(49) राज्य का सुसमाचार

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1.यीशु ने किस सुसमाचार का प्रचार किया?
“और यीशु सारे गलील में फिरता हुआ उन की सभाओं में उपदेश करता और राज्य का सुसमाचार प्रचार करता, और लोगों की हर प्रकार की बीमारी और दुर्बल्ता को दूर करता रहा।” (मत्ती 4:23)।

2.उसने कितने विस्तार से कहा कि इसका प्रचार किया जाना चाहिए?
“और राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो, तब अन्त आ जाएगा॥” (मत्ती 24:14)।

3.क्या दिखाता है कि यह हमेशा परमेश्वर का उद्देश्य रहा है कि सारी दुनिया को सुसमाचार सुनना चाहिए?
“यहोवा ने अब्राम से कहा, अपने देश, और अपनी जन्मभूमि, और अपने पिता के घर को छोड़कर उस देश में चला जा जो मैं तुझे दिखाऊंगा।
और मैं तुझ से एक बड़ी जाति बनाऊंगा, और तुझे आशीष दूंगा, और तेरा नाम बड़ा करूंगा, और तू आशीष का मूल होगा।
और जो तुझे आशीर्वाद दें, उन्हें मैं आशीष दूंगा; और जो तुझे कोसे, उसे मैं शाप दूंगा; और भूमण्डल के सारे कुल तेरे द्वारा आशीष पाएंगे।” (उत्पति 12:1-3)।

“और पवित्र शास्त्र ने पहिले ही से यह जान कर, कि परमेश्वर अन्यजातियों को विश्वास से धर्मी ठहराएगा, पहिले ही से इब्राहीम को यह सुसमाचार सुना दिया, कि तुझ में सब जातियां आशीष पाएंगी।” (गलातियों 3:8)।

4.परमेश्वर ने इस्राएल को औपचारिकता के विरुद्ध कैसे चेतावनी दी?
13 और प्रभु ने कहा, ये लोग जो मुंह से मेरा आदर करते हुए समीप आते परन्तु अपना मन मुझ से दूर रखते हैं, और जो केवल मनुष्यों की आज्ञा सुन सुनकर मेरा भय मानते हैं। 14 इस कारण सुन, मैं इनके साथ अद्भुत काम वरन अति अद्भुत और अचम्भे का काम करूंगा; तब इनके बुद्धिमानों की बुद्धि नष्ट होगी, और इनके प्रवीणों की प्रवीणता जाती रहेगी॥” (यशायाह 29:13,14)।

5.किस बात से पता चलता है कि उन्होंने मंदिर की रैटति सेवा को हृदय-सेवा के स्थान पर प्रतिस्थापित कर दिया था?
सेनाओं का यहोवा जो इस्राएल का परमेश्वर है, यों कहता है, अपनी अपनी चाल और काम सुधारो, तब मैं तुम को इस स्थान में बसे रहने दूंगा। तुम लोग यह कह कर झूठी बातों पर भरोसा मत रखो, कि यही यहोवा का मन्दिर है; यही यहोवा का मन्दिर, यहोवा का मन्दिर।” (यिर्मयाह 7:3,4)।

6.परमेश्वर से अपने धर्मत्याग के द्वारा उन्होंने अपने ऊपर कौन-सी राष्ट्रीय आपदा लायी?
“इस प्रकार सब इस्राएली अपनी अपनी वंशावली के अनुसार, जो इस्राएल के राजाओं के वृत्तान्त की पुस्तक में लिखी हैं, गिने गए। और यहूदी अपने विश्वासघात के कारण बन्धुआई में बाबुल को पहुंचाए गए।” (1 इतिहास 9:1)।

टिप्पणी:-प्राचीन काल से यह परमेश्वर का उद्देश्य रहा है कि जो लोग सुसमाचार प्राप्त करते हैं वे इसे दूसरों को बताएं। इसलिए उस ने निज लोगों को चुन लिया, और उन्हें फ़िलिस्तीन में राष्ट्रों के मार्ग पर स्थिर किया; परन्तु उन्होंने सत्य के प्रगटीकरण को अपने लिए छिपा रखा, और इस रीति से उसे खो दिया। कुछ, जैसे दानिय्येल और उसके साथी, ने परमेश्वर के साथ एक व्यक्तिगत संबंध बनाए रखा, हालांकि आत्मिक घोषणा और शुष्क औपचारिकता से घिरा हुआ था, और इसलिए परमेश्वर द्वारा अपनी योजना को पूरा करने के लिए चुना गया था कि राज्य के सुसमाचार का प्रचार बाबुल में किया जाना चाहिए। उनकी परीक्षा की गई और उन्हें बाबुल में प्रशिक्षित किया गया, जैसा कि दानिय्येल के पहले अध्याय में दिखाया गया है, और फिर, सुसमाचार को बताने के लिए तैयार होने के कारण, नबूकदनेस्सर के स्वप्न से उनके लिए रास्ता खुल गया।

7.नबूकदनेस्सर के स्वप्न की व्याख्या करते हुए, दानिय्येल ने किस राज्य के बारे में कहा कि वह चार विश्व साम्राज्यों का अनुसरण करेगा?
“और उन राजाओं के दिनों में स्वर्ग का परमेश्वर, एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनन्तकाल तक न टूटेगा, और न वह किसी दूसरी जाति के हाथ में किया जाएगा। वरन वह उन सब राज्यों को चूर चूर करेगा, और उनका अन्त कर डालेगा; और वह सदा स्थिर रहेगा;” (दानिय्येल 2:44)।

8.इस राज्य को अन्य राज्यों के साथ क्या करना था?
“और उन राजाओं के दिनों में स्वर्ग का परमेश्वर, एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनन्तकाल तक न टूटेगा, और न वह किसी दूसरी जाति के हाथ में किया जाएगा। वरन वह उन सब राज्यों को चूर चूर करेगा, और उनका अन्त कर डालेगा; और वह सदा स्थिर रहेगा;” (दानिय्येल 2:44)।

9.यह राज्य कब तक बना रहेगा?
“और उन राजाओं के दिनों में स्वर्ग का परमेश्वर, एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनन्तकाल तक न टूटेगा, और न वह किसी दूसरी जाति के हाथ में किया जाएगा। वरन वह उन सब राज्यों को चूर चूर करेगा, और उनका अन्त कर डालेगा; और वह सदा स्थिर रहेगा;” (दानिय्येल 2:44)।

10.मसीह के कौन से शब्द सुसमाचार की अंतिम विजय का संकेत देते हैं?
“और मैं भी तुझ से कहता हूं, कि तू पतरस है; और मैं इस पत्थर पर अपनी कलीसिया बनाऊंगा: और अधोलोक के फाटक उस पर प्रबल न होंगे।” (मत्ती 16:18)।

टिप्पणी:-प्राचीन काल में नगरों के द्वार न्यायालयों का संचालन करने, व्यापार करने और सार्वजनिक मामलों पर विचार-विमर्श करने के स्थान थे। इसलिए, गेट्स शब्द का प्रयोग सलाह, बनावट, साजिश और बुरे उद्देश्यों के लिए किया जाता है। नरक के द्वार का अर्थ है कलीसिया को उखाड़ फेंकने के लिए शैतान की साज़िश, चालबाज़ी और योजनाएँ। लेकिन इनमें से कोई भी प्रबल नहीं होना है।

11.इस तरह दाऊद से किए गए कौन-से वादे पूरे होंगे?
“वरन तेरा घराना और तेरा राज्य मेरे साम्हने सदा अटल बना रहेगा; तेरी गद्दी सदैव बनी रहेगी।” (2 शमुएल 7:16)।

टिप्पणी:- दाऊद के पुत्र बनने में मानवता के साथ अपनी ईश्वरीयता को एकजुट करके, मसीह ने नींव रखी जिस पर उसने अपनी कलीसिया का निर्माण किया, और इस तरह दाऊद के घर को हमेशा के लिए स्थापित किया। परमेश्वर का राज्य, दाऊद का घराना, और मसीह की कलीसिया इस भविष्यद्वाणी में इतने अविभाज्य रूप से जुड़े हुए हैं कि दोनों में से किसी की स्थापना में अन्य दो की स्थापना शामिल है।

12.इन वादों को किसके द्वारा पूरा किया जाना है?
32 वह महान होगा; और परमप्रधान का पुत्र कहलाएगा; और प्रभु परमेश्वर उसके पिता दाऊद का सिंहासन उस को देगा। 33 और वह याकूब के घराने पर सदा राज्य करेगा; और उसके राज्य का अन्त न होगा।” (लूका 1:32,33)।

13.इन वादों को पूरा करने के लिए, परमेश्वर का पुत्र किसका पुत्र बना?
“दाऊद का पुत्र।” (मत्ती 22:42)।

14.ईश्वरत्व और मानवता के इस मिलन को क्या कहा जाता है?
“और इस में सन्देह नहीं, कि भक्ति का भेद गम्भीर है; अर्थात वह जो शरीर में प्रगट हुआ, आत्मा में धर्मी ठहरा, स्वर्गदूतों को दिखाई दिया, अन्यजातियों में उसका प्रचार हुआ, जगत में उस पर विश्वास किया गया, और महिमा में ऊपर उठाया गया॥” (1 तीमुथियुस 3:16)।

15.यीशु ने इसी रहस्य को क्या कहा?
“उस ने उन से कहा, तुम को तो परमेश्वर के राज्य के भेद की समझ दी गई है, परन्तु बाहर वालों के लिये सब बातें दृष्टान्तों में होती हैं।” (मरकुस 4:11)।

16.बाबुल के बुद्धिमानों ने किस अंगीकार में मसीही धर्म के इस आवश्यक सिद्धांत के किसी भी ज्ञान से इनकार किया?
“जो बात राजा पूछता है, वह अनोखी है, और देवताओं को छोड़ कर जिनका निवास मनुष्यों के संग नहीं है, और कोई दूसरा नहीं, जो राजा को यह बता सके॥” (दानिय्येल 2:11)।

टिप्पणी:-ईश्वर और मानव का मसीह के व्यक्तित्व में मिलन “ईश्वरीयता का रहस्य” या “परमेश्वर के राज्य का रहस्य” है। जो बीज खेत में बोया जाता है, उसी सिद्धांत को भौतिक रूप के साथ प्रजनन शक्ति के मिलन द्वारा दर्शाया गया है। जैसे बीज इस प्रकार स्वयं को गुणा करने में सक्षम है, वैसे ही मसीह विश्वासियों में अपने स्वयं के चरित्र को पुन: उत्पन्न करता है, उन्हें ईश्वरीय प्रकृति का भागी बनाकर। अपने आगमन पर वह राज्य की प्रजा को अमरता का उपहार देता है (1 कुरिं.15:51-53), और इसलिए राज्य हमेशा के लिए खड़ा रहेगा। यह बहुत संभव है कि बाबुल के बुद्धिमानों ने आने वाले मसीहा में देह में परमेश्वर के देह-धारण के बारे में नहीं समझा, लेकिन उनके बयान में कि देवताओं का निवास देह के साथ नहीं था, उन्होंने बाबुल की मौलिक त्रुटि की घोषणा की, दोनों प्राचीन और आधुनिक, और वास्तव में मसीही धर्म के महत्वपूर्ण सिद्धांत को नकार दिया। यह परमेश्वर के राज्य का आवश्यक रहस्य, या रहस्य था, जिसे बाबुल में जानना आवश्यक था, और जिसे अभी भी पूरे विश्व में घोषित किया जाना है।

17.दानिय्येल और उसके साथियों ने किस बारे में प्रार्थना की?
17 तब दानिय्येल ने अपने घर जा कर, अपने संगी हनन्याह, मीशाएल, और अजर्याह को यह हाल बता कर कहा, 18 इस भेद के विषय में स्वर्ग के परमेश्वर की दया के लिये यह कह कर प्रार्थना करो, कि बाबुल के और सब पण्डितों के संग दानिय्येल और उसके संगी भी नाश न किए जाएं।” (पद 17,18)।

18.इस रहस्य का ज्ञान प्राप्त करने में उनकी ओर से विफलता का परिणाम क्या रहा होगा?
 इस भेद के विषय में स्वर्ग के परमेश्वर की दया के लिये यह कह कर प्रार्थना करो, कि बाबुल के और सब पण्डितों के संग दानिय्येल और उसके संगी भी नाश न किए जाएं।” (पद 18)।

19.राजा के स्वप्न का भेद किस प्रकार प्रकट हुआ, और इस प्रकार परमेश्वर के राज्य का भेद बाबुल में प्रगट हुआ?
“तब वह भेद दानिय्येल को रात के समय दर्शन के द्वारा प्रगट किया गया। सो दानिय्येल ने स्वर्ग के परमेश्वर का यह कह कर धन्यवाद किया,” (पद 19)।

टिप्पणी:-परमेश्वर के राज्य के सुसमाचार का सबसे महत्वपूर्ण सत्य बाबुल के धर्म में नकारा गया था। इससे यह ज़रूरी हो गया कि बाबुल में इसी सच्चाई का प्रचार किया जाए। परमेश्वर के राज्य का यह रहस्य ही वास्तविक और आवश्यक रहस्य था जिसे बाबुल के विद्वान राजा को नहीं बता सकते थे, और जिसे केवल प्रकाशन द्वारा ही सीखा जा सकता था। यही वह भेद है जो “जगत के आरम्भ से परमेश्वर में छिपा रहा” (इफि 3:9); और “इस भेद की महिमा का धन” है “मसीह तुम में, महिमा की आशा” (कुलु 1:27), या “सुसमाचार का भेद” (इफि 6:19)।

20.नबूकदनेस्सर ने परमेश्वर को प्रकट करनेवाले के रूप में कैसे स्वीकार किया, और इस प्रकार दानिय्येल की उसके साथ घनिष्ठ संगति कैसे हुई?
“फिर राजा ने दानिय्येल से कहा, सच तो यह है कि तुम लोगों का परमेश्वर, सब ईश्वरों का ईश्वर, राजाओं का राजा और भेदों का खोलने वाला है, इसलिये तू यह भेद प्रगट कर पाया।” (पद 47)।

21.जब राज्य का सुसमाचार पूरी तरह से प्रचार किया जा चुका है, और मसीह राजा के रूप में प्रकट होता है, तो उन लोगों को क्या निमंत्रण दिया जाएगा जिन्होंने “राज्य का रहस्य” सीखा है?
31 जब मनुष्य का पुत्र अपनी महिमा में आएगा, और सब स्वर्ग दूत उसके साथ आएंगे तो वह अपनी महिमा के सिहांसन पर विराजमान होगा।
32 और सब जातियां उसके साम्हने इकट्ठी की जाएंगी; और जैसा चरवाहा भेड़ों को बकिरयों से अलग कर देता है, वैसा ही वह उन्हें एक दूसरे से अलग करेगा।
33 और वह भेड़ों को अपनी दाहिनी ओर और बकिरयों को बाई और खड़ी करेगा।
34 तब राजा अपनी दाहिनी ओर वालों से कहेगा, हे मेरे पिता के धन्य लोगों, आओ, उस राज्य के अधिकारी हो जाओ, जो जगत के आदि से तुम्हारे लिये तैयार किया हुआ है” (मत्ती 25:31-34)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा के भजन की हैं।

तुम्हारा राज्य आए। इस प्रकार दिन-ब-दिन
हम परमेश्वर की ओर हाथ उठाकर प्रार्थना करते हैं;
लेकिन जिसने कभी विधिवत वजन किया है
उनके द्वारा कहे गए शब्दों का अर्थ?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)