(17) आशा

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1.विश्वास और आशा के बीच क्या संबंध है?
“अब विश्वास आशा की हुई वस्तुओं का निश्चय, और अनदेखी वस्तुओं का प्रमाण है।” (इब्रानियों 11:1)।

2.शास्त्र क्यों लिखे गए?
“जितनी बातें पहिले से लिखी गईं, वे हमारी ही शिक्षा के लिये लिखी गईं हैं कि हम धीरज और पवित्र शास्त्र की शान्ति के द्वारा आशा रखें” (रोमियों 15:4)।

3.बच्चों को परमेश्वर के अद्भुत कार्यों का पूर्वाभ्यास क्यों करना चाहिए?
उन्हे हम उनकी सन्तान से गुप्त न रखेंगें, परन्तु होनहार पीढ़ी के लोगों से, यहोवा का गुणानुवाद और उसकी सामर्थ और आश्चर्यकर्मों का वर्णन करेंगें॥
उसने तो याकूब में एक चितौनी ठहराई, और इस्त्राएल में एक व्यवस्था चलाई, जिसके विषय उसने हमारे पितरों को आज्ञा दी, कि तुम इन्हे अपने अपने लड़के बालों को बताना;
कि आने वाली पीढ़ी के लोग, अर्थात जो लड़के बाले उत्पन्न होने वाले हैं, वे इन्हे जानें; और अपने अपने लड़के बालों से इनका बखान करने में उद्यत हों, जिस से वे परमेश्वर का आसरा रखें,
और ईश्वर के बड़े कामों को भूल न जाएं, परन्तु उसकी आज्ञाओं का पालन करते रहें;” (भजन संहिता 78:4-7)।

4.जो मसीह के बिना हैं, वे किस दशा में हैं?
11 इस कारण स्मरण करो, कि तुम जो शारीरिक रीति से अन्यजाति हो, (और जो लोग शरीर में हाथ के किए हुए खतने से खतना वाले कहलाते हैं, वे तुम को खतना रहित कहते हैं)। 12 तुम लोग उस समय मसीह से अलग और इस्त्राएल की प्रजा के पद से अलग किए हुए, और प्रतिज्ञा की वाचाओं के भागी न थे, और आशाहीन और जगत में ईश्वर रहित थे।” (इफिसियों 2:11,12)।

5.मसीही विश्‍वासियों के लिए आशा क्या बन जाती है?
“पर हे प्रियो यद्यपि हम ये बातें कहते हैं तौभी तुम्हारे विषय में हम इस से अच्छी और उद्धारवाली बातों का भरोसा करते हैं।” (इब्रानियों 6:19)।

6.किसके पास उनकी मृत्यु में आशा है?
“दुष्ट मनुष्य बुराई करता हुआ नाश हो जाता है, परन्तु धर्मी को मृत्यु के समय भी शरण मिलती है।” (नीतिवचन 14:32)।

7.शोक में, मसीहियों को किस आशाहीन दुःख से मुक्ति मिली है?
“हे भाइयों, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञान रहो; ऐसा न हो, कि तुम औरों की नाईं शोक करो जिन्हें आशा नहीं।” (1 थिस्सलुनीकियों 4:13)।

8.मसीह के पुनरूत्थान ने हमें किस लिए उत्पन्‍न किया है?
“हमारे प्रभु यीशु मसीह के परमेश्वर और पिता का धन्यवाद दो, जिस ने यीशु मसीह के हुओं में से जी उठने के द्वारा, अपनी बड़ी दया से हमें जीवित आशा के लिये नया जन्म दिया।” (1 पतरस 1:3)।

9.मसीही विश्‍वासी की आशा को क्या कहा जाता है?
“और उस धन्य आशा की अर्थात अपने महान परमेश्वर और उद्धारकर्ता यीशु मसीह की महिमा के प्रगट होने की बाट जोहते रहें।” (तीतुस 2:13)।

10.पौलुस ने किस समय इस आशा को पूरा होने को महसूस किया था?
“भविष्य में मेरे लिये धर्म का वह मुकुट रखा हुआ है, जिसे प्रभु, जो धर्मी, और न्यायी है, मुझे उस दिन देगा और मुझे ही नहीं, वरन उन सब को भी, जो उसके प्रगट होने को प्रिय जानते हैं॥” (2 तीमुथियुस 4:8)।

11.यह आशा एक व्यक्‍ति को क्या करने के लिए प्रेरित करेगी?
“और जो कोई उस पर यह आशा रखता है, वह अपने आप को वैसा ही पवित्र करता है, जैसा वह पवित्र है।” (1 यूहन्ना 3:3)।

12.यिर्मयाह भविष्यद्वक्ता क्या कहता है कि मनुष्य का भला करना क्या है?
“यहोवा से उद्धार पाने की आशा रख कर चुपचाप रहना भला है।” (विलापगीत 3:26)।

13.कपटी की आशा के बारे में क्या कहा गया है?
13 ईश्वर के सब बिसराने वालों की गति ऐसी ही होती है और भक्तिहीन की आशा टूट जाती है। 14 उसकी आश का मूल कट जाता है; और जिसका वह भरोसा करता है, वह मकड़ी का जाला ठहराता है।” (अय्यूब 8:13,14)।

14.जिसकी आशा परमेश्वर पर है, उसकी क्या दशा है?
“क्या ही धन्य वह है, जिसका सहायक याकूब का ईश्वर है, और जिसका भरोसा अपने परमेश्वर यहोवा पर है।” (भजन संहिता  146:5)। “धन्य है वह पुरुष जो यहोवा पर भरोसा रखता है, जिसने परमेश्वर को अपना आधार माना हो।” (यिर्मयाह 17:7)।

15.परमेश्वर की सन्तान किस में बहुतायत से हो सकती है?
“सो परमेश्वर जो आशा का दाता है तुम्हें विश्वास करने में सब प्रकार के आनन्द और शान्ति से परिपूर्ण करे, कि पवित्र आत्मा की सामर्थ से तुम्हारी आशा बढ़ती जाए॥” (रोमियों 15:13)।

16.मसीही किस बात से आनन्दित होते हैं?
“जिस के द्वारा विश्वास के कारण उस अनुग्रह तक, जिस में हम बने हैं, हमारी पहुंच भी हुई, और परमेश्वर की महिमा की आशा पर घमण्ड करें।” (रोमियों 5:2)।

17.क्या बात हमें शर्मिंदा होने से रोकेगी?
“और आशा से लज्ज़ा नहीं होती, क्योंकि पवित्र आत्मा जो हमें दिया गया है उसके द्वारा परमेश्वर का प्रेम हमारे मन में डाला गया है।” (रोमियों 5:5)।

18.संकट के समय परमेश्वर के लोगों की आशा कौन करेगा?
“और यहोवा सिय्योन से गरजेगा, और यरूशलेम से बड़ा शब्द सुनाएगा; और आकाश और पृथ्वी थरथराएंगे। परन्तु यहोवा अपनी प्रजा के लिये शरणस्थान और इस्राएलियों के लिये गढ़ ठहरेगा॥” (योएल 3:16)।

19.परमेश्वर में आशा रखनेवालों के लिए कौन-से प्रेरक वचन कहे जाते हैं?
“हे यहोवा परआशा रखने वालों हियाव बान्धो और तुम्हारे हृदय दृढ़ रहें!” (भजन संहिता 31:24)।

20.हमारी आशा कब तक बनी रहनी चाहिए?
“पर हम बहुत चाहते हैं, कि तुम में से हर एक जन अन्त तक पूरी आशा के लिये ऐसा ही प्रयत्न करता रहे।” (इब्रानियों 6:11)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है।

मसीही की आशा कितनी हर्षित है
यहाँ नीचे मेहनत करते हुए!
यहां से गुजरते हुए यह हमें उत्साहित करती है
इस हाय के जंगल में।

यह हमें आराम की जगह की ओर इशारा करती है
जहाँ मसीह के साथ संत राज्य करेंगे;
जहां हम पृथ्वी के प्रिय से मिलेंगे,
और फिर कभी अलग न होंगें, –

ऐसा देश जहाँ पाप कभी नहीं आ सकता,
परीक्षा कभी परेशान नहीं करते;
जहां खुशियां हमेशा रहेंगी।
और वह भी बिना किसी मिश्रण के।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)