(186) अच्छा स्वास्थ्य


अच्छा स्वास्थ्य

1. प्रेरित यूहन्ना गयुस के विषय में क्या चाहता था?
” हे प्रिय, मेरी यह प्रार्थना है; कि जैसे तू आत्मिक उन्नति कर रहा है, वैसे ही तू सब बातों मे उन्नति करे, और भला चंगा रहे ” (3 यूहन्ना 1:2)।

2. प्राचीनकाल में परमेश्वर ने अपने लोगों से क्या वादा किया था?
“और तुम अपने परमेश्वर यहोवा की उपासना करना, तब वह तेरे अन्न जल पर आशीष देगा, और तेरे बीच में से रोग दूर करेगा ”(निर्गमन 23:25)।

3. किन शर्तों पर बीमारी से आज़ादी का वादा किया गया था?
“कि यदि तू अपने परमेश्वर यहोवा का वचन तन मन से सुने, और जो उसकी दृष्टि में ठीक है वही करे, और उसकी आज्ञाओं पर कान लगाए, और उसकी सब विधियों को माने, तो जितने रोग मैं ने मिस्रियों पर भेजा है उन में से एक भी तुझ पर न भेजूंगा; क्योंकि मैं तुम्हारा चंगा करने वाला यहोवा हूं” (निर्गमन 15:26)।

4. भजनकार क्या कहता है कि यहोवा अपने लोगों के लिए क्या करता है?
“ वही तो तेरे सब अधर्म को क्षमा करता, और तेरे सब रोगों को चंगा करता है ”,(भजन संहिता 103:3)।

5. मसीह की सेवकाई का एक बड़ा हिस्सा क्या था?
वह भलाई करता फिरा, और सब को जो शैतान के सताए हुए थे अच्छा करता फिरा।” (अधिनियमों 10:38। लूका 13:16 देखें।) “और यीशु सारे गलील में फिरता हुआ उन की सभाओं में उपदेश करता और राज्य का सुसमाचार प्रचार करता, और लोगों की हर प्रकार की बीमारी और दुर्बल्ता को दूर करता रहा” (मत्ती 4:23)।

6. शरीर का स्वास्थ्य क्यों बनाए रखना चाहिए?
क्योंकि दाम देकर मोल लिये गए हो, इसलिये अपनी देह के द्वारा परमेश्वर की महिमा करो”(1 कुरिन्थियों 6:20)।

7. विश्वासी का शरीर क्या कहलाता है?
” क्या तुम नहीं जानते, कि तुम्हारी देह पवित्रात्मा का मन्दिर है; जो तुम में बसा हुआ है और तुम्हें परमेश्वर की ओर से मिला है, और तुम अपने नहीं हो? ”(पद 19) ।

8. परमेश्वर उन लोगों के साथ क्या करेगा जो इस मन्दिर को अशुद्ध करते हैं?
यदि कोई परमेश्वर के मन्दिर को नाश करेगा तो परमेश्वर उसे नाश करेगा; क्योंकि परमेश्वर का मन्दिर पवित्र है, और वह तुम हो ”(1 कुरिन्थियों 3:17)

9. इस मामले में दानिय्येल ने क्या मिसाल कायम की?
तब जितने दिन के बाद नबूकदनेस्सर राजा ने जवानों को भीतर ले आने की आज्ञा दी थी, उतने दिन के बीतने पर खोजों का प्रधान उन्हें उसके सामने ले गया” (दानिय्येल 1:18)

10. उसने क्या खाना देने के लिए कहा?
मैं तेरी बिनती करता हूं, अपने दासों को दस दिन तक जांच, हमारे खाने के लिये सागपात और पीने के लिये पानी ही दिया जाए”(पद 12)

11. मनुष्य के लिए मूल आहार क्या निर्धारित किया गया था?
” फिर परमेश्वर ने उन से कहा, सुनो, जितने बीज वाले छोटे छोटे पेड़ सारी पृथ्वी के ऊपर हैं और जितने वृक्षों में बीज वाले फल होते हैं, वे सब मैं ने तुम को दिए हैं; वे तुम्हारे भोजन के लिये हैं:”(उत्पत्ति 1:29)।

12. यहोवा ने इब्रियों के आहार में उन्हें क्यों प्रतिबंधित किया?
” क्योंकि तू अपने परमेश्वर यहोवा के लिये एक पवित्र समाज है, और यहोवा ने तुझ को पृथ्वी भर के समस्त देशों के लोगों में से अपनी निज सम्पति होने के लिये चुन लिया है। तू कोई घिनौनी वस्तु न खाना”(व्यवस्थाविवरण 14:2,3)

टिप्पणी:- हम जो भोजन करते हैं उससे मन और शरीर दोनों प्रभावित होते हैं।

13. प्रसन्नता का स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है?
मन का आनन्द अच्छी औषधि है, परन्तु मन के टूटने से हड्डियां सूख जाती हैं ”(नीतिवचन 17:22)

14. उद्धारकर्ता ने अपने चेलों को विश्राम कैसे दिया?
” उस ने उन से कहा; तुम आप अलग किसी जंगली स्थान में आकर थोड़ा विश्राम करो; क्योंकि बहुत लोग आते जाते थे, और उन्हें खाने का अवसर भी नहीं मिलता था”(मरकुस 6:31)।

15. हमें अपने शरीरों को परमेश्वर को अर्पित करने के लिए कैसे प्रोत्साहित किया जाता है?
” इसलिये हे भाइयों, मैं तुम से परमेश्वर की दया स्मरण दिला कर बिनती करता हूं, कि अपने शरीरों को जीवित, और पवित्र, और परमेश्वर को भावता हुआ बलिदान करके चढ़ाओ: यही तुम्हारी आत्मिक सेवा है ”(रोमियो 12:1) ।

16. किस उच्च उद्देश्य को हमारे जीवन की आदतों को नियंत्रित करना चाहिए?
” सो तुम चाहे खाओ, चाहे पीओ, चाहे जो कुछ करो, सब कुछ परमेश्वर की महीमा के लिये करो”(1 कुरिन्थियों 10:31)