(184) शहरी जीवन की दुष्टता


शहरी जीवन की दुष्टता

1. जब इब्राहीम ने लूत से देश के उस भाग को चुनने को कहा जिसे वह पसंद करता था, तो लूत ने क्या चुनाव किया?
तब लूत ने आंख उठा कर, यरदन नदी के पास वाली सारी तराई को देखा, कि वह सब सिंची हुई है। जब तक यहोवा ने सदोम और अमोरा को नाश न किया था, तब तक सोअर के मार्ग तक वह तराई यहोवा की बाटिका, और मिस्र देश के समान उपजाऊ थी। सो लूत अपने लिये यरदन की सारी तराई को चुन के पूर्व की ओर चला, और वे एक दूसरे से अलग हो गए” (उत्पत्ति 13:10,11) ।

2. लूत कहाँ रहता था?
“अब्राम तो कनान देश में रहा, पर लूत उस तराई के नगरों में रहने लगा; और अपना तम्बू सदोम के निकट खड़ा किया ” (पद 12 ) ।

3. सदोम के निवासियों का स्वभाव कैसा था?
सदोम के लोग यहोवा के लेखे में बड़े दुष्ट और पापी थे “( पद 13) ।

4. इस शहर का और क्या वर्णन दिया गया है?
देख, तेरी बहिन सदोम का अधर्म यह था, कि वह अपनी पुत्रियों सहित घमण्ड करती, पेट भर भरके खाती, और सुख चैन से रहती थी: और दीन दरिद्र को न संभालती थी। सो वह गर्व कर के मेरे साम्हने घृणित काम करने लगी, और यह देख कर मैं ने उन्हें दूर कर दिया। ” (यहेजकेल 16: 49,50;  देखें उत्पत्ति 19:1-9) ।

5. उनके चालचलन का लूत पर क्या असर हुआ?
और धर्मी लूत को जो अधमिर्यों के अशुद्ध चाल-चलन से बहुत दुखी था छुटकारा दिया।  क्योंकि वह धर्मी उन के बीच में रहते हुए, और उन के अधर्म के कामों को देख देख कर, और सुन सुन कर, हर दिन अपने सच्चे मन को पीडित करता था ।” (2 पतरस 2:7,8 )।

6. सदोम और अमोरा को नाश करने से पहिले यहोवा ने लूत और उसके घराने को छुड़ाने के लिए किसे भेजा?
सांझ को वे दो दूत सदोम के पास आए: और लूत सदोम के फाटक के पास बैठा था: सो उन को देख कर वह उन से भेंट करने के लिये उठा; और मुंह के बल झुक कर दण्डवत कर कहा;हे मेरे प्रभुओं, अपने दास के घर में पधारिए, और रात भर विश्राम कीजिए, और अपने पांव धोइये, फिर भोर को उठ कर अपने मार्ग पर जाइए। उन्होंने कहा, नहीं; हम चौक ही में रात बिताएंगे। और उसने उन से बहुत बिनती करके उन्हें मनाया; सो वे उसके साथ चल कर उसके घर में आए; और उसने उनके लिये जेवनार तैयार की, और बिना खमीर की रोटियां बनाकर उन को खिलाई। उनके सो जाने के पहिले, उस सदोम नगर के पुरूषों ने, जवानों से ले कर बूढ़ों तक, वरन चारों ओर के सब लोगों ने आकर उस घर को घेर लिया; और लूत को पुकार कर कहने लगे, कि जो पुरूष आज रात को तेरे पास आए हैं वे कहां हैं? उन को हमारे पास बाहर ले आ, कि हम उन से भोग करें।  तब लूत उनके पास द्वार के बाहर गया, और किवाड़ को अपने पीछे बन्द करके कहा ,हे मेरे भाइयों, ऐसी बुराई न करो।सुनो, मेरी दो बेटियां हैं जिन्होंने अब तक पुरूष का मुंह नहीं देखा, इच्छा हो तो मैं उन्हें तुम्हारे पास बाहर ले आऊं, और तुम को जैसा अच्छा लगे वैसा व्यवहार उन से करो: पर इन पुरूषों से कुछ न करो; क्योंकि ये मेरी छत के तले आए हैं उनहोंने कहा, हट जा। फिर वे कहने लगे, तू एक परदेशी हो कर यहां रहने के लिये आया पर अब न्यायी भी बन बैठा है: सो अब हम उन से भी अधिक तेरे साथ बुराई करेंगे। और वे उस पुरूष लूत को बहुत दबाने लगे, और किवाड़ तोड़ने के लिये निकट आए।  तब उन पाहुनों ने हाथ बढ़ाकर, लूत को अपने पास घर में खींच लिया, और किवाड़ को बन्द कर दिया। और उन्होंने क्या छोटे, क्या बड़े, सब पुरूषों को जो घर के द्वार पर थे अन्धा कर दिया, सो वे द्वार को टटोलते टटोलते थक गए। फिर उन पाहुनों ने लूत से पूछा, यहां तेरे और कौन कौन हैं? दामाद, बेटे, बेटियां, वा नगर में तेरा जो कोई हो, उन सभों को ले कर इस स्थान से निकल जा। क्योंकि हम यह स्थान नाश करने पर हैं, इसलिये कि उसकी चिल्लाहट यहोवा के सम्मुख बढ़ गई है; और यहोवा ने हमें इसका सत्यनाश करने के लिये भेज दिया है।” (उत्पत्ति 19: 1-13) ।

7. लूत ने क्या किया, और उसकी मेहनत का क्या प्रतिफल मिला?
” तब लूत ने निकल कर अपने दामादों को, जिनके साथ उसकी बेटियों की सगाई हो गई थी, समझा के कहा, उठो, इस स्थान से निकल चलो: क्योंकि यहोवा इस नगर को नाश किया चाहता है। पर वह अपने दामादों की दृष्टि में ठट्ठा करने हारा सा जान पड़ा ” ( पद 14) ।

8. अगली सुबह स्वर्गदूतों ने लूत से क्या कहा?
“जब पौ फटने लगी, तब दूतों ने लूत से फुर्ती कराई और कहा, कि उठ, अपनी पत्नी और दोनो बेटियों को जो यहां हैं ले जा: नहीं तो तू भी इस नगर के अधर्म में भस्म हो जाएगा। पर वह विलम्ब करता रहा, इस से उन पुरूषों ने उसका और उसकी पत्नी, और दोनों बेटियों का हाथ पकड़ लिया; क्योंकि यहोवा की दया उस पर थी: और उसको निकाल कर नगर के बाहर कर दिया।  और ऐसा हुआ कि जब उन्होंने उन को बाहर निकाला, तब उसने कहा अपना प्राण ले कर भाग जा; पीछे की और न ताकना, और तराई भर में न ठहरना; उस पहाड़ पर भाग जाना, नहीं तो तू भी भस्म हो जाएगा” ( पद 15-17)।

9. फिर क्या हुआ?
“ तब यहोवा ने अपनी ओर से सदोम और अमोरा पर आकाश से गन्धक और आग बरसाई; और उन नगरों को और सम्पूर्ण तराई को, और नगरों को और उस सम्पूर्ण तराई को, और नगरों के सब निवासियों, भूमि की सारी उपज समेत नाश कर दिया”( पद 24,25) ।

10. क्योंकि उसने स्वर्गदूतों के उपदेश को नहीं माना, तो लूत की पत्नी का क्या हुआ?
लूत की पत्नी ने जो उसके पीछे थी दृष्टि फेर के पीछे की ओर देखा, और वह नमक का खम्भा बन गई” ( पद 26) ।

टिप्पणी:- लूत ने शहर का जीवन चुनने के परिणामस्वरूप अपने लगभग पूरे परिवार को खो दिया।

11. अपने दूसरे आगमन से पहले दुनिया की स्थिति की भविष्यद्वाणी करते हुए, मसीह ने इसकी तुलना किससे की?
“ और जैसा लूत के दिनों में हुआ था, कि लोग खाते-पीते लेन-देन करते, पेड़ लगाते और घर बनाते थे। परन्तु जिस दिन लूत सदोम से निकला, उस दिन आग और गन्धक आकाश से बरसी और सब को नाश कर दिया। मनुष्य के पुत्र के प्रगट होने के दिन भी ऐसा ही होगा ” (लूका 17:28 -30)।

टिप्पणी:- आज के शहर तेजी से सदोम और अमोरा की तरह बनते जा रहे हैं- दुर्गुण, गर्व, हिंसा, भ्रम और अपराध के केंद्र और सिंक-होल। संयुक्त राज्य के शहर, जबकि देश की लगभग आधी आबादी समाहित है, नब्बे-सात प्रतिशत अपराध प्रस्तुत करते हैं। कुछ साल पहले कैनसस स्टेट रिफॉर्म स्कूल में 268 लड़कों में से तीन को छोड़कर सभी शहरों से आए थे। न्यूयॉर्क शहर में हर छत्तीस घंटे में एक हत्या होती है। असंख्य छुट्टियां, उत्साह, आनंद और खेल, रंगमंच, घुड़दौड़, जुआ, शराब पीना और शहरों में मौज-मस्ती करना, जीवन के शांत कर्तव्यों से हजारों लोगों को आकर्षित करता है, और हर बुरे जुनून को गतिविधि के लिए प्रेरित करता है। इसलिए, आज के शहर कितने गरीब स्थान हैं जिनमें एक परिवार का पालन-पोषण किया जा सकता है! लूत की तरह बहुत से लोगों ने सदोम की ओर अपना तंबू गाड़ा है।

12. सदोम और अमोरा का नाश किस बात का एक प्रकार है?
और सदोम और अमोरा के नगरों को विनाश का ऐसा दण्ड दिया, कि उन्हें भस्म करके राख में मिला दिया ताकि वे आने वाले भक्तिहीन लोगों की शिक्षा के लिये एक दृष्टान्त बनें।”(2 पतरस 2:6) ।

टिप्पणी:- सदोम और अमोरा, बाबुल और यरुशलम जैसे शहरों का विनाश, दुनिया के इंतजार में विनाश के एक प्रकार के रूप में निर्धारित किया गया है। एक लेखक कहता है: “वह समय निकट है जब बड़े नगरों पर परमेश्वर का न्याय होगा। थोड़ी ही देर में ये नगर भयानक रूप से हिल जाएँगे। उनकी इमारतें कितनी भी बड़ी या मजबूत क्यों न हों, आग से बचाव के कितने ही उपाय किए गए हों, परमेश्वर को इन इमारतों को छूने दो और कुछ ही मिनटों में या कुछ घंटों में वे खंडहर हो जाएंगे। हमारी दुनिया के अधर्मी शहरों को विनाश की आड़ में बहा देना है। विपत्तियों में जो अब विशाल इमारतों और शहरों के बड़े हिस्से पर आ रही हैं, परमेश्वर हमें दिखा रहे हैं कि पूरी पृथ्वी पर क्या होगा, “महान शहरों का विनाश अब लगभग पूरी तरह से पापपूर्ण सुख, धन-दौलत की पूजा, और मूर्तिपूजा, आसन्न है। इसलिए, यह समय है कि जो वास्तव में अपने बच्चों के उद्धार के प्रति गंभीर हैं वे इन शहरों को छोड़ने के बारे में सोचना शुरू करें।

13. सातवीं विपत्ति के अधीन क्या होना है?
“और सातवें ने अपना कटोरा हवा पर उंडेल दिया, और मंदिर के सिंहासन से यह बड़ा शब्द हुआ, कि हो चुका। फिर बिजलियां, और शब्द, और गर्जन हुए, और एक ऐसा बड़ा भुइंडोल हुआ, कि जब से मनुष्य की उत्पत्ति पृथ्वी पर हुई, तब से ऐसा बड़ा भुइंडोल कभी न हुआ था। और उस बड़े नगर के तीन टुकड़े हो गए, और जाति जाति के नगर गिर पड़े, और बड़ा बाबुल का स्मरण परमेश्वर के यहां हुआ, कि वह अपने क्रोध की जलजलाहट की मदिरा उसे पिलाए” (प्रकाशित वाक्य 16:16-19) ।

कैसे प्राध्यापक अपनी लीज़ पर आराम करने के लिए तैयार हैं,
उनके आनंद, उनके लाभ और सहजता का अध्ययन करने के लिए!
यद्यपि परमेश्वर कहता है: “उठो, और अपना प्राण लेकर भागो!
और अपने पीछे न ताक; लूत की पत्नी को याद रखो।”
अपनी नींद से जागो, चेतावनी विश्वास करो;
यह यीशु जो आपको बुलाते हैं, संदेश प्राप्त करते हैं;
जबकि खतरे लंबित हैं, अपनी जान बचाकर भागें!
और अपने पीछे न ताक; लूत की पत्नी को याद करो।
धर्म के तरीके सच्चा आनंद देते हैं,
कोई भी सुख प्रभु के आनंद के बराबर नहीं हो सकता।
फिर संसार को त्याग दो, अपने जीवन के लिए पलायन,
और अपने पीछे न ताक; लूत की पत्नी को याद करो।