(39) एक पाप रहित जीवन

एक पाप रहित जीवन

1.पृथ्वी पर मसीह के जीवन के विषय में कौन-सी गवाही मिलती है?
“सो जब कि तुम ने भाईचारे की निष्कपट प्रीति के निमित्त सत्य के मानने से अपने मनों को पवित्र किया है, तो तन मन लगा कर एक दूसरे से अधिक प्रेम रखो।” (1 पतरस 2:22)।

2.मानव परिवार के अन्य सभी सदस्यों के बारे में क्या सच है?
“क्योंकि सब ने पाप किया है, और परमेश्वर की महिमा से रहित हैं।” (रोमियों 3:23)।

3.मसीह ने अपने शत्रुओं को किस प्रश्न से चुनौती दी?
“तुम में से कौन मुझे पापी ठहराता है? और यदि मैं सच बोलता हूं, तो तुम मेरी प्रतीति क्यों नहीं करते?” (यूहन्ना 8:46)।

4.मसीह की परीक्षा किस हद तक हुई?
“क्योंकि हमारा ऐसा महायाजक नहीं, जो हमारी निर्बलताओं में हमारे साथ दुखी न हो सके; वरन वह सब बातों में हमारी नाईं परखा तो गया, तौभी निष्पाप निकला।” (इब्रानियों 4:15)।

5.अपनी मानवता में, मसीह ने किस प्रकृति का हिस्सा लिया?
“इसलिये जब कि लड़के मांस और लोहू के भागी हैं, तो वह आप भी उन के समान उन का सहभागी हो गया; ताकि मृत्यु के द्वारा उसे जिसे मृत्यु पर शक्ति मिली थी, अर्थात शैतान को निकम्मा कर दे।” (इब्रानियों 2:14)।

6.मसीह ने हमारी सामान्य मानवता को किस प्रकार पूर्ण रूप से साझा किया?
“इस कारण उस को चाहिए था, कि सब बातों में अपने भाइयों के समान बने; जिस से वह उन बातों में जो परमेश्वर से सम्बन्ध रखती हैं, एक दयालु और विश्वास योग्य महायाजक बने ताकि लोगों के पापों के लिये प्रायश्चित्त करे।” (पद 17)।

ध्यान दें:- अपनी मानवता में मसीह ने हमारे पापी, पतित स्वभाव को ग्रहण किया। यदि नहीं, तो वह “अपने भाइयों के समान नहीं बना” था, “सब बातों में हमारी नाईं परीक्षा में” नहीं था, जिस पर हमें विजय प्राप्त करनी है, उस पर विजय नहीं मिली, और इसलिए, पूर्ण और सिद्ध उद्धारकर्ता मनुष्य की आवश्यकता नहीं है और बचाना होगा। यह विचार कि मसीह का जन्म एक बेदाग या पापरहित माँ से हुआ था, विरासत में पाप करने की कोई प्रवृत्ति नहीं थी, और इस कारण से उसने पाप नहीं किया, उसे एक पतित दुनिया के दायरे से, और उसी स्थान से हटा देता है जहाँ मदद की आवश्यकता होती है। अपने मानवीय पक्ष में, मसीह को विरासत में वही मिला जो आदम के प्रत्येक बच्चे को विरासत में मिला, – एक पापी स्वभाव। ईश्वरीय पक्ष में, उनकी गर्भाधान से ही वे पैदा हुए थे और आत्मा से पैदा हुए थे। और यह सब मानवजाति को सुविधाजनक स्थान पर रखने के लिए किया गया था, और यह प्रदर्शित करने के लिए कि उसी तरह हर कोई जो “आत्मा से जन्मा” है, अपने पापमय शरीर में पाप पर विजय प्राप्त कर सकता है। इस प्रकार हर एक को जीतना है जैसे कि मसीह ने विजय प्राप्त की। (प्रकाशितवाक्य 3:21)। इस जन्म के बिना न तो परीक्षा पर विजय हो सकती है और न ही पाप से मुक्ति। (यूहन्ना 3:3-7)।

7.परमेश्वर ने मसीह में कहां पाप की निंदा की, और परीक्षा और पाप पर हमारे लिए विजय प्राप्त की?
“क्योंकि जो काम व्यवस्था शरीर के कारण दुर्बल होकर न कर सकी, उस को परमेश्वर ने किया, अर्थात अपने ही पुत्र को पापमय शरीर की समानता में, और पाप के बलिदान होने के लिये भेजकर, शरीर में पाप पर दण्ड की आज्ञा दी।” (रोमियों 8:3)।

ध्यान दें:-ईश्वर ने, मसीह में, पाप की निंदा की, इसके खिलाफ केवल न्याय-आसन पर बैठे न्यायी के रूप में नहीं, बल्कि शरीर में आकर, पापी देह में, और फिर भी पाप किए बिना। मसीह में, उसने दिखाया कि उसकी कृपा और शक्ति से, परीक्षा का विरोध करना, पाप पर विजय प्राप्त करना और पापी शरीर में पाप रहित जीवन जीना संभव है।

8.मसीह ने किसके सामर्थ से सिद्ध जीवन जिया?
“मैं अपने आप से कुछ नहीं कर सकता; जैसा सुनता हूं, वैसा न्याय करता हूं, और मेरा न्याय सच्चा है; क्योंकि मैं अपनी इच्छा नहीं, परन्तु अपने भेजने वाले की इच्छा चाहता हूं।” (यूहन्ना 5:30)। “क्या तू प्रतीति नहीं करता, कि मैं पिता में हूं, और पिता मुझ में हैं? ये बातें जो मैं तुम से कहता हूं, अपनी ओर से नहीं कहता, परन्तु पिता मुझ में रहकर अपने काम करता है।” (यूहन्ना 14:10)।

ध्यान दें:-अपनी मानवता में मसीह ईश्वर के कार्यों को करने के लिए ईश्वरीय शक्ति पर उतना ही निर्भर था जितना कि कोई भी व्यक्ति उसी काम को करने के लिए। उन्होंने पवित्र जीवन जीने के लिए ऐसा कोई साधन नहीं अपनाया जो हर इंसान के लिए उपलब्ध न हो। उसके माध्यम से, प्रत्येक व्यक्ति में परमेश्वर वास कर सकता है और उसमें कार्य कर सकता है “उसकी इच्छा और उसकी भलाई के लिए।” (1 यूहन्ना 4:15; फिलप्पियों 2:13)।

9.यीशु के सामने कभी भी कौन-सा निःस्वार्थ उद्देश्य था?
“क्योंकि मैं अपनी इच्छा नहीं, वरन अपने भेजने वाले की इच्छा पूरी करने के लिये स्वर्ग से उतरा हूं।” (यूहन्ना 6:38)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा के एक भजन की हैं।

क्या मुझे कुछ चाहिए, हे उद्धारकर्ता!
इस पृथ्‍वी पर सिर्फ आप?
क्या मेरे पास स्वर्ग में कोई है,
आपके सिवा कोई?

हालांकि मेरे बहुत सारे दोस्त हैं,
प्यार, और सोना, और स्वास्थ्य,
अगर मेरे पास नहीं है, मेरे उद्धारकर्ता,
मेरे पास कोई धन है?

कोरी एफ डेविस

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)