय आसन के साम्हने खुल जाए, कि हर एक व्यक्ति अपने अपने भले बुरे कामों का बदला जो उस ने देह के द्वारा किए हों पाए॥” (2 कुरीं 5:10)।

4. सुलैमान ने सभी को परमेश्वर का भय मानने और उसकी आज्ञाओं को मानने का आग्रह करने का क्या कारण दिया?
“क्योंकि परमेश्वर सब कामों और सब गुप्त बातों का, चाहे वे भली हों या बुरी, न्याय करेगा॥” (सभोपदेशक 12:14)।

5. दानिय्येल को न्याय के दृश्य के बारे में क्या दृष्टिकोण दिया गया था?
मैं ने देखते देखते अन्त में क्या देखा, कि सिंहासन रखे गए, और कोई अति प्राचीन विराजमान हुआ; उसका वस्त्र हिम सा उजला, और सिर के बाल निर्मल ऊन सरीखे थे; उसका सिंहासन अग्निमय और उसके पहिये धधकती हुई आग के से देख पड़ते थे।
10 उस प्राचीन के सम्मुख से आग की धारा निकल कर बह रही थी; फिर हजारोंहजार लोग उसकी सेवा टहल कर रहे थे, और लाखों लाख लोग उसके साम्हने हाजिर थे; फिर न्यायी बैठ गए, और पुस्तकें खोली गईं” (दानिय्येल 7:9,10)।

6. किस बात से सभी का न्याय किया जाएगा?
“फिर मैं ने छोटे बड़े सब मरे हुओं को सिंहासन के साम्हने खड़े हुए देखा, और पुस्तकें खोली गई; और फिर एक और पुस्तक खोली गई; और फिर एक और पुस्तक खोली गई, अर्थात जीवन की पुस्तक; और जैसे उन पुस्तकों में लिखा हुआ था, उन के कामों के अनुसार मरे हुओं का न्याय किया गया।” (प्रकाशितवाक्य 20:12)।

7. किसके लिए स्मरण की पुस्तक लिखी गई है?
“तब यहोवा का भय मानने वालों ने आपस में बातें की, और यहोवा ध्यान धर कर उनकी सुनता था; और जो यहोवा का भय मानते और उसके नाम का सम्मान करते थे, उनके स्मरण के निमित्त उसके साम्हने एक पुस्तक लिखी जाती थी।” (मलाकी 3:16; देखें प्रकाशितवाक्य 20:12)।

8. न्याय को कौन खोलता है और इसकी अध्यक्षता कौन करता है?
“मैं ने देखते देखते अन्त में क्या देखा, कि सिंहासन रखे गए, और कोई अति प्राचीन विराजमान हुआ; उसका वस्त्र हिम सा उजला, और सिर के बाल निर्मल ऊन सरीखे थे; उसका सिंहासन अग्निमय और उसके पहिये धधकती हुई आग के से देख पड़ते थे।” (दानिय्येल 7:9)।

9. कौन परमेश्वर की सेवा करता है, और न्याय में सहायता करता है?
“उस प्राचीन के सम्मुख से आग की धारा निकल कर बह रही थी; फिर हजारोंहजार लोग उसकी सेवा टहल कर रहे थे, और लाखों लाख लोग उसके साम्हने हाजिर थे; फिर न्यायी बैठ गए, और पुस्तकें खोली गईं।” (पद 10; देखें प्रकाशितवाक्य 5:11)।

10. इस समय पिता के सामने किसे लाया जाता है?
“मैं ने रात में स्वप्न में देखा, और देखो, मनुष्य के सन्तान सा कोई आकाश के बादलों समेत आ रहा था, और वह उस अति प्राचीन के पास पहुंचा, और उसको वे उसके समीप लाए।” (दानिय्येल 7:13)।

11. अपने लोगों के वकील के रूप में मसीह ने पिता और उसके स्वर्गदूतों के सामने क्या अंगीकार किया?
“जो जय पाए, उसे इसी प्रकार श्वेत वस्त्र पहिनाया जाएगा, और मैं उसका नाम जीवन की पुस्तक में से किसी रीति से न काटूंगा, पर उसका नाम अपने पिता और उसके स्वर्गदूतों के साम्हने मान लूंगा।” प्रकाशितवाक्य 3:5; देखें मत्ती 10:32,33; मरकुस 8:38)।

टिप्पणी:-इस न्याय दृश्य के दौरान, धर्मी और दुष्ट दोनों मृत अभी भी अपनी कब्रों में हैं। हालाँकि, हर एक के जीवन का दर्ज लेख स्वर्ग की किताबों में है, और उस दर्ज लेख से उनके चरित्र और कार्यों का पता चलता है। मसीह उन लोगों की ओर से उपस्थित होने के लिए है जिन्होंने उसे अपने वकील के रूप में चुना है। (1 यूहन्ना 2:1)। वह अपना लहू प्रस्तुत करता है, क्योंकि वह दर्ज लेखों की पुस्तकों से उनके पापों को मिटाने की अपील करता है। जैसे न्याय का स्थान स्वर्ग में है, जहां परमेश्वर का सिंहासन है, और जैसे मसीह व्यक्तिगत रूप से उपस्थित है, यह इस प्रकार है कि न्याय का कार्य भी स्वर्ग में है। सभी को उनके जीवन के दर्ज लेख से आंका जाता है, और इस प्रकार शरीर में किए गए कार्यों के लिए जवाब देते हैं। यह कार्य न केवल हमेशा के लिए मरे हुओं के मामलों का फैसला करेगा, बल्कि सभी जीवित लोगों के दया के दरवाजे को भी बंद कर देगा, जिसके बाद मसीह अपने आप को लेने के लिए आएगा जो उसके प्रति वफादार पाए गए हैं।

12. जांच-पड़ताल न्याय के द्वारा राज्य की प्रजा के निर्धारण के बाद, मसीह को क्या दिया जाता है?
“तब उसको ऐसी प्रभुता, महिमा और राज्य दिया गया, कि देश-देश और जाति-जाति के लोग और भिन्न-भिन्न भाषा बालने वाले सब उसके आधीन हों; उसकी प्रभुता सदा तक अटल, और उसका राज्य अविनाशी ठहरा॥” (दानिय्येल 7:14)।

13. जब वह दूसरी बार आएगा, तो वह कौन-सी उपाधि धारण करेगा?
“और उसके वस्त्र और जांघ पर यह नाम लिखा है, राजाओं का राजा और प्रभुओं का प्रभु॥”(प्रकाशितवाक्य 19:16)।

14. तब वह प्रत्येक के लिए क्या करेगा?
“मनुष्य का पुत्र अपने स्वर्गदूतों के साथ अपने पिता की महिमा में आएगा, और उस समय वह हर एक को उसके कामों के अनुसार प्रतिफल देगा।” (मत्ती 16:27; प्रकाशितवाक्य 22:12 भी देखें)।

15. फिर मसीह अपने लोगों को कहाँ ले जाएगा?
मेरे पिता के घर में बहुत से रहने के स्थान हैं, यदि न होते, तो मैं तुम से कह देता क्योंकि मैं तुम्हारे लिये जगह तैयार करने जाता हूं।
और यदि मैं जाकर तुम्हारे लिये जगह तैयार करूं, तो फिर आकर तुम्हें अपने यहां ले जाऊंगा, कि जहां मैं रहूं वहां तुम भी रहो।” (यूहन्ना 14:2,3)।

16. कितने मरे हुओं को जिलाया जाएगा?
28 इस से अचम्भा मत करो, क्योंकि वह समय आता है, कि जितने कब्रों में हैं, उसका शब्द सुनकर निकलेंगे।
29 जिन्हों ने भलाई की है वे जीवन के पुनरुत्थान के लिये जी उठेंगे और जिन्हों ने बुराई की है वे दंड के पुनरुत्थान के लिये जी उठेंगे।” (यूहन्ना 5:28,29; यह भी देखें प्रेरितों के काम 24:15)।

17. दो पुनरुत्थानों के बीच कौन-सा समय आता है?
फिर मैं ने सिंहासन देखे, और उन पर लोग बैठ गए, और उन को न्याय करने का अधिकार दिया गया; और उन की आत्माओं को भी देखा, जिन के सिर यीशु की गवाही देने और परमेश्वर के वचन के कारण काटे गए थे; और जिन्हों ने न उस पशु की, और न उस की मूरत की पूजा की थी, और न उस की छाप अपने माथे और हाथों पर ली थी; वे जीवित हो कर मसीह के साथ हजार वर्ष तक राज्य करते रहे।
और जब तक ये हजार वर्ष पूरे न हुए तक तक शेष मरे हुए न जी उठे; यह तो पहिला मृत्कोत्थान है।” (प्रकाशितवाक्य  20:4,5)।

18. दानिय्येल ने आखिरकार पवित्र लोगों को कौन-सा काम सौंपा?
21 और मैं ने देखा था कि वह सींग पवित्र लोगों के संग लड़ाई कर के उन पर उस समय तक प्रबल भी हो गया,
22 जब तब वह अति प्राचीन न आया, और परमप्रधान के पवित्र लोग न्यायी न ठहरे, और उन पवित्र लोगों के राज्याधिकारी होने का समय न आ पहुंचा॥” (दानिय्येल 7:21,22)।

19. न्याय के इस कार्य में संत कब तक लगे रहेंगे?
फिर मैं ने सिंहासन देखे, और उन पर लोग बैठ गए, और उन को न्याय करने का अधिकार दिया गया; और उन की आत्माओं को भी देखा, जिन के सिर यीशु की गवाही देने और परमेश्वर के वचन के कारण काटे गए थे; और जिन्हों ने न उस पशु की, और न उस की मूरत की पूजा की थी, और न उस की छाप अपने माथे और हाथों पर ली थी; वे जीवित हो कर मसीह के साथ हजार वर्ष तक राज्य करते रहे। (प्रकाशितवाक्य  20:4)।

20. इस प्रकार पवित्र लोग किसका न्याय करेंगे?
क्या तुम नहीं जानते, कि पवित्र लोग जगत का न्याय करेंगे? सो जब तुम्हें जगत का न्याय करना हे, तो क्या तुम छोटे से छोटे झगड़ों का भी निर्णय करने के योग्य नहीं?
क्या तुम नहीं जानते, कि हम स्वर्गदूतों का न्याय करेंगे? तो क्या सांसारिक बातों का निर्णय न करें?” (1कुरीं 6:2,3)।

21. न्याय के निर्णयों को कैसे अमल में लाया जाएगा?
“और जाति जाति को मारने के लिये उसके मुंह से एक चोखी तलवार निकलती है, और वह लोहे का राजदण्ड लिए हुए उन पर राज्य करेगा, और वह सर्वशक्तिमान परमेश्वर के भयानक प्रकोप की जलजलाहट की मदिरा के कुंड में दाख रौंदेगा” (प्रकाशितवाक्य 19:15)।

22. न्याय का निष्पादन मसीह को क्यों दिया गया है?
“क्योंकि जैसा पिता अपने आप में जीवन रखता है; तो उसने पुत्र को अपने आप में जीवन देने के लिए दिया है; और उसे न्याय करने का भी अधिकार दिया है, क्योंकि वह मनुष्य का पुत्र है।” यूहन्ना 5:26,27.

23. दुनिया को न्याय के होने के बारे में कैसे बताया गया?
फिर मैं ने एक और स्वर्गदूत को आकाश के बीच में उड़ते हुए देखा जिस के पास पृथ्वी पर के रहने वालों की हर एक जाति, और कुल, और भाषा, और लोगों को सुनाने के लिये सनातन सुसमाचार था।
और उस ने बड़े शब्द से कहा; परमेश्वर से डरो; और उस की महिमा करो; क्योंकि उसके न्याय करने का समय आ पहुंचा है, और उसका भजन करो, जिस ने स्वर्ग और पृथ्वी और समुद्र और जल के सोते बनाए॥” (प्रकाशितवाक्य 14:6,7)।

टिप्पणी:- पवित्रशास्त्र में वर्णित न्याय के तीन चरण हैं, – दूसरे आगमन से पहले की जांच-पड़ताल न्याय; दूसरे आगमन के बाद के एक हजार वर्षों के दौरान मसीह और संतों द्वारा खोए हुए संसार और दुष्ट स्वर्गदूतों का न्याय; और कार्यकारी न्याय, या इस अवधि के अंत में दुष्टों की सजा। मसीह के आने से पहले स्वर्ग में जांच-पड़ताल न्याय होता है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि कौन पहले पुनरुत्थान में, उसके आने पर, और जीवित लोगों में से कौन एक आँख झपकते हुए, आखिरी तुरही की आवाज़ में बदलने के योग्य हैं। इसके लिए दूसरे आगमन से पहले इसका होना आवश्यक है, क्योंकि मसीह के आने और धर्मी मृतकों के पुनरुत्थान के बीच इस तरह के कार्य के लिए कोई समय नहीं होगा। दुष्टों पर कार्यकारी न्याय तब होता है जब उनके मामलों की जांच संतों द्वारा हजार वर्षों के दौरान की जाती है। (प्रकाशितवाक्य 20:4,5; 1 कुरीं 6:1-3)। खोजी न्याय वह है जिसकी घोषणा प्रकाशितवाक्य 14:6,7 के स्वर्गदूत के सन्देश के द्वारा संसार को की जाती है।

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा के भजन की हैं।

आप त्वरित और मृत के न्यायी,
जिसके सामने गंभीर,
पवित्र आनंद या दोषी भय के साथ,
हम सब जल्द ही प्रकट होंगे,-
हमारी सतर्क आत्माएं तैयार करती हैं
उस बेहतरीन दिन के लिए,
और अब हमें चौकस देखभाल से भरें,
और हमें प्रार्थना करने के लिए प्रेरित करें।

चार्ल्स वेस्ली

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)