(165) लालच

1. मसीह ने लालच के बारे में क्या चेतावनी दी?
उस ने उन से कहा, चौकस रहो, और लोभ से सावधान रहो, क्योंकि मनुष्य का जीवन उसकी संपत्ति की बहुतायत से नहीं होता।” (लूका 12:15)।

2. कौन सी आज्ञा इस पाप को रोकती है?
तू लालच नहीं करेगा।” ( निर्गमन 20:17)।

लालच: “बेहद इच्छुक; प्राप्त करने और रखने के लिए अत्यधिक उत्सुक (विशेष रूप से धन); कंजूस। “- वेबस्टर।

3. किस बात से पता चलता है कि जिस धनी व्यक्ति के पास पहले से ही बहुतायत थी, उसमें यह सिद्धांत मज़बूत था?
18 और उस ने कहा; मैं यह करूंगा: मैं अपनी बखारियां तोड़ कर उन से बड़ी बनाऊंगा;
19 और वहां अपना सब अन्न और संपत्ति रखूंगा: और अपने प्राण से कहूंगा, कि प्राण, तेरे पास बहुत वर्षों के लिये बहुत संपत्ति रखी है; चैन कर, खा, पी, सुख से रह।” (लूका 12:18,19)।

4. परमेश्वर ने उससे क्या कहा?
“परन्तु परमेश्वर ने उस से कहा, हे मूर्ख, इसी रात तेरा प्राण तुझ से ले लिया जाएगा: तब जो कुछ तू ने इकट्ठा किया है वह किसका होगा?” ( पद 20)।

5. उद्धारकर्ता ने इस दृष्टान्त का क्या उपयोग किया?
ऐसा ही वह भी है जो अपके लिए धन बटोरता है, और परमेश्वर की दृष्टि में धनी नहीं।” ( पद 21)।

6. पौलुस लालच को क्या कहता है?
“इसलिये अपने उन अंगो को मार डालो, जो पृथ्वी पर हैं, अर्थात व्यभिचार, अशुद्धता, दुष्कामना, बुरी लालसा और लोभ को जो मूर्ति पूजा के बराबर है।“ (कुलुस्सियों 3:5)।

टिप्पणी:- ”इस दुनिया के आराम के खतरनाक समुद्र में दूर न जाएँ। जो भलाई परमेश्वर तुम्हें देता है, उसे लें, परन्तु उसके विषय में कहें, ‘वह बीत जाती है,’ क्योंकि वह तो थोड़े ही दिनों की आवश्यकता की पूर्ति है। कभी भी अपनी वस्तुओं को अपना ईश्वर बनने के लिए मत सहो।” – स्पर्जन।

7. ये पाप मनुष्य जाति पर क्या लाते हैं?
जिन बातों के कारण परमेश्वर का क्रोध आज्ञा न मानने वालों पर भड़कता है।”( पद 6)।

8. मसीह ने कौन-सी दोहरी सेवा को असंभव बताया?
वह परमेश्वर और धन की सेवा नहीं कर सकते हैं।”( लूका 16:13)।  

9. फरीसी किस पाप के दोषी थे?
और फरीसी भी जो लोभी थे, ये सब बातें सुनकर उसे ठट्ठों में उड़ाने लगे।”( पद 14)।

10. मसीह ने क्या जवाब दिया?
और उस ने उन से कहा, तुम वे हो जो मनुष्यों के साम्हने अपने आप को धर्मी ठहराते हो; परन्तु परमेश्वर तुम्हारे मनों को जानता है;( पद 15)।

11. यहोवा लालच को कैसे देखता है?
धर्मी को यहोवा भूखों मरने नहीं देता, परन्तु दुष्टों की अभिलाषा वह पूरी होने नहीं देता।” (नीतिवचन 10:3)।

12. इस पाप की वजह से आकान को क्या करना पड़ा?
जब मुझे लूट में शिनार देश का एक सुन्दर ओढ़ना, और दो सौ शेकेल चांदी, और पचास शेकेल सोने की एक ईंट देख पड़ी, तब मैं ने उनका लालच करके उन्हें रख लिया; वे मेरे डेरे के भीतर भूमि में गड़े हैं, और सब के नीचे चांदी है”। (यहोशू 7:21)।

13. लालच ने यहूदा को क्या करने के लिए प्रेरित किया?
“तब यहूदा इसकिरयोती जो बारह में से एक था, महायाजकों के पास गया, कि उसे उन के हाथ पकड़वा दे। वे यह सुनकर आनन्दित हुए, और उस को रूपये देना स्वीकार किया, और यह अवसर ढूंढ़ने लगा कि उसे किसी प्रकार पकड़वा दे”। (मरकुस 14:10,11)।

14. आखिरी दिन क्यों खतरनाक हैं?
पर यह जान रख, कि अन्तिम दिनों में कठिन समय आएंगे।क्योंकि मनुष्य अपस्वार्थी, लोभी, डींगमार, अभिमानी, निन्दक, माता-पिता की आज्ञा टालने वाले, कृतघ्न, अपवित्र।  (2 तीमुथियुस 3:1,2)।

15. मसीह ने फरीसियों के इस झूठे विचार को सही करने के लिए कौन-सा दृष्टान्त दिया कि धन परमेश्‍वर की विशेष कृपा का चिन्ह है?
“अमीर आदमी और लाजर का दृष्टांत।” (लूका 16:19-31)।

16. धन रखने के खतरों में से एक के रूप में उसने क्या बताया?
यीशु ने चारों ओर देखकर अपने चेलों से कहा, धनवानों को परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना कैसा कठिन है! चेले उस की बातों से अचम्भित हुए, इस पर यीशु ने फिर उन को उत्तर दिया, हे बाल को, जो धन पर भरोसा रखते हैं, उन के लिये परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना कैसा कठिन है!  (मरकुस 10:23,24)।

टिप्पणी:- और जिनके पास धन है उनके लिए उन पर भरोसा न करना कितना कठिन है!

17. एक नियम के रूप में, कौन सा वर्ग आम तौर पर सुसमाचार को स्वीकार करता है?
“हे मेरे प्रिय भाइयों सुनो; क्या परमेश्वर ने इस जगत के कंगालों को नहीं चुना कि विश्वास में धनी, और उस राज्य के अधिकारी हों, जिस की प्रतिज्ञा उस ने उन से की है जो उस से प्रेम रखते हैं” (याकूब 2:5)।

18. मसीह ने कहा कि एक धनी व्यक्ति के लिए परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना कितना कठिन है?
परमेश्वर के राज्य में धनवान के प्रवेश करने से ऊंट का सूई के नाके में से निकल जाना सहज है!“ (मरकुस 10:25)

टिप्पणी:-यदि यहां मसीह ने यरूशलेम की दीवारों में एक छोटे, निम्न द्वार का उल्लेख किया है, जिसे “द नीडल्स आई” कहा जाता है, जैसा कि कुछ लोगों द्वारा सोचा गया है, कथन का बल अभी भी बना हुआ है; इससे पहले कि कोई ऊँट इस द्वार से गुजरे, यह आवश्यक था कि वह अपने बोझ से मुक्त हो जाए, और अपने घुटनों पर बैठ जाए और रेंग कर निकल जाए।

19. धनी युवक उद्धार की इच्छा क्यों रखता था, और जो कुछ उसके पास था उसे बेचकर दान देना नहीं चाहता था, जैसा कि मसीह ने उसे करने को कहा था?
“और देखो, एक मनुष्य ने पास आकर उस से कहा, हे गुरू; मैं कौन सा भला काम करूं, कि अनन्त जीवन पाऊं?” (मत्ती 19:16)।

20. पैसे का प्यार क्या घोषित किया गया है?
“क्योंकि रूपये का लोभ सब प्रकार की बुराइयों की जड़ है, जिसे प्राप्त करने का प्रयत्न करते हुए कितनों ने विश्वास से भटक कर अपने आप को नाना प्रकार के दुखों से छलनी बना लिया है । “(1 तीमुथियुस 6:10)

21. जो लोग धनी होना चाहते हैं, उन पर कौन-सी विपत्तियाँ आ पड़ती हैं?
परन्तु जो धनवान होंगे वे ऐसी परीक्षा, और फंदे, और बहुतेरे व्यर्थ और हानिकारक लालसाओं में फंसते हैं, जो मनुष्यों को बिगाड़ देती हैं और विनाश के समुद्र में डूबा देती हैं।” ( पद 9)।

22. मनुष्य को धन पाने की शक्ति कौन देता है ?
परन्तु तू अपके परमेश्वर यहोवा को स्मरण रखना, क्योंकि वही है जो तुझे धन बटोरने की शक्‍ति देता है।” (व्यवस्थाविवरण 8:18)।

23. धनी और गरीब, सभी कैसे परमेश्वर का सम्मान कर सकते हैं?
अपनी संपत्ति के द्वारा और अपनी भूमि की पहिली उपज दे देकर यहोवा की प्रतिष्ठा करना।” (नीतिवचन 3:9)

24. धन-दौलत के बारे में क्या चेतावनी दी गयी है?
“अन्धेर करने पर भरोसा मत रखो, और लूट पाट करने पर मत फूलो; चाहे धन सम्पति बढ़े, तौभी उस पर मन न लगाना ।(भजन संहिता 62:10)।

25. क्या धन पुरुषों की हानि के लिए रखा जा सकता है?
मैं ने धरती पर एक बड़ी बुरी बला देखी है; अर्थात वह धन जिसे उसके मालिक ने अपनी ही हानि के लिये रखा हो,” (सभोपदेशक 5:13)।

26. अमीरों को क्या शुल्क दिया जाता है?
इस संसार के धनवानों को आज्ञा दे, कि वे अभिमानी न हों और चंचल धन पर आशा न रखें, परन्तु परमेश्वर पर जो हमारे सुख के लिये सब कुछ बहुतायत से देता है।  और भलाई करें, और भले कामों में धनी बनें, और उदार और सहायता देने में तत्पर हों।  और आगे के लिये एक अच्छी नेव डाल रखें, कि सत्य जीवन को वश में कर लें” (1 तीमुथियुस 6:17-19)।

27. बिना दुःख जोड़े क्या धनवान बनाता है?
धन यहोवा की आशीष ही से मिलता है, और वह उसके साथ दु:ख नहीं मिलाता”। (नीतिवचन 10:22)

28. सच्चा धन कैसे प्राप्त किया जाता है?
नम्रता और यहोवा के भय मानने का फल धन, महिमा और जीवन होता है।”  (नीतिवचन 22:4)

29. मूसा ने मसीह की निंदा को कैसे समझा?
और मसीह के कारण निन्दित होने को मिसर के भण्डार से बड़ा धन समझा: क्योंकि उस की आंखे फल पाने की ओर लगी थीं”। (इब्रानियों 11:26)

30. बाइबल में किन दो तरह के अमीर आदमियों का ज़िक्र किया गया है?
कोई तो धन बटोरता, परन्तु उसके पास कुछ नहीं रहता, और कोई धन उड़ा देता, तौभी उसके पास बहुत रहता है”। (नीतिवचन 13:7).

टिप्पणी:- लूका 12:16-20 में प्रथम श्रेणी का उदाहरण है; प्रेरितों के काम 4:34-37 में दूसरे के उदाहरण हैं।

31. अमीरों को कौन-सी गंभीर चेतावनी दी गई है, जिन्होंने आखिरी दिनों में धन इकट्ठा किया है और गरीबों पर अत्याचार किया है?
“हे धनवानों सुन तो लो; तुम अपने आने वाले क्लेशों पर चिल्ला-चिल्लाकर रोओ। तुम्हारा धन बिगड़ गया और तुम्हारे वस्त्रों को कीड़े खा गए। तुम्हारे सोने-चान्दी में काई लग गई है; और वह काई तुम पर गवाही देगी, और आग की नाईं तुम्हारा मांस खा जाएगी: तुम ने अन्तिम युग में धन बटोरा है। देखो, जिन मजदूरों ने तुम्हारे खेत काटे, उन की वह मजदूरी जो तुम ने धोखा देकर रख ली है चिल्ला रही है, और लवने वालों की दोहाई, सेनाओं के प्रभु के कानों तक पहुंच गई है। तुम पृथ्वी पर भोग-विलास में लगे रहे और बड़ा ही सुख भोगा; तुम ने इस वध के दिन के लिये अपने हृदय का पालन-पोषण करके मोटा ताजा किया। (याकूब 5:1-5)।

32. क्या कोप के दिन चान्दी वा सोना उद्धार कर पाएगा?
“यहोवा के रोष के दिन में, न तो चान्दी से उनका बचाव होगा, और न सोने से; क्योंकि उसके जलन की आग से सारी पृथ्वी भस्म हो जाएगी; वह पृथ्वी के सारे रहने वालों को घबरा कर उनका अन्त कर डालेगा।” (सपन्याह 1:18; नीतिवचन 11:4 भी देखें)।

33. तब धनी लोग अपने धन का क्या करेंगे?
वे अपनी चान्दी सड़कों में फेंक देंगे, और उनका सोना अशुद्ध वस्तु ठहरेगा; यहोवा की जलन के दिन उनका सोना चान्दी उन को बचा न सकेगी, न उस से उनका जी सन्तुष्ट होगा, न उनके पेट भरेंगे। क्योंकि वह उनके अधर्म के ठोकर का कारण हुआ है। “ (यहेजकेल 7:19)।

टिप्पणी: -जब स्टीमर “सेंट्रल अमेरिका”, जिसमें लगभग छह सौ यात्री सवार थे, केप हैटरस, 12 सितंबर, 1857 को एक भयानक तूफान में बर्बाद हो गया था, कई यात्री जो कैलिफोर्निया की सोने की खानों से खनिक लौट रहे थे , अपने खजाने के बेल्ट से खुद को अलग कर लिया और केबिन के फर्श पर सोना बिखेर दिया, जो इसे लेने के लिए कह रहे थे, ऐसा न हो कि उनके व्यक्तियों के बारे में इसका वजन उन्हें उनकी मृत्यु तक ले जाए। “पूर्ण पर्स, जिसमें कुछ उदाहरणों में हजारों डॉलर होते हैं, अछूते रहते हैं। कालीन की थैलियाँ खोली गईं, और चमकती धातु को मौत की निराशा की विलक्षणता के साथ फर्श पर उंडेल दिया गया। यात्रियों में से एक ने बैग खोला और केबिन के बारे में बीस हजार डॉलर सोने की धूल में फेंक दिए, और उससे कहा कि जो सोना लेने के अपने लालच को पूरा करना चाहता है। लेकिन इसे छुआ तक नहीं गया, यह सबसे बड़ा मैल था।”- “हमारी पहली सदी,” पेज 642,643)।

जब स्टीमशिप “आर्कटिक” 20 सितंबर, 1854 को मध्य-समुद्र में टकराव से खो गया था, तो एक यात्री ने तीस हजार पाउंड स्टर्लिंग, या एक लाख पचास हजार डॉलर की पेशकश की, अगर लाइफ-बोट उसे बचाने के लिए वापस रखेगी। वे ऐसा करने के लिए मुड़े, लेकिन उनके पहुँचने से पहले ही वह डूब गया।- आईडी, पृष्ठ 614।

34. परमेश्वर के वरदानों के भण्डारी होने के नाते, हमें क्या करने के लिए कहा गया है?
और मैं तुम से कहता हूं, कि अधर्म के धन को अपने लिये मित्र बना लो; ताकि जब तुम असफल हो जाओ, तो वे तुम्हें अनन्त निवासों में ले लें।”( लूका 16:9)। “जिस ने वरदान पाया है, उसी प्रकार परमेश्वर के नाना प्रकार के अनुग्रह के भले भण्डारियों की नाईं एक दूसरे की सेवा करो।”( 1 पतरस 4:10)।

स्वर्गीय लाभ का मार्ग नहीं है
सांसारिक दु: ख और हानि के माध्यम से?
आराम को परिश्रम और दर्द से जीतना चाहिए;
मुकुट क्रूस का प्रतिदान करता है।
हेनरी एफ लिट्टे

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)