(26) पवित्रीकरण

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

पवित्रीकरण

1.जब राजा हिजकिय्याह ने मन्दिर की उपासना को फिर से स्थापित किया, तो उसने कौन-सी भेंट चढ़ाने की आज्ञा दी?
“तब हिजकिय्याह ने वेदी पर होमबलि चढ़ाने की आज्ञा दी, और जब होमबलि चढ़ने लगी, तब यहोवा का गीत आरम्भ हुआ, और तुरहियां और इस्राएल के राजा दाऊद के बाजे बजने लगे” (2 इतिहास 29:27)।

2.इस सेवा में लोगों के एक होने के बाद, हिजकिय्याह ने इसके अर्थ की व्याख्या कैसे की?
“तब हिजकिय्याह कहने लगा, अब तुम ने यहोवा के निमित्त अपना अर्पण किया है; इसलिये समीप आ कर यहोवा के भवन में मेलबलि और धन्यवादबलि पहुंचाओ। तब मण्डली के लोगों ने मेलबलि और धन्यवादबलि पहुंचा दिए, और जितने अपनी इच्छा से देना चाहते थे उन्होंने भी होमबलि पहुंचाए।” (पद 31)।

ध्यान दें:-सुबह और शाम का होमबलि, या नित्य चढ़ावा (निर्गमन 29:42), लोगों के दैनिक पवित्रीकरण का प्रतीक है।

3.इस पवित्रीकरण द्वारा कैसे सभी मसीहियों के लिए प्रोत्साहित किया जाता है?
“इसलिये हे भाइयों, मैं तुम से परमेश्वर की दया स्मरण दिला कर बिनती करता हूं, कि अपने शरीरों को जीवित, और पवित्र, और परमेश्वर को भावता हुआ बलिदान करके चढ़ाओ: यही तुम्हारी आत्मिक सेवा है।” (रोमियों 12:1)।

4.स्तुति के नित्य बलिदान को क्या घोषित किया गया है?
“इसलिये हम उसके द्वारा स्तुति रूपी बलिदान, अर्थात उन होठों का फल जो उसके नाम का अंगीकार करते हैं, परमेश्वर के लिये सर्वदा चढ़ाया करें।” (इब्रानियों 13:15)।

5.मसीही कलीसिया द्वारा पवित्रीकरण की सेवा को कैसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए?
“तुम भी आप जीवते पत्थरों की नाईं आत्मिक घर बनते जाते हो, जिस से याजकों का पवित्र समाज बन कर, ऐसे आत्मिक बलिदान चढ़ाओ, जो यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर को ग्राह्य हों।” (1 पतरस 2:5)।

6.पूर्ण समर्पण की उदाहरण किसने स्थापित किया?
27 और जो तुम में प्रधान होना चाहे वह तुम्हारा दास बने। 28 जैसे कि मनुष्य का पुत्र, वह इसलिये नहीं आया कि उस की सेवा टहल करी जाए, परन्तु इसलिये आया कि आप सेवा टहल करे और बहुतों की छुडौती के लिये अपने प्राण दे॥” (मत्ती 20:27,28)।

7.यीशु ने अपने भाइयों के बीच कौन-सा पद ग्रहण किया है?
“क्योंकि बड़ा कौन है; वह जो भोजन पर बैठा या वह जो सेवा करता है? क्या वह नहीं जो भोजन पर बैठा है? पर मैं तुम्हारे बीच में सेवक की नाईं हूं।” (लूका 22:27)।

8.मसीह की समानता किसमें निहित है?
“जैसा मसीह यीशु का स्वभाव था वैसा ही तुम्हारा भी स्वभाव हो।” (फिलिपियों 2:5)।

9.मसीह की नम्रता और समर्पण की आत्मा ने उसे क्या करने के लिए प्रेरित किया?
“वरन अपने आप को ऐसा शून्य कर दिया, और दास का स्वरूप धारण किया, और मनुष्य की समानता में हो गया।” (पद 7)।

10.मसीह ने खुद को किस हद तक दीन किया?
“और मनुष्य के रूप में प्रगट होकर अपने आप को दीन किया, और यहां तक आज्ञाकारी रहा, कि मृत्यु, हां, क्रूस की मृत्यु भी सह ली।” (पद 8)।

11.वह हमें उसी पवित्रीकरण के लिए कैसे प्रोत्साहित करता है?
“मेरा जूआ अपने ऊपर उठा लो; और मुझ से सीखो; क्योंकि मैं नम्र और मन में दीन हूं: और तुम अपने मन में विश्राम पाओगे।” (मत्ती 11:29)।

12.वह शिष्यत्व की शर्त क्या बनाता है?
“इसी रीति से तुम में से जो कोई अपना सब कुछ त्याग न दे, तो वह मेरा चेला नहीं हो सकता।” (लूका 14:33)।

13.इसका क्या प्रमाण है कि कोई व्यक्ति मसीह का नहीं है?
“परन्तु जब कि परमेश्वर का आत्मा तुम में बसता है, तो तुम शारीरिक दशा में नहीं, परन्तु आत्मिक दशा में हो। यदि किसी में मसीह का आत्मा नहीं तो वह उसका जन नहीं।” (रोमियों 8:9)।

14.जो मसीह में बने रहने का दावा करता है, उसे कैसे चलना चाहिए?
“सो कोई यह कहता है, कि मैं उस में बना रहता हूं, उसे चाहिए कि आप भी वैसा ही चले जैसा वह चलता था।” (1 यूहन्ना 2:6)।

15.क्या हम अपने हैं?
19 क्या तुम नहीं जानते, कि तुम्हारी देह पवित्रात्मा का मन्दिर है; जो तुम में बसा हुआ है और तुम्हें परमेश्वर की ओर से मिला है, और तुम अपने नहीं हो? 20 क्योंकि दाम देकर मोल लिये गए हो, इसलिये अपनी देह के द्वारा परमेश्वर की महिमा करो॥” (1 कुरीं 6:19,20)।

16.इसलिए हमें क्या करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है?
“क्योंकि दाम देकर मोल लिये गए हो, इसलिये अपनी देह के द्वारा परमेश्वर की महिमा करो॥” (पद 20)।

ध्यान दें:-हमारा समय, शक्ति और साधन ईश्वर का है, और उसकी सेवा के लिए दिया जाना चाहिए।

17.मंदिर में मसिहियों के शरीर क्या हैं?
“क्या तुम नहीं जानते, कि तुम्हारी देह पवित्रात्मा का मन्दिर है; जो तुम में बसा हुआ है और तुम्हें परमेश्वर की ओर से मिला है, और तुम अपने नहीं हो?” (पद 19)।

18.जब सचमुच पवित्र किया जाता है, तो कोई किसके लिए तैयार होता है?
“तब मैं ने प्रभु का यह वचन सुना, मैं किस को भेंजूं, और हमारी ओर से कौन जाएगा? तब मैं ने कहा, मैं यहां हूं! मुझे भेज” (यशायाह 6:8)।

19.सेवा के लिए यह इच्छा अन्यथा कैसे व्यक्त की जाती है?
“देख, जैसे दासों की आंखें अपने स्वामियों के हाथ की ओर, और जैसे दासियों की आंखें अपनी स्वामिनी के हाथ की ओर लगी रहती है, वैसे ही हमारी आंखें हमारे परमेश्वर यहोवा की ओर उस समय तक लगी रहेंगी, जब तक वह हम पर अनुग्रह न करे॥” (भजन संहिता 123:2)।

ध्यान दें:- निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है।

मेरा जीवन ले लो, और होने दो
पवित्र, हे प्रभु, तेरे लिए!
मेरा हाथ ले लो, और उन्हें चलने दो
तेरे प्रेम के आवेग में।

मेरे पैर ले लो, और उन्हें होने दो
आपके लिए तेज और सुंदर;
मेरी आवाज लो, और मुझे गाने दो
हमेशा, केवल मेरे राजा के लिए।

मेरी इच्छा ले लो, और इसे अपना बनाओ:
यह अब मेरा नहीं होगा!
मेरा दिल ले लो,- वो तेरा ही है,-
यह तेरा शाही सिंहासन हो।

(फ्रांसिस रिडले हावेरगल)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)