(30) वर्तमान सत्य

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1.मनुष्यों को किसके द्वारा पवित्र किया जाता है?
“सत्य के द्वारा उन्हें पवित्र कर: तेरा वचन सत्य है।” (यूहन्ना 17:17)।

2.परमेश्वर सभी मनुष्यों को किस ज्ञान की ओर ले आता?
“वह यह चाहता है, कि सब मनुष्यों का उद्धार हो; और वे सत्य को भली भांति पहिचान लें।” (1 तीमुथियुस 2:4)।

3.सत्य का ज्ञान प्राप्त करने के बाद, उसके द्वारा पवित्र किए जाने के लिए व्यक्ति को क्या करना चाहिए?
“पर हे भाइयो, और प्रभु के प्रिय लोगो चाहिये कि हम तुम्हारे विषय में सदा परमेश्वर का धन्यवाद करते रहें, कि परमेश्वर ने आदि से तुम्हें चुन लिया; कि आत्मा के द्वारा पवित्र बन कर, और सत्य की प्रतीति करके उद्धार पाओ।” (2 थिस्सलुनीकियों 2:13)।

4.और केवल सत्य में विश्वास के अलावा और क्या आवश्यक है?
“और परमेश्वर पिता के भविष्य ज्ञान के अनुसार, आत्मा के पवित्र करने के द्वारा आज्ञा मानने, और यीशु मसीह के लोहू के छिड़के जाने के लिये चुने गए हैं। तुम्हें अत्यन्त अनुग्रह और शान्ति मिलती रहे॥” (1 पतरस 1:2)।

5.सच्चाई की आज्ञा मानने का क्या असर होता है?
“सो जब कि तुम ने भाईचारे की निष्कपट प्रीति के निमित्त सत्य के मानने से अपने मनों को पवित्र किया है, तो तन मन लगा कर एक दूसरे से अधिक प्रेम रखो।” (पद 22)।

6.सच्चाई की हमेशा कदर कैसे करनी चाहिए?
“सच्चाई को मोल लेना, बेचना नहीं; और बुद्धि और शिक्षा और समझ को भी मोल लेना।” (नीतिवचन 23:23)।

ध्यान दें:-अर्थात सत्य को किसी भी त्याग या कीमत पर खरीदें और किसी भी कीमत न बेचें।

7.क्या बाइबल पहचानती है जिसे “वर्तमान सत्य” कहा जा सकता है?
“इसलिये यद्यपि तुम ये बातें जानते हो, और जो सत्य वचन तुम्हें मिला है, उस में बने रहते हो, तौभी मैं तुम्हें इन बातों की सुधि दिलाने को सर्वदा तैयार रहूंगा।” (2 पतरस 1:12)।

ध्यान दें:-कुछ सत्य सभी युगों में लागू होते हैं, और इसलिए हर पीढ़ी के लिए वर्तमान सत्य हैं; अन्य एक विशेष चरित्र के हैं, और केवल एक पीढ़ी के लिए लागू होते हैं। हालांकि, इस वजह से वे कम महत्वपूर्ण नहीं हैं; क्योंकि उनकी स्वीकृति या अस्वीकृति उस पीढ़ी के लोगों की मुक्ति या हानि पर निर्भर करती है। इस प्रकार का नूह का आनेवाले जलप्रलय का सन्देश था। जिस पीढ़ी को यह प्रचार किया गया था कि वह संदेश वर्तमान सत्य था; बाद की पीढ़ियों के लिए यह अतीत का सत्य रहा है, न कि वर्तमान, परीक्षा संदेश। इसी तरह, अगर यूहन्ना बपतिस्मा देनवाले का मसीहा के पहले आगमन का संदेश, यूहन्ना के समय से पहले या बाद में पीढ़ी में घोषित किया गया था, तो यह लागू नहीं होता – वर्तमान सत्य नहीं होता। इससे पहले की पीढ़ी के लोग इसे पूरा होते हुए देखने के लिए जीवित नहीं रहे होंगे, और इसके बाद रहने वालों के लिए यह गलत समय होगा। प्रेम, विश्वास, आशा, पश्चाताप, आज्ञाकारिता, न्याय और दया जैसे सामान्य सत्यों के साथ ऐसा नहीं है। ये हमेशा मौसम में होते हैं, और हर समय एक बचाव प्रकृति के होते हैं। वर्तमान सत्य, हालांकि, हमेशा इन सभी को शामिल करते हैं, और इसलिए चरित्र में बचाव करते रहे हैं, और महत्वपूर्ण महत्व के हैं।

8.नूह के दिनों के लिए खास संदेश क्या था?
13 तब परमेश्वर ने नूह से कहा, सब प्राणियों के अन्त करने का प्रश्न मेरे साम्हने आ गया है; क्योंकि उनके कारण पृथ्वी उपद्रव से भर गई है, इसलिये मैं उन को पृथ्वी समेत नाश कर डालूंगा। 14 इसलिये तू गोपेर वृक्ष की लकड़ी का एक जहाज बना ले, उस में कोठरियां बनाना, और भीतर बाहर उस पर राल लगाना।” (उत्पति 6:13,14)।

9.नूह ने इस संदेश में अपना विश्वास कैसे दिखाया?
“विश्वास ही से नूह ने उन बातों के विषय में जो उस समय दिखाई न पड़ती थीं, चितौनी पाकर भक्ति के साथ अपने घराने के बचाव के लिये जहाज बनाया, और उसके द्वारा उस ने संसार को दोषी ठहराया; और उस धर्म का वारिस हुआ, जो विश्वास से होता है।” (इब्रानियों 11:7)।

10.जहाज में कितनों को बचाया गया?
“जिन्होंने उस बीते समय में आज्ञा न मानी जब परमेश्वर नूह के दिनों में धीरज धर कर ठहरा रहा, और वह जहाज बन रहा था, जिस में बैठकर थोड़े लोग अर्थात आठ प्राणी पानी के द्वारा बच गए।” (1 पतरस 3:20)।

ध्यान दें:-निःसंदेह बहुत से लोग जो बाढ़ में खो गए थे, नाममात्र के रूप में, ईश्वर में विश्वास करने के लिए; परन्तु नूह के विशेष सन्देश से इस बात की सच्चाई की परीक्षा हुई; और उनके विश्वास और उसके विश्वास के बीच का अंतर स्पष्ट हो गया जब उन्होंने उस समय के लिए बचाने वाले सत्य को अस्वीकार कर दिया, – आने वाली बाढ़ के बारे में चेतावनी संदेश।

11.नीनवे के लिए योना को क्या विशेष संदेश दिया गया था?
तब योना यहोवा के वचन के अनुसार नीनवे को गया। नीनवे एक बहुत बड़ा नगर था, वह तीन दिन की यात्रा का था। और योना ने नगर में प्रवेश कर के एक दिन की यात्रा पूरी की, और यह प्रचार करता गया, अब से चालीस दिन के बीतने पर नीनवे उलट दिया जाएगा।” (योना 3:3,4)।

12.किस बात ने लोगों को उखाड़ फेंकने की भविष्यद्वाणी से बचाया?
तब नीनवे के मनुष्यों ने परमेश्वर के वचन की प्रतीति की; और उपवास का प्रचार किया गया और बड़े से ले कर छोटे तक सभों ने टाट ओढ़ा।
तब यह समाचार नीनवे के राजा के कान में पहुंचा; और उसने सिंहासन पर से उठ, अपना राजकीय ओढ़ना उतार कर टाट ओढ़ लिया, और राख पर बैठ गया।
और राजा ने प्रधानों से सम्मति ले कर नीनवे में इस आज्ञा का ढींढोरा पिटवाया, कि क्या मनुष्य, क्या गाय-बैल, क्या भेड़-बकरी, या और पशु, कोई कुछ भी न खाएं; वे ने खांए और न पानी पीवें।
और मनुष्य और पशु दोनों टाट ओढ़ें, और वे परमेश्वर की दोहाई चिल्ला-चिल्ला कर दें; और अपने कुमार्ग से फिरें; और उस उपद्रव से, जो वे करते हैं, पश्चाताप करें।
सम्भव है, परमेश्वर दया करे और अपनी इच्छा बदल दे, और उसका भड़का हुआ कोप शान्त हो जाए और हम नाश होने से बच जाएं॥
10 जब परमेश्वर ने उनके कामों को देखा, कि वे कुमार्ग से फिर रहे हैं, तब परमेश्वर ने अपनी इच्छा बदल दी, और उनकी जो हानि करने की ठानी थी, उसको न किया॥” (पद 5-10; देखें यिर्मयाह 18:7-10)।

ध्यान दें:-तो इसी तरह परमेश्वर ने नूह का संदेश प्राप्त किया था, और उनके बुरे तरीकों से मुड़कर बाढ़-पूर्व की दुनिया को बख्शा था।

13.यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले का विशेष मिशन क्या था?
एक मनुष्य परमेश्वर की ओर से आ उपस्थित हुआ जिस का नाम यूहन्ना था। यह गवाही देने आया, कि ज्योति की गवाही दे, ताकि सब उसके द्वारा विश्वास लाएं।” (यूहन्ना 1:6,7)।

14.अपने मिशन के बारे में पूछे जाने पर उसने क्या जवाब दिया?
“उस ने कहा, मैं जैसा यशायाह भविष्यद्वक्ता ने कहा है, जंगल में एक पुकारने वाले का शब्द हूं कि तुम प्रभु का मार्ग सीधा करो।” (पद 23)।

15.यूहन्ना के संदेश को ठुकरानेवालों के बारे में मसीह ने क्या कहा?
“पर फरीसियों और व्यवस्थापकों ने उस से बपतिस्मा न लेकर परमेश्वर की मनसा को अपने विषय में टाल दिया।” (लुका 7:30)।

16.यूहन्ना से बपतिस्मा लेनेवालों ने क्या किया?
“और सब साधारण लोगों ने सुनकर और चुंगी लेने वालों ने भी यूहन्ना का बपतिस्मा लेकर परमेश्वर को सच्चा मान लिया।” (पद 29)।

ध्यान दें:-अर्थात उन्होंने इस कार्य से ईश्वर का सम्मान किया, जिसने उस समय के लिए उनके सत्य में विश्वास दिखाया।

17.क्या परमेश्वर के चुने हुए लोगों ने मसीह के आने पर उसे ग्रहण किया?
“वह अपने घर आया और उसके अपनों ने उसे ग्रहण नहीं किया।” (यूहन्ना 1:11)।

18.उन्होंने उसे ग्रहण न करने का क्या कारण बताया?
“हम जानते हैं कि परमेश्वर ने मूसा से बातें कीं; परन्तु इस मनुष्य को नहीं जानते की कहां का है।” (यूहन्ना 9:29)।

ध्यान दें:-वह परेशानी थी; उन्हें किसी नई बात पर विश्वास नहीं था। वे जानते थे कि परमेश्वर ने मूसा के द्वारा बात की थी: उस पर विश्वास करने के लिए थोड़े विश्वास की आवश्यकता थी। उन्होंने उसे स्वीकार करने में पूरी तरह से सुरक्षित महसूस किया, क्योंकि हर चीज ने प्रदर्शित किया था कि वह परमेश्वर का भेजा हुआ था। यह सब देख सकते थे। लेकिन यहाँ एक था, हालाँकि वह मूसा और भविष्यद्वक्ताओं की भविष्यद्वाणियों को पूरा करने के लिए आया था, जो उनके लंबे समय से खोजे गए मसीहा के रूप में थे, उन्होंने महसूस किया कि स्वीकार करने में जोखिम था, क्योंकि वे उससे संबंधित भविष्यद्वाणियों को नहीं समझते थे, और समय ने उनकी संतुष्टि के लिए उनके दावों की सत्यता के अनुरूप काम नहीं किया था। मसीह को स्वीकार करने के लिए, दृष्टि से चलने की उनकी इच्छा के विपरीत, इसके लिए बहुत अधिक विश्वास की आवश्यकता थी। इसने कुछ चीजों में विचारों में बदलाव और जीवन में सुधार का भी आह्वान किया। इसलिए उन्होंने उसे अस्वीकार कर दिया। उन्होंने जलप्रलय में विश्वास किया, जिस विश्वास में नूह को बचाया था; उन्होंने एलिय्याह पर भी विश्वास किया, और सब भविष्यद्वक्ताओं पर विश्वास किया; लेकिन जब उनके समय के लिए इस विशेष सत्य की बात आई, तो उन्होंने इसे स्वीकार करने से इनकार कर दिया। इस प्रकार यह सभी युगों में रहा है, और इस प्रकार हम उम्मीद कर सकते हैं कि यह अंत तक बना रहेगा।

19.मसीह ने कैसे कहा कि जिन्होंने उसे अस्वीकार कर दिया, वे तर्क करते हैं?
29 हे कपटी शास्त्रियों, और फरीसियों, तुम पर हाय; तुम भविष्यद्वक्ताओं की कब्रें संवारते और धमिर्यों की कब्रें बनाते हो। 30 और कहते हो, कि यदि हम अपने बाप-दादों के दिनों में होते तो भविष्यद्वक्ताओं की हत्या में उन के साझी न होते।” (मत्ती 23:29,30)।

ध्यान दें:- जबकि उन्होंने उन भविष्यद्वक्ताओं को मारने में अपने पिता की कार्रवाई की निंदा की, जिन्हें परमेश्वर ने उन समय के लिए लागू होने वाली फटकार और चेतावनी के संदेश के साथ भेजा था, उन्होंने जल्द ही अपने पिता के अधर्म के उपाय-परमेश्वर के पुत्र को मार डाला। .इससे पता चलता है कि उन्होंने वैसा ही किया होगा जैसा उनके पिता अपने दिनों में करते थे। इस प्रकार हम देखते हैं कि वर्तमान सत्य की परीक्षा ले रहे हैं।

20.यहूदियों द्वारा मसीह को स्वीकार न करने का क्या परिणाम हुआ?
41 जब वह निकट आया तो नगर को देखकर उस पर रोया। 42 और कहा, क्या ही भला होता, कि तू; हां, तू ही, इसी दिन में कुशल की बातें जानता, परन्तु अब वे तेरी आंखों से छिप गई हैं।” (लूका 19:41,42)। देखो, तुम्हारा घर तुम्हारे लिये उजाड़ छोड़ा जाता है।” (मत्ती 23:38)।

21.क्या अंत के दिनों के लिए कोई विशेष संदेश होना चाहिए?
44 इसलिये तुम भी तैयार रहो, क्योंकि जिस घड़ी के विषय में तुम सोचते भी नहीं हो, उसी घड़ी मनुष्य का पुत्र आ जाएगा। 45 सो वह विश्वासयोग्य और बुद्धिमान दास कौन है, जिसे स्वामी ने अपने नौकर चाकरों पर सरदार ठहराया, कि समय पर उन्हें भोजन दे?” (मत्ती 24:44,45)।

ध्यान दें:-अंतिम दिनों में एक संदेश होगा जो लोगों के लिए “उचित मौसम में भोजन” होगा। यह प्रभु के शीघ्र आने के विषय में चेतावनी होनी चाहिए, और उससे मिलने के लिए आवश्यक तैयारी होनी चाहिए। क्योंकि, ऐसा संदेश हमेशा प्रचारित नहीं किया गया था, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि इसे अब घोषित नहीं किया जाना है। हॉलैंड से अमेरिका के लिए प्रस्थान करने वाले तीर्थयात्रियों के लिए अपने विदाई संबोधन में, जॉन रॉबिन्सन ने कहा: “प्रभु जानता है कि क्या मैं आपके चेहरे को और अधिक देखूंगा; परन्तु चाहे प्रभु अभिषिक्त करे या न करे, मैं आपको परमेश्वर और उसके धन्य दूतों के साम्हने आज्ञा देता हूं, कि जितना मैं मसीह का अनुसरण कर चुका हूं, उससे कहीं अधिक मेरे पीछे न हो। यदि परमेश्वर किसी अन्य साधन या उसके द्वारा आप पर कुछ भी प्रकट करे, तो उसे प्राप्त करने के लिए उतने ही तैयार रहें जितना कि आप मेरी सेवकाई द्वारा किसी भी सत्य को प्राप्त करने के लिए तैयार थे; क्योंकि मुझे पूरा विश्वास है कि प्रभु के पास अपने पवित्र वचन से और अधिक सच्चाई और ज्योति अभी निकलनी है। अपने हिस्से के लिए, मैं सुधारित चर्चों की स्थिति पर पर्याप्त रूप से शोक नहीं कर सकता, जो धर्म में एक अवधि में आ गए हैं, और उनके सुधार के उपकरणों से आगे नहीं जाएंगे। लूथर ने जो देखा उससे कहीं आगे जाने के लिए लूथरन को आकर्षित नहीं किया जा सकता है; और केल्विनवादी, तुम देखते हो, परमेश्वर के उस महान व्यक्ति द्वारा छोड़े गए जहां वे छोड़े गए थे, जहां उन्होंने सब कुछ नहीं देखा था। यह बहुत दुख की बात है। क्‍योंकि वे अपने समय में जलते और दीप्तिमान थे, तौभी वे परमेश्वर की सारी युक्ति को न समझ पाए, वरन अब जीवित रहते, और उस ज्योति को ग्रहण करने के लिए तैयार होते, जो उन्होंने पहिले प्राप्त की थी।”

22.मसीह उस सेवक के बारे में क्या कहता है, जो आने पर, “समय पर भोजन” देते पाया जाता है?
“धन्य है, वह दास, जिसे उसका स्वामी आकर ऐसा की करते पाए।” (पद 46)।

ध्यान दें::-मसीह का महिमा में आना सभी युगों में विश्वासियों की आशा रहा है।

  • लूथर ने घोषणा की: “मैं ने अपने आप को सच्‍चाई से समझा लिया है, कि न्याय का दिन पूरे तीन सौ वर्ष तक नहीं रहेगा। परमेश्वर इस दुष्ट संसार को अधिक समय तक सहन नहीं करेगा, नहीं कर सकता। वह महान दिन निकट आ रहा है, जिसमें घिनौने राज्य को उखाड़ फेंका जाएगा।”
  • मेलानक्थॉन ने कहा: “यह वृद्ध दुनिया अपने अंत से दूर नहीं है।”
    केल्विन ने मसिहियों को “झिझकने की नहीं, जोश से मसीह के आने के दिन को सभी घटनाओं के रूप में सबसे शुभ माना;” और घोषणा की कि “उस दिन विश्वासियों का सारा मानव परिवार ध्यान में रखेगा।” “हमें मसीह के लिए भूखा होना चाहिए, हमें खोजना चाहिए, चिंतन करना चाहिए,” वह आगे कहते हैं, “उस महान दिन की शुरुआत तक, जब हमारे प्रभु अपने राज्य की महिमा को पूरी तरह से प्रकट करेंगे।”
  • स्कॉच सुधारक, नॉक्स ने कहा: “क्या हमारे प्रभु यीशु ने हमारे शरीर को स्वर्ग में नहीं उठाया है? और क्या वह नहीं लौटेगा? हम जानते हैं कि वह लौटेगा, और वह भी शीघ्रता से।”
  • रिडले और लैटिमर, जिन्होंने सत्य के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी, ने प्रभु के आगमन के लिए विश्वास में देखा। रिडले ने लिखा: “बिना किसी संदेह के दुनिया – यह मैं मानता हूं, और इसलिए मैं इसे कहता हूं – अंत की ओर जाता है।”
  • बैक्सटर ने कहा: “प्रभु के आने के विचार मेरे लिए सबसे मधुर और हर्षित हैं। उनके प्रकट होने से प्यार करना और उस धन्य आशा की तलाश करना उनके संतों के विश्वास और चरित्र का काम है।”

23.समापन सुसमाचार संदेश का बोझ क्या होगा?
और उस ने बड़े शब्द से कहा; परमेश्वर से डरो; और उस की महिमा करो; क्योंकि उसके न्याय करने का समय आ पहुंचा है, और उसका भजन करो, जिस ने स्वर्ग और पृथ्वी और समुद्र और जल के सोते बनाए॥
फिर इस के बाद एक और दूसरा स्वर्गदूत यह कहता हुआ आया, कि गिर पड़ा, वह बड़ा बाबुल गिर पड़ा जिस ने अपने व्यभिचार की कोपमय मदिरा सारी जातियों को पिलाई है॥
फिर इन के बाद एक और स्वर्गदूत बड़े शब्द से यह कहता हुआ आया, कि जो कोई उस पशु और उस की मूरत की पूजा करे, और अपने माथे या अपने हाथ पर उस की छाप ले।
10 तो वह परमेश्वर का प्रकोप की निरी मदिरा जो उसके क्रोध के कटोरे में डाली गई है, पीएगा और पवित्र स्वर्गदूतों के साम्हने, और मेम्ने के साम्हने आग और गन्धक की पीड़ा में पड़ेगा।” (प्रकाशितवाक्य 14:7-10)।

24.उनका वर्णन कैसे किया गया है जो इस संदेश को स्वीकार करते हैं?
“पवित्र लोगों का धीरज इसी में है, जो परमेश्वर की आज्ञाओं को मानते, और यीशु पर विश्वास रखते हैं॥” (पद 12)।

25.इस काम पर कितनी गंभीरता से मुकदमा चलाया जाना है?
“स्वामी ने दास से कहा, सड़कों पर और बाड़ों की ओर जाकर लोगों को बरबस ले ही आ ताकि मेरा घर भर जाए।” (लूका 14:23)।

ध्यान दें:- यह कार्य अभी चल रहा है। दुनिया के हर हिस्से में इस समापन सुसमाचार संदेश की आवाज सुनी जा रही है, और लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि वे इसे स्वीकार करें, और मसीह के आने और राज्य की तैयारी करें। इस पुस्तक के अध्याय 56, 57, और 58 में देखें।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)