(24) विश्वास द्वारा धार्मिकता

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1.परमेश्वर की ओर से धार्मिकता का आधार क्या है?
“जिस से हम उसके अनुग्रह से धर्मी ठहरकर, अनन्त जीवन की आशा के अनुसार वारिस बनें।” (तीतुस 3:7)।

2.वह कौन सा साधन है जिसके द्वारा यह धार्मिक अनुग्रह पापी को उपलब्ध कराया जाता है?
“सो जब कि हम, अब उसके लोहू के कारण धर्मी ठहरे, तो उसके द्वारा क्रोध से क्यों न बचेंगे?”(रोमियों 5:9)।

3.धार्मिकता को कैसे रोके रखा जाता है?
“इसलिये हम इस परिणाम पर पहुंचते हैं, कि मनुष्य व्यवस्था के कामों के बिना विश्वास के द्वारा धर्मी ठहरता है।” (रोमियों 3:28)।

4.पापियों के धर्मिकरण या धर्मी ठहराने का एकमात्र तरीका क्या है?
“तौभी यह जानकर कि मनुष्य व्यवस्था के कामों से नहीं, पर केवल यीशु मसीह पर विश्वास करने के द्वारा धर्मी ठहरता है, हम ने आप भी मसीह यीशु पर विश्वास किया, कि हम व्यवस्था के कामों से नहीं पर मसीह पर विश्वास करने से धर्मी ठहरें; इसलिये कि व्यवस्था के कामों से कोई प्राणी धर्मी न ठहरेगा।” (गलातियों 2:16)।

5.कौन-सा ठोस उदाहरण इस सिद्धांत का अर्थ स्पष्ट करता है?
और उसने उसको बाहर ले जाके कहा, आकाश की ओर दृष्टि करके तारागण को गिन, क्या तू उन को गिन सकता है? फिर उसने उससे कहा, तेरा वंश ऐसा ही होगा। उसने यहोवा पर विश्वास किया; और यहोवा ने इस बात को उसके लेखे में धर्म गिना।” (उत्पति 15:5,6)।

6.इस प्रकार प्राप्त की गई धार्मिकता का वर्णन कैसे किया गया है?
“और उस में पाया जाऊं; न कि अपनी उस धामिर्कता के साथ, जो व्यवस्था से है, वरन उस धामिर्कता के साथ जो मसीह पर विश्वास करने के कारण है, और परमेश्वर की ओर से विश्वास करने पर मिलती है।” (फिलिपियों 3:9)।

7.किस आधार पर धार्मिकता दी जाती है?
“और जैसा एक मनुष्य के पाप करने का फल हुआ, वैसा ही दान की दशा नहीं, क्योंकि एक ही के कारण दण्ड की आज्ञा का फैसला हुआ, परन्तु बहुतेरे अपराधों से ऐसा वरदान उत्पन्न हुआ, कि लोग धर्मी ठहरे।” (रोमियों 5:16)।

8.काम करनेवाले को इनाम किस आधार पर मिलता है?
“काम करने वाले की मजदूरी देना दान नहीं, परन्तु हक समझा जाता है।” (रोमियों 4:4)।

9.विश्वास किस शर्त पर धार्मिकता के लिए गिना जाता है?
“परन्तु जो काम नहीं करता वरन भक्तिहीन के धर्मी ठहराने वाले पर विश्वास करता है, उसका विश्वास उसके लिये धामिर्कता गिना जाता है।” (पद  5)।

10.अनुग्रह, धर्मी ठहराने के आधार के रूप में, कामों के द्वारा धार्मिकता को कैसे अलग करता है?
“यदि यह अनुग्रह से हुआ है, तो फिर कर्मों से नहीं, नहीं तो अनुग्रह फिर अनुग्रह नहीं रहा।” (रोमियों 11:6)।

11.यहूदियों और अन्यजातियों दोनों को किस तरह से धर्मी ठहराया जाना चाहिए?
29 क्या परमेश्वर केवल यहूदियों ही का है? क्या अन्यजातियों का नहीं? हां, अन्यजातियों का भी है। 30 क्योंकि एक ही परमेश्वर है, जो खतना वालों को विश्वास से और खतना रहितों को भी विश्वास के द्वारा धर्मी ठहराएगा।” (रोमियों 3:29,30)।

12.कौन-सा कथन अब्राहम के परमेश्वर में विश्वास की गवाही देता है?
20 और न अविश्वासी होकर परमेश्वर की प्रतिज्ञा पर संदेह किया, पर विश्वास में दृढ़ होकर परमेश्वर की महिमा की। 21 और निश्चय जाना, कि जिस बात की उस ने प्रतिज्ञा की है, वह उसे पूरी करने को भी सामर्थी है।” (रोमियों 4:20,21)।

13.इससे उसे क्या मिला?
“इस कारण, यह उसके लिये धामिर्कता गिना गया।” (पद 22)।

14.हम यह वही दी गई धार्मिकता कैसे प्राप्त कर सकते हैं?
23 और यह वचन, कि विश्वास उसके लिये धामिर्कता गिया गया, न केवल उसी के लिये लिखा गया। 24 वरन हमारे लिये भी जिन के लिये विश्वास धामिर्कता गिना जाएगा, अर्थात हमारे लिये जो उस पर विश्वास करते हैं, जिस ने हमारे प्रभु यीशु को मरे हुओं में से जिलाया।” (पद 23,24)।

15.धर्मी ठहरानेवाले विश्वास को मसीह की मृत्यु और पुनरुत्थान दोनों पर क्यों टिका होना चाहिए?
“वह हमारे अपराधों के लिये पकड़वाया गया, और हमारे धर्मी ठहरने के लिये जिलाया भी गया॥” (पद 25; 1 कुरिं 15:17)।

ध्यान दें:-मसीह का पुनरुत्थान, वादा किया गया वंश (गलातियों 3:16), अब्राहम को एक अनगिनत वंश की प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए आवश्यक था; और इसलिए इब्राहीम का परमेश्वर की प्रतिज्ञा में विश्वास, जिसमें पुनरुत्थान भी शामिल था, उसके लिए धार्मिकता गिना गया। उनके विश्वास ने उस पर पकड़ बना ली जिसने अध्यारोपित धार्मिकता को संभव बनाया। (देखें इब्रानियों 11:17-19)।

16.विश्वास द्वारा धर्मी ठहराने के अनुभव से क्या अविभाज्य है?
38 इसलिये, हे भाइयो; तुम जान लो कि इसी के द्वारा पापों की क्षमा का समाचार तुम्हें दिया जाता है। 39 और जिन बातों से तुम मूसा की व्यवस्था के द्वारा निर्दोष नहीं ठहर सकते थे, उन्हीं सब से हर एक विश्वास करने वाला उसके द्वारा निर्दोष ठहरता है।” (प्रेरितों के काम 13:38,39)।

17.मसीह ने विश्वासियों पर धार्मिकता को देना कैसे संभव किया है?
“क्योंकि जैसा एक मनुष्य के आज्ञा न मानने से बहुत लोग पापी ठहरे, वैसे ही एक मनुष्य के आज्ञा मानने से बहुत लोग धर्मी ठहरेंगे।” (रोमियों 5:19)।

18.किस भविष्यद्वाणी की घोषणा ने इस सच्चाई की भविष्यद्वाणी की?
“इस्राएल के सारे वंश के लोग यहोवा ही के कारण धर्मी ठहरेंगे, और उसकी महिमा करेंगे॥” (यशायाह 45:25)।

19.कौन सी अन्य भविष्यद्वाणी उसी महान सत्य का दावा करती है?
“वह अपने प्राणों का दु:ख उठा कर उसे देखेगा और तृप्त होगा; अपने ज्ञान के द्वारा मेरा धर्मी दास बहुतेरों को धर्मी ठहराएगा; और उनके अधर्म के कामों का बोझ आप उठा लेगा।” (यशायाह 53:11)।

20.मसीह की दी गई धार्मिकता परमेश्वर को क्या करने और फिर भी धर्मी होने के योग्य बनाती है?
“वरन इसी समय उस की धामिर्कता प्रगट हो; कि जिस से वह आप ही धर्मी ठहरे, और जो यीशु पर विश्वास करे, उसका भी धर्मी ठहराने वाला हो।” (रोमियों 3:26)।

21.मसीह को उचित रूप से किस नाम से पुकारा जाता है?
यहोवा की यह भी वाणी है, देख ऐसे दिन आते हैं जब मैं दाऊद के कुल में एक धमीं अंकुर उगाऊंगा, और वह राजा बनकर बुद्धि से राज्य करेगा, और अपने देश में न्याय और धर्म से प्रभुता करेगा। उसके दिनों में यहूदी लोग बचे रहेंगे, और इस्राएली लोग निडर बसे रहेंगे: और यहोवा उसका नाम यहोवा “हमारी धामिर्कता” रखेगा” (यिर्मयाह 23:5,6)।

22.मसीह को हमारी धार्मिकता के रूप में स्वीकार करने के बाद कौन-सा धन्य अनुभव होता है?
“सोजब हम विश्वास से धर्मी ठहरे, तो अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर के साथ मेल रखें।” (रोमियों 5:1)।

23.इस प्रकार मसीह विश्वासी के लिए क्या बनता है?
“क्योंकि वही हमारा मेल है, जिस ने दोनों को एक कर लिया: और अलग करने वाली दीवार को जो बीच में थी, ढा दिया।” (इफिसियों 2:14)।

24.किस आधार पर पापी के लिए धार्मिकता की कोई संभावना नहीं है?
“क्योंकि व्यवस्था के कामों से कोई प्राणी उसके साम्हने धर्मी नहीं ठहरेगा, इसलिये कि व्यवस्था के द्वारा पाप की पहिचान होती है।” (रोमियों 3:20)।

25.मसीह की मृत्यु कैसे इस बात की गवाही देती है?
“मैं परमेश्वर के अनुग्रह को व्यर्थ नहीं ठहराता, क्योंकि यदि व्यवस्था के द्वारा धामिर्कता होती, तो मसीह का मरना व्यर्थ होता॥” (गलातियों  2:21)।

26.व्यवस्था द्वारा धर्मी ठहराए जाने के किसी भी प्रयास से क्या सिद्ध होता है?
“तुम जो व्यवस्था के द्वारा धर्मी ठहरना चाहते हो, मसीह से अलग और अनुग्रह से गिर गए हो।” (गलातियों 5:4)।

27.इस्राएल धार्मिकता प्राप्त करने में असफल क्यों रहा?
31 परन्तु इस्त्राएली; जो धर्म की व्यवस्था की खोज करते हुए उस व्यवस्था तक नहीं पहुंचे। 32 किस लिये? इसलिये कि वे विश्वास से नहीं, परन्तु मानो कर्मों से उस की खोज करते थे: उन्होंने उस ठोकर के पत्थर पर ठोकर खाई।” (रोमियों 9:31,32)।

28.व्यवस्था से क्या पता चलता है?
“क्योंकि व्यवस्था के कामों से कोई प्राणी उसके साम्हने धर्मी नहीं ठहरेगा, इसलिये कि व्यवस्था के द्वारा पाप की पहिचान होती है।” (रोमियों 3:20)।

29.व्यवस्था के कामों को छोड़, उस धार्मिकता की सच्चाई की क्या गवाही देती है जो विश्वास से प्राप्त होती है?
“पर अब बिना व्यवस्था परमेश्वर की वह धामिर्कता प्रगट हुई है, जिस की गवाही व्यवस्था और भविष्यद्वक्ता देते हैं।” (पद 21)।

30.क्या विश्वास परमेश्वर की व्यवस्था को टाल देता है?
“तो क्या हम व्यवस्था को विश्वास के द्वारा व्यर्थ ठहराते हैं? कदापि नहीं; वरन व्यवस्था को स्थिर करते हैं॥” (पद 31)।

31.कौन सा शास्त्र दिखाता है कि जो धार्मिकता अनुग्रह से विश्वास के द्वारा प्राप्त होती है, उसे पाप में बने रहने का बहाना नहीं बनाया जाना चाहिए?
“सो हम क्या कहें? क्या हम पाप करते रहें, कि अनुग्रह बहुत हो? कदापि नहीं, हम जब पाप के लिये मर गए तो फिर आगे को उस में क्योंकर जीवन बिताएं? (रोमियों 6:1,2)।

32.क्या विश्वास कार्यों को अलग करता है?
“पर हे निकम्मे मनुष्य क्या तू यह भी नहीं जानता, कि कर्म बिना विश्वास व्यर्थ है? (याकूब 2:20)।

33.सच्चे, जीवित विश्वास का प्रमाण क्या है?
“वरन कोई कह सकता है कि तुझे विश्वास है, और मैं कर्म करता हूं: तू अपना विश्वास मुझे कर्म बिना तो दिखा; और मैं अपना विश्वास अपने कर्मों के द्वारा तुझे दिखाऊंगा।” (पद 18)।

34.तो फिर, विश्वास के द्वारा वास्तविक धर्मी ठहराए जाने के दृश्य प्रमाण क्या हैं?
“सो तुम ने देख लिया कि मनुष्य केवल विश्वास से ही नहीं, वरन कर्मों से भी धर्मी ठहरता है।” (पद 24; पद 22 भी देखें)।

35.मसीह में हमारे लिए कौन-सा बड़ा विनिमय है?
“जो पाप से अज्ञात था, उसी को उस ने हमारे लिये पाप ठहराया, कि हम उस में होकर परमेश्वर की धामिर्कता बन जाएं॥” (2 कुरीं 5:21)।

ध्यान दें:- लूथर ने कहा: “मसीह और उसे सूली पर चढ़ा हुआ जानना सीखें। एक नया गीत गाना सीखें – अपने कामों से निराश होना, और उसे पुकारना, प्रभु यीशु, आप मेरी धार्मिकता हैं, और मैं आपका पाप हूं। जो कुछ मेरा था, उसे आप ने अपने ऊपर ले लिया, और जो आपका था वह मुझे दे दिया; जो आप नहीं थे, वही आप बन गए, कि मैं वह बन जाऊं जो मैं नहीं था।” -द’आऊबिगने का “सुधार का इतिहास,” पुस्तक 2, अध्याय 8।

ध्यान दें:- निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है।

यीशु को देखो, वह निष्पाप है;
पिता, उसका जीवन मुझ दे दे।
मेरा लाल रंग का जीवन, मेरा पाप और हाय,
उसके जीवन के साथ ढक, जो बर्फ से भी श्वेत है।

ज़ख्म गहरे हैं जो गुनाह ने किए हैं :
लाल दाग हैं; मेरी आत्मा डरती है।
हे ढांपे जाने के लिए, यीशु, तेरे साथ,
व्यवस्था से सुरक्षित जो अब मेरा न्याय करता है!

क्षमा की खुशी जानने की लालसा;
यीशु ने एक श्वेत वस्त्र को बर्फ के रूप में धारण किया:
“परमेश्वर, मैं इसे स्वीकार करता हूँ! अपना छोड़कर,
खुशी की बात है कि मैं अकेले तेरा शुद्ध जीवन पहनता हूं।”

मेरे पाप के लिए उनकी मृत्यु से मेल मिलाप,
उनके जीवन शुद्ध और स्वच्छ द्वारा न्यायसंगत,
उसके वचन का पालन करके पवित्र किया गया,
मेरे प्रभु के लौटने पर महिमामय,

(एफ ई बेल्डेन)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)