(29) उचित सिद्धांत का महत्व

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

उचित सिद्धांत का महत्व

1.क्या कोई मायने रखता है कि कोई क्या मानता है, जब तक वह ईमानदार है?
“पर हे भाइयो, और प्रभु के प्रिय लोगो चाहिये कि हम तुम्हारे विषय में सदा परमेश्वर का धन्यवाद करते रहें, कि परमेश्वर ने आदि से तुम्हें चुन लिया; कि आत्मा के द्वारा पवित्र बन कर, और सत्य की प्रतीति करके उद्धार पाओ।” (2 थिस्सलुनीकियों 2:13)।

ध्यान दें:- सिद्धांत जीवन को प्रभावित करता है। सत्य जीवन और ईश्वर की ओर ले जाता है; त्रुटि मृत्यु और विनाश की ओर। कोई यह कहने के बारे में नहीं सोचेगा कि यह मायने नहीं रखता कि कोई किस परमेश्वर की उपासना करता है, जब तक कि वह यह कहने से ज्यादा ईमानदार है कि वह क्या खाता है या क्या पीता है, जब तक कि वह जो खाता और पीता है उसका आनंद लेता है; या वह किस मार्ग पर जाता है, जब तक वह सोचता है कि वह सही मार्ग पर है। ईमानदारी एक गुण है; लेकिन यह उचित सिद्धांत की परीक्षा नहीं है। परमेश्वर चाहता है कि हम सत्य को जानें, और उसने ऐसी व्यवस्था की है जिससे हम जान सकें कि सत्य क्या है।

2.क्या यहोशू ने परमेश्वर इस्राएल की सेवा को महत्वहीन समझा?
14 इसलिये अब यहोवा का भय मानकर उसकी सेवा खराई और सच्चाई से करो; और जिन देवताओं की सेवा तुम्हारे पुरखा महानद के उस पार और मिस्र में करते थे, उन्हें दूर करके यहोवा की सेवा करो। 15 और यदि यहोवा की सेवा करनी तुम्हें बुरी लगे, तो आज चुन लो कि तुम किस की सेवा करोगे, चाहे उन देवताओं की जिनकी सेवा तुम्हारे पुरखा महानद के उस पार करते थे, और चाहे एमोरियों के देवताओं की सेवा करो जिनके देश में तुम रहते हो; परन्तु मैं तो अपने घराने समेत यहोवा की सेवा नित करूंगा।” (यहोशू 24:14,15)।

ध्यान दें:-सभी मूर्तिपूजा का प्रभाव अपमानजनक है। देखें रोमियों 1:21-32; गिनती 15; 1 कुरीं 10:20; 1 यूहन्ना 5:21)।

3.हम किसी भी सिद्धांत की सच्चाई का पता कैसे लगा सकते हैं?
“सब बातों को परखो: जो अच्छी है उसे पकड़े रहो।” (1 थिस्सलुनीकियों 5:21)।

4.हमें किसके द्वारा सभी सिद्धांतों की जांच करनी चाहिए, या सिद्ध करना चाहिए?
“व्यवस्था और चितौनी ही की चर्चा किया करो! यदि वे लोग इस वचनों के अनुसार न बोलें तो निश्चय उनके लिये पौ न फटेगी” (यशायाह 8:20)।

ध्यान दें:-बाइबल सभी सिद्धांतों की जांच है। जो इसके साथ मेल नहीं खाता और सटीक नहीं बैठता है, उसे प्राप्त नहीं करना है। “अनंत के लिए सही और हमेशा के लिए गलत होने का एक ही मानक है, और वह है बाइबल।” – टी डेविट टैल्मेज।

5.हमें किस तरह के सिद्धांतों से सावधान रहना चाहिए?
“ताकि हम आगे को बालक न रहें, जो मनुष्यों की ठग-विद्या और चतुराई से उन के भ्रम की युक्तियों की, और उपदेश की, हर एक बयार से उछाले, और इधर-उधर घुमाए जाते हों।” (इफिसियों 4:14; देखें इब्रानियों 13:9)।

6.”सिद्धांत की लहर” क्या है?
“भविष्यद्वक्ता हवा हो जाएंगे; उन में ईश्वर का वचन नहीं है। उनके साथ ऐसा ही किया जाएगा!” (यिर्मयाह 5:13)।

ध्यान दें:- किसी सिद्धांत को सिद्धांत की लहर कहने से वह ऐसा नहीं हो जाता। यह सिद्धांत की लहर है जो परमेश्वर के वचन द्वारा कायम नहीं है।

7.सभी शास्त्र किस लिए लाभदायक हैं?
“हर एक पवित्रशास्त्र परमेश्वर की प्रेरणा से रचा गया है और उपदेश, और समझाने, और सुधारने, और धर्म की शिक्षा के लिये लाभदायक है।” (2 तीमुथियुस 3:16)।

8.सुसमाचार प्रचार की तैयारी करते समय तीमुथियुस को क्या सलाह दी गई?
13 जब तक मैं न आऊं, तब तक पढ़ने और उपदेश और सिखाने में लौलीन रह।
14 उस वरदान से जो तुझ में है, और भविष्यद्वाणी के द्वारा प्राचीनों के हाथ रखते समय तुझे मिला था, निश्चिन्त न रह।
15 उन बातों को सोचता रह, और इन्हीं में अपना ध्यान लगाए रह ताकि तेरी उन्नति सब पर प्रगट हो। अपनी और अपने उपदेश की चौकसी रख।
16 इन बातों पर स्थिर रह, क्योंकि यदि ऐसा करता रहेगा, तो तू अपने, और अपने सुनने वालों के लिये भी उद्धार का कारण होगा॥” (1 तीमुथियुस 4:13-16)।

9.उसके सार्वजनिक कार्य के संबंध में उसे कौन-सा गंभीर प्रभार दिया गया था?
“परमेश्वर और मसीह यीशु को गवाह कर के, जो जीवतों और मरे हुओं का न्याय करेगा, उसे और उसके प्रगट होने, और राज्य को सुधि दिलाकर मैं तुझे चिताता हूं। कि तू वचन को प्रचार कर; समय और असमय तैयार रह, सब प्रकार की सहनशीलता, और शिक्षा के साथ उलाहना दे, और डांट, और समझा।” (2 तीमुथियुस 4:1,2)।

10.प्रेरित ने क्यों कहा कि यह कर्तव्य इतना अनिवार्य था?
क्योंकि ऐसा समय आएगा, कि लोग खरा उपदेश न सह सकेंगे पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाषाओं के अनुसार अपने लिये बहुतेरे उपदेशक बटोर लेंगे। और अपने कान सत्य से फेरकर कथा-कहानियों पर लगाएंगे।” (पद 3,4)।

11.तीतुस को भी ऐसी ही क्या हिदायत दी गयी थी?
“पर तू ऐसी बातें कहा कर, जो खरे उपदेश के योग्य हैं।
अर्थात बूढ़े पुरूष, सचेत और गम्भीर और संयमी हों, और उन का विश्वास और प्रेम और धीरज पक्का हो।
इसी प्रकार बूढ़ी स्त्रियों का चाल चलन पवित्र लोगों सा हो, दोष लगाने वाली और पियक्कड़ नहीं; पर अच्छी बातें सिखाने वाली हों।
ताकि वे जवान स्त्रियों को चितौनी देती रहें, कि अपने पतियों और बच्चों से प्रीति रखें।
और संयमी, पतिव्रता, घर का कारबार करने वाली, भली और अपने अपने पति के आधीन रहने वाली हों, ताकि परमेश्वर के वचन की निन्दा न होने पाए।
ऐसे ही जवान पुरूषों को भी समझाया कर, कि संयमी हों।
सब बातों में अपने आप को भले कामों का नमूना बना: तेरे उपदेश में सफाई, गम्भीरता” (तीतुस 2:1-7)।

12.उचित सिद्धांत से वफादार शिक्षक क्या कर पाएगा?
“और विश्वासयोग्य वचन पर जो धर्मोपदेश के अनुसार है, स्थिर रहे; कि खरी शिक्षा से उपदेश दे सके; और विवादियों का मुंह भी बन्द कर सके॥” (तीतुस 1:9)।

13.झूठे सिद्धांत की शिक्षा में कौन-सा ख़तरा है?
“जो यह कह कर कि पुनरुत्थान हो चुका है सत्य से भटक गए हैं, और कितनों के विश्वास को उलट पुलट कर देते हैं।” (2 तीमुथियुस 2:18)।

14.यीशु के चेले कौन हैं, और जो सत्य उसे ग्रहण करते हैं, उन पर वह कौन-सा अनुग्रह का काम करता है?
31 तब यीशु ने उन यहूदियों से जिन्हों ने उन की प्रतीति की थी, कहा, यदि तुम मेरे वचन में बने रहोगे, तो सचमुच मेरे चेले ठहरोगे। 32 और सत्य को जानोगे, और सत्य तुम्हें स्वतंत्र करेगा।” यूहन्ना 8:31,32)।

15.उन्हें किसके द्वारा पवित्र किया जाना है?
“यीशु ने उत्तर दिया, कि हे अविश्वासी और हठीले लोगों मैं कब तक तुम्हारे साथ रहूंगा? कब तक तुम्हारी सहूंगा? उसे यहां मेरे पास लाओ।” (यूहन्ना 17:17)।

16.झूठी शिक्षा से किस प्रकार की उपासना का परिणाम होता है?
“और ये व्यर्थ मेरी उपासना करते हैं, क्योंकि मनुष्यों की विधियों को धर्मोपदेश करके सिखाते हैं।” (मत्ती 15:9)।

17.क्या हम सत्य की ओर कान लगाकर परमेश्वर के साम्हने निर्दोष बने रह सकते हैं?
“जो अपना कान व्यवस्था सुनने से फेर लेता है, उसकी प्रार्थना घृणित ठहरती है।” (नीतिवचन 28:9)।

18.जो लोग परमेश्वर की इच्छा पूरी करना चाहते हैं, उनके बारे में मसीह ने क्या कहा?
“यदि कोई उस की इच्छा पर चलना चाहे, तो वह इस उपदेश के विषय में जान जाएगा कि वह परमेश्वर की ओर से है, या मैं अपनी ओर से कहता हूं।” (यूहन्ना 7:17; देखें भजन संहिता 25:9; यूहन्ना 8:12)।

19.सत्य को ठुकरानेवालों के पास परमेश्वर क्या आने देगा?
10 और नाश होने वालों के लिये अधर्म के सब प्रकार के धोखे के साथ होगा; क्योंकि उन्होंने सत्य के प्रेम को ग्रहण नहीं किया जिस से उन का उद्धार होता। 11 और इसी कारण परमेश्वर उन में एक भटका देने वाली सामर्थ को भेजेगा ताकि वे झूठ की प्रतीति करें। 12 और जितने लोग सत्य की प्रतीति नहीं करते, वरन अधर्म से प्रसन्न होते हैं, सब दण्ड पाएं॥” (2 थिस्सलुनीकियों 2:10-12)।

20.अंत के दिनों में कुछ लोगों को किन सिद्धांतों के द्वारा गुमराह किया जाना है?
“परन्तु आत्मा स्पष्टता से कहता है, कि आने वाले समयों में कितने लोग भरमाने वाली आत्माओं, और दुष्टात्माओं की शिक्षाओं पर मन लगाकर विश्वास से बहक जाएंगे।” (1 तीमुथियुस 4:1; देखें 2 पतरस 2:1)।

21.अंधे शिक्षकों और उनके अनुयायियों का क्या भाग्य है?
“उन को जाने दो; वे अन्धे मार्ग दिखाने वाले हैं: और अन्धा यदि अन्धे को मार्ग दिखाए, तो दोनों गड़हे में गिर पड़ेंगे।” (मत्ती 15:14)।

22.स्वर्गीय नगर के फाटक अन्त में किसके लिये खोल दिये जायेंगे?
“फाटकों को खोलो कि सच्चाई का पालन करने वाली एक धर्मी जाति प्रवेश करे।” (यशायाह 26:2; देखें प्रकाशितवाक्य 22:14)।  

सत्य वह रत्न है जिसकी हमें तलाश है,
हे हमें बताओ कि वह कहाँ मिलेगा!
इसके लिए हम खोजते हैं, और प्रार्थना करते हैं, और रोते हैं,
वह सत्य हमारे हृदय में व्याप्त हो सकता है।

हम हर बिंदु पर सच्चाई चाहते हैं,
हम चाहते हैं कि यह सब अभ्यास करे;
हे यहोवा, तू हमारी आंखों का अभिषेक कर
ऊपर से एक ताज़े जुड़ाव के साथ।

(शार्लोट हास्किन्स)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)