(23) परमेश्वर के साथ स्वीकृति

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1. परमेश्वर ने हमें किसमें स्वीकार किया है?
हमारे प्रभु यीशु मसीह के परमेश्वर और पिता का धन्यवाद हो, कि उस ने हमें मसीह में स्वर्गीय स्थानों में सब प्रकार की आशीष दी है।
जैसा उस ने हमें जगत की उत्पति से पहिले उस में चुन लिया, कि हम उसके निकट प्रेम में पवित्र और निर्दोष हों।
और अपनी इच्छा की सुमति के अनुसार हमें अपने लिये पहिले से ठहराया, कि यीशु मसीह के द्वारा हम उसके लेपालक पुत्र हों,
कि उसके उस अनुग्रह की महिमा की स्तुति हो, जिसे उस ने हमें उस प्यारे में सेंत मेंत दिया।” (इफिसियों 1:3-6)।

2.हमारे द्वारा मसीह को स्वीकार करने से कौन-सा महान उपहार प्राप्त होता है?
“क्योंकि मेरे पिता की इच्छा यह है, कि जो कोई पुत्र को देखे, और उस पर विश्वास करे, वह अनन्त जीवन पाए; और मैं उसे अंतिम दिन फिर जिला उठाऊंगा।” (यूहन्ना 6:40; यूहन्ना 17:2 भी देखें)।

3.परमेश्वर के साथ हमारी स्वीकृति का पहला और प्राथमिक प्रमाण क्या है?
जब हम मनुष्यों की गवाही मान लेते हैं, तो परमेश्वर की गवाही तो उस से बढ़कर है; और परमेश्वर की गवाही यह है, कि उस ने अपने पुत्र के विषय में गवाही दी है।
10 जो परमेश्वर के पुत्र पर विश्वास करता है, वह अपने ही में गवाही रखता है; जिस ने परमेश्वर को प्रतीति नहीं की, उस ने उसे झूठा ठहराया; क्योंकि उस ने उस गवाही पर विश्वास नहीं किया, जो परमेश्वर ने अपने पुत्र के विषय में दी है।
11 और वह गवाही यह है, कि परमेश्वर ने हमें अनन्त जीवन दिया है: और यह जीवन उसके पुत्र में है।” (1 यूहन्ना 5:9-11)।

ध्यान दें:- सभी विश्वास और स्वीकृति का प्राथमिक आधार परमेश्वर का वचन है, – जो स्वयं ईश्वर ने कहा है। इसे प्राप्त करना और विश्वास करना उद्धार के लिए पहली आवश्यक बात है, – स्वीकृति का पहला प्रमाण।

4.यूहन्ना ने परमेश्वर के प्रेम और मसीह को देने के उद्देश्य के बारे में अपनी गवाही क्यों लिखी?
“मैं ने तुम्हें, जो परमेश्वर के पुत्र के नाम पर विश्वास करते हो, इसलिये लिखा है; कि तुम जानो, कि अनन्त जीवन तुम्हारा है।” (पद 13)। “परन्तु ये इसलिये लिखे गए हैं, कि तुम विश्वास करो, कि यीशु ही परमेश्वर का पुत्र मसीह है: और विश्वास करके उसके नाम से जीवन पाओ॥” (यूहन्ना 20:31)।

5.मसीह में सच्चे विश्वासी के पास क्या गवाही है कि वह परमेश्वर के द्वारा ग्रहण किया गया है?
“जो परमेश्वर के पुत्र पर विश्वास करता है, वह अपने ही में गवाही रखता है; जिस ने परमेश्वर को प्रतीति नहीं की, उस ने उसे झूठा ठहराया; क्योंकि उस ने उस गवाही पर विश्वास नहीं किया, जो परमेश्वर ने अपने पुत्र के विषय में दी है।” (1 यूहन्ना 5:10)।

ध्यान दें:-विश्वास और भावना को भ्रमित नहीं करना चाहिए। हमारी भावनाओं की परवाह किए बिना, और अक्सर हमारी भावनाओं के विरोध में भी, परमेश्वर के वचन में अभ्यास करना हमारा विश्वास है। बहुत से लोग क्षमा और स्वर्ग की स्वीकृति के आश्वासन को स्वीकार करने में विफल रहते हैं, क्योंकि वे परमेश्वर को उसके वचन पर नहीं लेते हैं, बल्कि अपने परिवर्तनशील मनोदशाओं और भावनाओं पर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं। विश्वास हमेशा हर्षित भावनाओं से पहले होता है जो स्वाभाविक रूप से क्षमा और स्वीकृति के आश्वासन से उत्पन्न होता है। यह आदेश कभी उलटा नहीं होता।

6.कोई कैसे केवल परमेश्वर की सन्तान हो जाता है?
“क्योंकि तुम सब उस विश्वास करने के द्वारा जो मसीह यीशु पर है, परमेश्वर की सन्तान हो।” (गलातियों 3:26)।

7.विश्वास की बुनियाद क्या है?
“विश्वास सुनने से, और सुनना परमेश्वर के वचन से आता है।” (रोमियों 10:17)।

8.परमेश्वर के साथ अपनी एकता के विश्वासी के पास क्या आश्वासन है?
“इसी से हम जानते हैं, कि हम उस में बने रहते हैं, और वह हम में; क्योंकि उस ने अपने आत्मा में से हमें दिया है।” (1 यूहन्ना 4:13)।

9.यूहन्ना ने स्वीकृति के किन तीन निश्चित गवाहों का उल्लेख किया है?
“और गवाही देने वाले तीन हैं; आत्मा, और पानी, और लोहू; और तीनों एक ही बात पर सहमत हैं।” (1 यूहन्ना 5:8)।

10.आत्मा कैसे परमेश्वर के साथ हमारी स्वीकृति की गवाही देता है?
“और तुम जो पुत्र हो, इसलिये परमेश्वर ने अपने पुत्र के आत्मा को, जो हे अब्बा, हे पिता कह कर पुकारता है, हमारे हृदय में भेजा है।” (गलातियों 4:6)। “आत्मा आप ही हमारी आत्मा के साथ गवाही देता है, कि हम परमेश्वर की सन्तान हैं” (रोमियों 8:16)।

11.मसीही बपतिस्मा किस बात का प्रमाण है?
“तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है, उन्होंने मसीह को पहिन लिया है।” (गलातियों 3:27)। 

ध्यान दें:- बपतिस्मे में, जल और आत्मा दोनों ही परमेश्वर की स्वीकृति की गवाही देते हैं। वही आत्मा, जिसने मसीह के बपतिस्मे के समय कहा था, “यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिससे मैं अति प्रसन्न हूं,” प्रत्येक सच्चे विश्वासी को उसके बपतिस्मे में स्वीकार करने की गवाही देता है।

12.मसीह का लहू किस बात की गवाही देता है?
और ये बातें हम इसलिये लिखते हैं, कि हमारा आनन्द पूरा हो जाए॥
जो समाचार हम ने उस से सुना, और तुम्हें सुनाते हैं, वह यह है; कि परमेश्वर ज्योति है: और उस में कुछ भी अन्धकार नहीं।
यदि हम कहें, कि उसके साथ हमारी सहभागिता है, और फिर अन्धकार में चलें, तो हम झूठे हैं: और सत्य पर नहीं चलते।
पर यदि जैसा वह ज्योति में है, वैसे ही हम भी ज्योति में चलें, तो एक दूसरे से सहभागिता रखते हैं; और उसके पुत्र यीशु का लोहू हमें सब पापों से शुद्ध करता है।” (1 यूहन्ना 1:4-7)। “हम को उस में उसके लोहू के द्वारा छुटकारा, अर्थात अपराधों की क्षमा, उसके उस अनुग्रह के धन के अनुसार मिला है।” (इफिसियों 1:7; प्रकाशितवाक्य 1:5,6 भी देखें)।

13.हम मसीह के द्वारा परमेश्वर के साथ स्वीकृति कब प्राप्त कर सकते हैं?
“क्योंकि वह तो कहता है, कि अपनी प्रसन्नता के समय मैं ने तेरी सुन ली, और उद्धार के दिन मैं ने तेरी सहायता की: देखो, अभी वह प्रसन्नता का समय है; देखो, अभी उद्धार का दिन है।” (2कुरीं 6:2)।

14.सो हम किस को महिमा और आदर दें?
और यीशु मसीह की ओर से, जो विश्वासयोग्य साक्षी और मरे हुओं में से जी उठने वालों में पहिलौठा, और पृथ्वी के राजाओं का हाकिम है, तुम्हें अनुग्रह और शान्ति मिलती रहे: जो हम से प्रेम रखता है, और जिस ने अपने लोहू के द्वारा हमें पापों से छुड़ाया है। और हमें एक राज्य और अपने पिता परमेश्वर के लिये याजक भी बना दिया; उसी की महिमा और पराक्रम युगानुयुग रहे। आमीन।” (प्रकाशितवाक्य 1:5,6)।

15.ईश्‍वरीय स्वीकृति का एक और प्रमाण क्या है?
“हम जानते हैं, कि हम मृत्यु से पार होकर जीवन में पहुंचे हैं; क्योंकि हम भाइयों से प्रेम रखते हैं: जो प्रेम नहीं रखता, वह मृत्यु की दशा में रहता है।” (1 यूहन्ना 3:14)।

16.मसीह में सभी विश्वासियों को क्या आशीषित आश्वासन दिया गया है?
“तब परमेश्वर की शान्ति, जो समझ से बिलकुल परे है, तुम्हारे हृदय और तुम्हारे विचारों को मसीह यीशु में सुरिक्षत रखेगी॥” (फिलिपियों 4:7)।

ध्यान दें:- निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है।

उठ, मेरी आत्मा, उठ,
अपने दोषी भय को दूर भगा;
खून बह रहा बलिदान
मेरी ओर से प्रकट होता है;
सिंहासन के सामने मेरा उद्धारकर्ता खड़ा है,
उनके हाथों पर मेरा नाम लिखा हुआ है।

पांच खून के बहते हुए घाव वह सहन करता है,
कलवरी पर प्राप्त;
वे प्रभावी प्रार्थना करते हैं,
वे मेरे लिए दृढ़ता से बोलते हैं।
उसे क्षमा कर दो, हे क्षमा कर! वे रोते हैं,
न ही पछतावी पापी को मरने दें

(चार्ल्स वेस्ली)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)