(194) जय पाने वाले को वादे


जय पाने वाले को वादे

1. हमें किस पर विजय पाने की सलाह दी जाती है?
” बुराई से न हारो परन्तु भलाई से बुराई का जीत लो ” (रोमियो 12:21)।


टिप्पणी -यूहन्ना 5: 4 में जिसे हमें जीतना है उसे “संसार” कहा जाता है; और 1 यूहन्ना 2:15-17 में जिन बातों से “संसार” बना है उन्हें “शरीर की अभिलाषा, और आंखों की अभिलाषा, और जीवन के घमण्ड” के रूप में वर्णित किया गया है।


2. केवल कौन संसार को जीत सकता है?
” क्योंकि जो कुछ परमेश्वर से उत्पन्न हुआ है, वह संसार पर जय प्राप्त करता है, और वह विजय जिस से संसार पर जय प्राप्त होती है हमारा विश्वास है ” (1 यूहन्ना 5:4)।


3. संसार के साथ अपने संघर्ष में कौन-सी बात हमें जय दिलाती है?
“और वह विजय जिस से संसार पर जय प्राप्त होती है, हमारा विश्वास है।”( वही पद)


4. मसीह ने विजेता से कौन-सी प्रतिज्ञाएँ की हैं?

  • ” जिस के कान हों, वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है: जो जय पाए, मैं उसे उस जीवन के पेड़ में से जो परमेश्वर के स्वर्गलोक में है, फल खाने को दूंगा”  (प्रकाशित वाक्य 2:7)।
  • “जिस के कान हों, वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है: जो जय     पाए, उस को दूसरी मृत्यु से हानि न पहुंचेगी ” (प्रकाशित वाक्य 2:11)।
  • “जिस के कान हों, वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है; जो जय पाए, उस को मैं गुप्त मन्ना में से दूंगा, और उसे एक श्वेत पत्थर भी दूंगा; और उस पत्थर पर एक नाम लिखा हुआ होगा, जिसे उसके पाने वाले के सिवाय और कोई न जानेगा ” (पद 17 )।
  •  “जो जय पाए, और मेरे कामों के अनुसार अन्त तक करता रहे, मैं उसे जाति जाति के लोगों पर अधिकार दूंगा।  और वह लोहे का राज दण्ड लिये हुए उन पर राज्य करेगा, जिस प्रकार कुम्हार के मिट्टी के बरतन चकनाचूर हो जाते है: जैसे कि मै ने भी ऐसा ही अधिकार अपने पिता से पाया है। और मैं उसे भोर का तारा दूंगा। ( पद  26-28)।
  • “जो जय पाए, उसे इसी प्रकार श्वेत वस्त्र पहिनाया जाएगा, और मैं उसका नाम जीवन की पुस्तक में से किसी रीति से न काटूंगा, पर उसका नाम अपने पिता और उसके स्वर्गदूतों के साम्हने मान लूंगा ” (प्रकाशित वाक्य 3:5)।
  •  “जो जय पाए, उस मैं अपने परमेश्वर के मन्दिर में एक खंभा बनाऊंगा; और वह फिर कभी बाहर न निकलेगा; और मैं अपने परमेश्वर का नाम, और अपने परमेश्वर के नगर, अर्थात नये यरूशलेम का नाम, जो मेरे परमेश्वर के पास से स्वर्ग पर से उतरने वाला है और अपना नया नाम उस पर लिखूंगा ” ( पद 12)।
  •  ” जो जय पाए, मैं उसे अपने साथ अपने सिंहासन पर बैठाऊंगा, जैसा मैं भी जय पा कर अपने पिता के साथ उसके सिंहासन पर बैठ गया।” (पद 21)।



5. किस एक प्रतिज्ञा में इन सभी प्रतिज्ञाओं का योग है?
जो जय पाए, वही इन वस्तुओं का वारिस होगा; और मैं उसका परमेश्वर होऊंगा, और वह मेरा पुत्र होगा ” (प्रकाशित वाक्य 21:7)।

टिप्पणी -यहाँ पर जय पाने वाले के लिए बहुत बड़ी और अनमोल प्रतिज्ञाएँ हैं, जिनकी संख्या आठ है। वे सब कुछ ग्रहण करते हैं – अनन्त जीवन, स्वास्थ्य, खुशी और एक चिरस्थायी घर। और क्या पूछा जा सकता है?

स्वर्ग में कोई जुदाई न होगी, न सहने की पीड़ा होगी;
न कोई परवाह भरी भौंह, न कोई आहें, न चांदी के बाल;
अपनों को अपनी तरफ से छीनने के लिए कोई मौत नहीं,
न क्रोधित लहरें, न समुद्र, न विश्वासघाती ज्वार।

स्वर्ग में न प्यास होगी, न रोटी के लिये रोना होगा;
कोई आत्मा नहीं है जो नहीं जानता कि अपना सिर कहाँ रखना है;
सर्दी की ठिठुरन को महसूस करने वाला कोई नहीं,
क्‍योंकि वहां प्रचण्‍ड करनेवाले तूफान सब बीत जाएँगे।

स्वर्ग में बिना चुकाए कोई परिश्रम नहीं होगा;
एक संक्षिप्त, अल्पकालिक दिन के लिए कोई भवन नहीं;
उन सभी खुशियों के लिए जो भविष्यद्वक्ताओं ने बताई हैं
‘अनंत युगों को प्रकट होने में लगेगा।

स्वर्ग में कोई थका हुआ तीर्थयात्री नहीं होगा;
एक बेहतर, बेहतर भूमि का कोई चाहने वाला नहीं;
उन सभी के लिए जो उस आनंदित, सुखी तट तक पहुँचते हैं,
न कभी रोऊँगा, न आहें भरूँगा, न और अधिक की कामना करूँगा।