(167) व्यक्तियों का सम्मान

व्यक्तियों का सम्मान

1. परमेश्वर ने सब जातियों को किस का बनाया है?
“उस ने एक ही मूल से मनुष्यों की सब जातियां सारी पृथ्वी पर रहने के लिये बनाईं हैं; और उन के ठहराए हुए समय, और निवास के सिवानों को इसलिये बान्धा है।” (प्रेरितों के काम 17:26)।

2. परमेश्वर कितने के लिए भला है?
“यहोवा सभों के लिये भला है, और उसकी दया उसकी सारी सृष्टि पर है ।” (भजन संहिता 145:9)।

3. क्या ईश्वर व्यक्तियों का सम्मान करता है?
हम को तो मरना ही है, और भूमि पर गिरे हुए जल के समान ठहरेंगे, जो फिर उठाया नहीं जाता; तौभी परमेश्वर प्राण नहीं लेता, वरन ऐसी युक्ति करता है कि निकाला हुआ उसके पास से निकाला हुआ न रहे। “ (2 शमूएल 14:14)।

4. परमेश्वर किसे स्वीकार करता है?
तब पतरस ने मुंह खोलकर कहा; अब मुझे निश्चय हुआ, कि परमेश्वर किसी का पक्ष नहीं करता, वरन हर जाति में जो उस से डरता और धर्म के काम करता है, वह उसे भाता है। “ (प्रेरितों के काम 10:34,35)।

5. शास्त्रों में व्यक्तियों का आदर करने के लिए कौन-सी मनाही दी गई है?
न्याय करते समय किसी का पक्ष न करना; जैसे बड़े की वैसे ही छोटे मनुष्य की भी सुनना; किसी का मुँह देखकर न डरना, क्योंकि न्याय परमेश्वर का काम है; और जो मुकद्दमा तुम्हारे लिये कठिन हो, वह मेरे पास ले आना, और मैं उसे सुनूंगा। (व्यवस्थाविवरण 1:17)।  चरबी के हव्यों समेत जो उठाई हुई जांघ और हिलाई हुई छाती यहोवा के साम्हने हिलाने के लिये आया करेंगी, ये भाग यहोवा की आज्ञा के अनुसार सर्वदा की विधी की व्यवस्था से तेरे और तेरे लड़केबालों के लिये हैं (लैव्यव्यवस्था 10:15)।  क्या ही धन्य है वह पुरूष, जो यहोवा पर भरोसा करता है, और अभिमानियों और मिथ्या की ओर मुड़ने वालों की ओर मुंह न फेरता हो।“ (भजन संहिता 40:4)।

6. वे कौन से दोषी हैं जो लोगों का आदर करते हैं?
यदि आप व्यक्तियों का सम्मान करते हैं, तो आप पाप करते हैं, और कानून के उल्लंघनकर्ताओं के रूप में आश्वस्त हैं।” (याकूब 2:9)। “जो अपने पड़ोसी को तुच्छ जानता, वह पाप करता है, परन्तु जो दीन लोगों पर अनुग्रह करता, वह धन्य होता है। “( नीतिवचन 14:21)।

7. किस उदाहरण से यह पाप स्पष्ट होता है?
“हे मेरे भाइयों, हमारे महिमायुक्त प्रभु यीशु मसीह का विश्वास तुम में पक्षपात के साथ न हो। क्योंकि यदि एक पुरूष सोने के छल्ले और सुन्दर वस्त्र पहिने हुए तुम्हारी सभा में आए और एक कंगाल भी मैले कुचैले कपड़े पहिने हुए आए। और तुम उस सुन्दर वस्त्र वाले का मुंह देख कर कहो कि तू वहां अच्छी जगह बैठ; और उस कंगाल से कहो, कि तू यहां खड़ा रह, या मेरे पांव की पीढ़ी के पास बैठ। तो क्या तुम ने आपस में भेद भाव न किया और कुविचार से न्याय करने वाले न ठहरे? (याकूब 2:1-4)।

8. आरंभिक मसीही कलीसिया में उपयाजकों की नियुक्ति का कारण क्या था?
उन दिनों में जब चेले बहुत होने लगे, तो यूनानी भाषा बोलनेवाले इब्रियों पर कुड़कुड़ाने लगे, कि प्रतिदिन की सेवकाई में हमारी विधवाओं की सुधि नहीं ली जाती।” (प्रेरितों के काम 6:1)।

9. कुछ साल बाद पतरस और दूसरे लोगों ने अपने चालचलन में क्या गलती की?
पर जब कैफा अन्ताकिया में आया तो मैं ने उसके मुंह पर उसका साम्हना किया, क्योंकि वह दोषी ठहरा था। इसलिये कि याकूब की ओर से कितने लोगों के आने से पहिले वह अन्यजातियों के साथ खाया करता था, परन्तु जब वे आए, तो खतना किए हुए लोगों के डर के मारे उन से हट गया और किनारा करने लगा। और उसके साथ शेष यहूदियों ने भी कपट किया, यहां तक कि बरनबास भी उन के कपट में पड़ गया। (गलातियों 2:11-13)।

10. मनुष्यों के बीच के सभी राष्ट्रीय, अपवित्र, और अन्यायपूर्ण भेद कैसे मसीह में मिटा दिए गए हैं?
“और तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है उन्होंने मसीह को पहिन लिया है। अब न कोई यहूदी रहा और न यूनानी; न कोई दास, न स्वतंत्र; न कोई नर, न नारी; क्योंकि तुम सब मसीह यीशु में एक हो। (गलातियों 3:27,28;  कुलुस्सियों 3:11 भी देखें)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)