(173) पाखंड

पाखंड

1. फरीसी किस पाप के दोषी थे?
इतने में जब हजारों की भीड़ लग गई, यहां तक कि एक दूसरे पर गिरे पड़ते थे, तो वह सब से पहिले अपने चेलों से कहने लगा, कि फरीसियों के कपटरूपी खमीर से चौकस रहना”। (लूका 12:1)।

टिप्पणी:- पाखण्ड वह होने का ढोंग है जो कोई नहीं है; छलावा; किसी के वास्तविक चरित्र या उद्देश्यों को छिपाना; विशेष रूप से, सद्गुण या धर्म का झूठा रूप धारण करना।

2. फरीसियों ने खुद को कपटी कैसे दिखाया?
हे कपटियों, यशायाह ने तुम्हारे विषय में यह भविष्यद्वाणी ठीक की। कि ये लोग होठों से तो मेरा आदर करते हैं, पर उन का मन मुझ से दूर रहता है”।(मत्ती 15:8)।

3. उन्होंने परमेश्वर की एक आज्ञा को कैसे रद्द कर दिया?
क्योंकि परमेश्वर ने आज्ञा दी, कि अपने पिता और अपनी माता का आदर करना। . . . परन्तु तुम कहते हो, कि जो कोई अपके पिता वा माता से कहे, कि जो कुछ तुझे मुझ से लाभ पहुंच सकता या, वह भेंट है; और अपके पिता वा माता का आदर न करे, वह स्वतन्त्र रहेगा। इस प्रकार तुम ने अपनी परम्परा के अनुसार परमेश्वर की आज्ञा को निष्फल कर दिया है।” (पद 4-6)।

4. मसीह ने कैसे कहा कि कपटी प्रार्थना करते हैं?
और जब तू प्रार्थना करे, तो कपटियों के समान न हो क्योंकि लोगों को दिखाने के लिये सभाओं में और सड़कों के मोड़ों पर खड़े होकर प्रार्थना करना उन को अच्छा लगता है; मैं तुम से सच कहता हूं, कि वे अपना प्रतिफल पा चुके। (मत्ती 6:5)।

5. मसीह उसे क्या कहते हैं जो दूसरों की कमियों को तो देखता है, लेकिन अपनी गलतियों को नहीं देखता और न ही सुधारता है?
“हे कपटी, पहले अपनी आंख में से लट्ठा निकाल ले, तब तू अपने भाई की आंख का तिनका भली भांति देखकर निकाल सकेगा “ (मत्ती 7:5)।

6. एक कपटी अपने पड़ोसी के साथ कैसा व्यवहार करता है?
भक्तिहीन जन अपने पड़ोसी को अपने मुंह की बात से बिगाड़ता है, परन्तु धर्मी लोग ज्ञान के द्वारा बचते हैं। (नीतिवचन 11:9) “क्योंकि जैसा वह अपने मन में विचार करता है, वैसा वह आप है। वह तुझ से कहता तो है, खा पी, परन्तु उसका मन तुझ से लगा नहीं”। (नीतिवचन 23:7)।

7. प्रेरितों में से कौन सा एक बार भ्रम फैलाने का दोषी था?
और उसके साथ शेष यहूदियों ने भी कपट किया, यहां तक कि बरनबास भी उन के कपट में पड़ गया। “ (गलातियों 2:13)।

8. पौलुस ने क्यों कहा कि वह इस मामले में पतरस का विरोध करता है?
परन्तु जब पतरस अन्ताकिया में आया, तो मैं ने उसके साम्हने उसका साम्हना किया, क्योंकि वह दोषी ठहरा था।” (पद 11)

9. दाऊद ने क्या कहा कि वह नहीं करेगा?
“ मैं निकम्मी चाल चलने वालों के संग नहीं बैठा, और न मैं कपटियों के साथ कहीं जाऊंगा; (भजन संहिता 26:4।)

10. हमारा प्यार कितना पवित्र होना चाहिए?
प्रेम निष्कपट हो; बुराई से घृणा करो; भलाई मे लगे रहो।“(रोमियो 12:9)।

11. कपटी की आशा का क्या होगा?
ईश्वर के सब बिसराने वालों की गति ऐसी ही होती है और भक्तिहीन की आशा टूट जाती है।”(अय्यूब 8:13)।

12. उस सेवक का क्या होगा जो प्रभु से प्रेम करने का दावा करते हुए अपने कामों से यह जताता है, कि वह सांसारिक है, और न तो उसके आने की बाट जोहता है और न उसकी लालसा करता है?
तो उस दास का स्वामी ऐसे दिन आएगा, जब वह उस की बाट न जोहता हो। और ऐसी घड़ी कि वह न जानता हो, और उसे भारी ताड़ना देकर, उसका भाग कपटियों के साथ ठहराएगा: वहां रोना और दांत पीसना होगा”(मत्ती 24:50,51” यशायाह 33:14)।

13. स्वर्गीय बुद्धि की विशेषता क्या है?
पर जो ज्ञान ऊपर से आता है वह पहिले तो पवित्र होता है फिर मिलनसार, कोमल और मृदुभाव और दया, और अच्छे फलों से लदा हुआ और पक्षपात और कपट रहित होता है”। (याकूब 3:17)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)