(32) मसीह का जन्म, बचपन और प्रारंभिक जीवन

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

मसीह का जन्म, बचपन और प्रारंभिक जीवन

1.पाप से मुक्तिदाता किस प्रतिज्ञा में सबसे पहले प्रकट हुआ था?
14 तब यहोवा परमेश्वर ने सर्प से कहा, तू ने जो यह किया है इसलिये तू सब घरेलू पशुओं, और सब बनैले पशुओं से अधिक शापित है; तू पेट के बल चला करेगा, और जीवन भर मिट्टी चाटता रहेगा: 15 और मैं तेरे और इस स्त्री के बीच में, और तेरे वंश और इसके वंश के बीच में बैर उत्पन्न करुंगा, वह तेरे सिर को कुचल डालेगा, और तू उसकी एड़ी को डसेगा।” (उत्पति 3:14,15)।

2.किसके द्वारा अब्राहम से खोए हुए राज्य की पुनःस्थापना का वादा किया गया था?
क्योंकि जितनी भूमि तुझे दिखाई देती है, उस सब को मैं तुझे और तेरे वंश को युग युग के लिये दूंगा।” (उत्पति 13:15)।

3.यह वादा किया गया वंश कौन था?
“निदान, प्रतिज्ञाएं इब्राहीम को, और उसके वंश को दी गईं; वह यह नहीं कहता, कि वंशों को ; जैसे बहुतों के विषय में कहा, पर जैसे एक के विषय में कि तेरे वंश को: और वह मसीह है।” (गलातियों 3:16)।

4.मसीह का जन्म कहाँ होना था?
और उस ने लोगों के सब महायाजकों और शास्त्रियों को इकट्ठे करके उन से पूछा, कि मसीह का जन्म कहाँ होना चाहिए?
उन्होंने उस से कहा, यहूदिया के बैतलहम में; क्योंकि भविष्यद्वक्ता के द्वारा यों लिखा है।
कि हे बैतलहम, जो यहूदा के देश में है, तू किसी रीति से यहूदा के अधिकारियों में सब से छोटा नहीं; क्योंकि तुझ में से एक अधिपति निकलेगा, जो मेरी प्रजा इस्राएल की रखवाली करेगा।” (मत्ती 2:4-6; देखें मीका 5:2)।

5.मसीह का जन्म किससे होना था?
“इस कारण प्रभु आप ही तुम को एक चिन्ह देगा। सुनो, एक कुमारी गर्भवती होगी और पुत्र जनेगी, और उसका नाम इम्मानूएल रखेगी।” (यशायाह 7:14)।

ध्यान दें:- इम्मानूएल का अर्थ है “परमेश्वर हमारे साथ।” (देखें मत्ती 1:23)।

6.उसके जन्म से पहले, स्वर्गदूत ने बच्चे के नामकरण के विषय में यूसुफ से क्या कहा?
“वह पुत्र जनेगी और तू उसका नाम यीशु रखना; क्योंकि वह अपने लोगों का उन के पापों से उद्धार करेगा।” (मत्ती 1:21)।

7.उसके जन्म के समय, स्वर्गदूत ने मैदान में रहने वाले चरवाहों को क्या संदेश दिया?
10 तब स्वर्गदूत ने उन से कहा, मत डरो; क्योंकि देखो मैं तुम्हें बड़े आनन्द का सुसमाचार सुनाता हूं जो सब लोगों के लिये होगा। 11 कि आज दाऊद के नगर में तुम्हारे लिये एक उद्धारकर्ता जन्मा है, और यही मसीह प्रभु है।” (लूका 2:10,11)।

8.स्तुति के किस गीत में अनेक स्वर्गदूत सम्मिलित हुए?
13 तब एकाएक उस स्वर्गदूत के साथ स्वर्गदूतों का दल परमेश्वर की स्तुति करते हुए और यह कहते दिखाई दिया। 14 कि आकाश में परमेश्वर की महिमा और पृथ्वी पर उन मनुष्यों में जिनसे वह प्रसन्न है शान्ति हो॥” (पद 13,14)।

9.यशायाह की कौन-सी भविष्यवाणी मसीह के जन्म के समय पूरी हुई?
“क्योंकि हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है; और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्भुत, युक्ति करने वाला, पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा।” (यशायाह 9:6)।

10.भविष्यद्वक्ता ने क्या कहा कि उसका नाम पुकारा जाना चाहिए?
क्योंकि हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है; और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्भुत, युक्ति करने वाला, पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा। उसकी प्रभुता सर्वदा बढ़ती रहेगी, और उसकी शान्ति का अन्त न होगा, इसलिये वे उसको दाऊद की राजगद्दी पर इस समय से ले कर सर्वदा के लिये न्याय और धर्म के द्वारा स्थिर किए ओर संभाले रहेगा। सेनाओं के यहोवा की धुन के द्वारा यह हो जाएगा॥” (पद 6,7)।

11.भक्त शिमोन ने बालक यीशु को देखकर क्या कहा?
27 और वह आत्मा के सिखाने से मन्दिर में आया; और जब माता-पिता उस बालक यीशु को भीतर लाए, कि उसके लिये व्यवस्था की रीति के अनुसार करें।
28 तो उस ने उसे अपनी गोद में लिया और परमेश्वर का धन्यवाद करके कहा,
29 हे स्वामी, अब तू अपने दास को अपने वचन के अनुसार शान्ति से विदा करता है।
30 क्योंकि मेरी आंखो ने तेरे उद्धार को देख लिया है।
31 जिसे तू ने सब देशों के लोगों के साम्हने तैयार किया है।
32 कि वह अन्य जातियों को प्रकाश देने के लिये ज्योति, और तेरे निज लोग इस्राएल की महिमा हो।” (लूका 2:27-32)।

12.बूढ़ी भविष्यद्वक्‍तणी हन्‍ना ने यीशु को देखकर खुद को कैसे व्यक्त किया?
“और वह उस घड़ी वहां आकर प्रभु का धन्यवाद करने लगी, और उन सभों से, जो यरूशलेम के छुटकारे की बाट जोहते थे, उसके विषय में बातें करने लगी।” (पद 38)।

13.पूर्व के मजूसियों ने यीशु को पाकर क्या किया?
“और उस घर में पहुंचकर उस बालक को उस की माता मरियम के साथ देखा, और मुंह के बल गिरकर उसे प्रणाम किया; और अपना अपना यैला खोलकर उसे सोना, और लोहबान, और गन्धरस की भेंट चढ़ाई।” (मत्ती 2:11)।

14.यीशु कैसे मिस्र में कुछ समय के लिए जीवित रहने के लिए आया?
“उन के चले जाने के बाद देखो, प्रभु के एक दूत ने स्वप्न में यूसुफ को दिखाई देकर कहा, उठ; उस बालक को और उस की माता को लेकर मिस्र देश को भाग जा; और जब तक मैं तुझ से न कहूं, तब तक वहीं रहना; क्योंकि हेरोदेस इस बालक को ढूंढ़ने पर है कि उसे मरवा डाले।” (पद 13)।

15.भविष्यद्वक्ता कैसे मसीह को नष्ट करने की इस शैतानी इच्छा का वर्णन करता है?
“और उस की पूंछ ने आकाश के तारों की एक तिहाई को खींच कर पृथ्वी पर डाल दिया, और वह अजगर उस स्त्री से साम्हने जो जच्चा थी, खड़ा हुआ, कि जब वह बच्चा जने तो उसके बच्चे को निगल जाए।” (प्रकाशितवाक्य12:4)।

16.हेरोदेस ने किस माध्यम से मसीह को नष्ट करने की कोशिश की?
“जब हेरोदेस ने यह देखा, कि ज्योतिषियों ने मेरे साथ ठट्ठा किया है, तब वह क्रोध से भर गया; और लोगों को भेजकर ज्योतिषियों से ठीक ठीक पूछे हुए समय के अनुसार बैतलहम और उसके आस पास के सब लड़कों को जो दो वर्ष के, वा उस से छोटे थे, मरवा डाला।” (मत्ती 2:16)।

17.हेरोदेस की मृत्यु के बाद, यूसुफ और उसका परिवार कहाँ रहता था?
“और नासरत नाम नगर में जा बसा; ताकि वह वचन पूरा हो, जो भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा कहा गया था, कि वह नासरी कहलाएगा॥” (पद 23)।

18.मसीह के बचपन और प्रारंभिक जीवन के बारे में क्या कहा गया है?
40 और बालक बढ़ता, और बलवन्त होता, और बुद्धि से परिपूर्ण होता गया; और परमेश्वर का अनुग्रह उस पर था।
41 उसके माता-पिता प्रति वर्ष फसह के पर्व में यरूशलेम को जाया करते थे।
42 जब वह बारह वर्ष का हुआ, तो वे पर्व की रीति के अनुसार यरूशलेम को गए।
43 और जब वे उन दिनों को पूरा करके लौटने लगे, तो वह लड़का यीशु यरूशलेम में रह गया; और यह उसके माता-पिता नहीं जानते थे।
44 वे यह समझकर, कि वह और यात्रियों के साथ होगा, एक दिन का पड़ाव निकल गए: और उसे अपने कुटुम्बियों और जान-पहचानों में ढूंढ़ने लगे।
45 पर जब नहीं मिला, तो ढूंढ़ते-ढूंढ़ते यरूशलेम को फिर लौट गए।
46 और तीन दिन के बाद उन्होंने उसे मन्दिर में उपदेशकों के बीच में बैठे, उन की सुनते और उन से प्रश्न करते हुए पाया।
47 और जितने उस की सुन रहे थे, वे सब उस की समझ और उसके उत्तरों से चकित थे।
48 तब वे उसे देखकर चकित हुए और उस की माता ने उस से कहा; हे पुत्र, तू ने हम से क्यों ऐसा व्यवहार किया? देख, तेरा पिता और मैं कुढ़ते हुए तुझे ढूंढ़ते थे।
49 उस ने उन से कहा; तुम मुझे क्यों ढूंढ़ते थे? क्या नहीं जानते थे, कि मुझे अपने पिता के भवन में होना अवश्य है?
50 परन्तु जो बात उस ने उन से कही, उन्होंने उसे नहीं समझा।
51 तब वह उन के साथ गया, और नासरत में आया, और उन के वश में रहा; और उस की माता ने ये सब बातें अपने मन में रखीं॥” (लूका 2:40-51)।

19.जब यीशु बारह वर्ष के थे, तब यरूशलेम में भोज से लौटने पर, यूसुफ और मरियम ने यीशु को कैसे खोया?
44 वे यह समझकर, कि वह और यात्रियों के साथ होगा, एक दिन का पड़ाव निकल गए: और उसे अपने कुटुम्बियों और जान-पहचानों में ढूंढ़ने लगे। 45 पर जब नहीं मिला, तो ढूंढ़ते-ढूंढ़ते यरूशलेम को फिर लौट गए।” (पद 44,45)।

ध्यान दें:-आज कितने लोग यीशु को खोते हैं। वे समझते हैं कि वह उनकी संगति में है, लेकिन यह नहीं देखते कि वह व्यक्तिगत रूप से उनके साथ है। लापरवाही से उसे खोने में एक दिन लगता है; लेकिन, जब एक बार खो जाता है, तो कभी-कभी दु:खद खोज के कई दिन लग जाते हैं, जैसा कि यूसुफ और मरियम ने उसे फिर से खोजने में किया था।

20.यीशु को पाकर वह क्या कर रहा था?
“और तीन दिन के बाद उन्होंने उसे मन्दिर में उपदेशकों के बीच में बैठे, उन की सुनते और उन से प्रश्न करते हुए पाया।” (पद 46)।

21.उसके सवालों और जवाबों ने उसके सुननेवालों को कैसे प्रभावित किया?
“और जितने उस की सुन रहे थे, वे सब उस की समझ और उसके उत्तरों से चकित थे।” (पद 47)।

22.शास्त्र किन शब्दों के साथ मसीह के प्रारंभिक जीवन के अभिलेख को समाप्त करता है?
“और यीशु बुद्धि और डील-डौल में और परमेश्वर और मनुष्यों के अनुग्रह में बढ़ता गया॥” (पद 52)।

ध्यान दें:-मसीह का प्रारंभिक जीवन सभी बच्चों और युवाओं के लिए एक आदर्श है। यह उनकी मां के लिए सम्मान और प्यार द्वारा चिह्नित किया गया था। वह अपने माता-पिता के आज्ञाकारी और सभी के प्रति दयालु थे। वह पाप से बैर रखता था, और हर परीक्षा से मुंह फेर लिया। उसने चीजों के कारण को समझने की कोशिश की, और इसलिए ज्ञान और ज्ञान में वृद्धि हुई। वह सहानुभूतिपूर्ण और कोमल-हृदय थे, और उत्पीड़ितों, दुखों और कष्टों को दूर करने के लिए हमेशा तैयार रहते थे। यदि हम मसीह से प्रेम करते हैं, तो हमें उसके बारे में बात करना अच्छा लगेगा; हमारे मधुर विचार उसी के होंगे; और उसे देखने से हम उसी स्वरूप में बदल जाएंगे। इस पुस्तक के अध्याय 20 के प्रश्न 17 पर टिप्पणी देखें।

ध्यान दे: निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है।

सारी स्तुति आपको, अनंत परमेश्वर,
मांस और लहू के वेश में पहने;
आपके सिंहासन के लिए चरनी चुनना,
जबकि सारे संसार केवल आपके ही है!

एक बार आकाश आपके सम्मुख झुके;
एक कुंवारी की गोद में अब आप हैं:
स्वर्गदुत, जिन्होंने आप में किया आनन्दित,
अब उस शिशु की आवाज सुनो..

एक छोटा बच्चा, आप हमारे मेहमान है,
जो थके हुए हैं वे आप में विश्राम करें;
दीन और हीन आपका जन्म है,
कि हम पृथ्वी से स्वर्ग में उठें।

अँधेरी रात में आप आते है
हमें ज्योति की सन्तान बनाने के लिए;
हमें ईश्वरीय लोकों में बनाने के लिए,
अपने चारों ओर अपने स्वर्गदूतों की तरह चमकते हैं।

यह सब आपके प्रेम ने हमारे लिए किया है;
इसी के द्वारा हमारा जीवन जीत जाता है;
इसके लिए हम अपने हंसमुख लय को धुनते हैं,
और स्तुति के गीतों में हमारा धन्यवाद बताते हैं।

मार्टिन लूथर

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)