(15) उद्धार केवल मसीह के द्वारा

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1.मसीह किस उद्देश्य से संसार में आया?
“यह बात सच और हर प्रकार से मानने के योग्य है, कि मसीह यीशु पापियों का उद्धार करने के लिये जगत में आया, जिन में सब से बड़ा मैं हूं।” (1 तीमुथियुस 1:15).

2.उसका नाम “यीशु” क्यों रखा जाना था?
“वह पुत्र जनेगी और तू उसका नाम यीशु रखना; क्योंकि वह अपने लोगों का उन के पापों से उद्धार करेगा।” (मत्ती 1:21)।

3.क्या किसी और के द्वारा मोक्ष है?
“और किसी दूसरे के द्वारा उद्धार नहीं; क्योंकि स्वर्ग के नीचे मनुष्यों में और कोई दूसरा नाम नहीं दिया गया, जिस के द्वारा हम उद्धार पा सकें॥” (प्रेरितों के काम 4:12)।

4.हम किसके द्वारा परमेश्वर से मेल मिलाप करते हैं?
18 और सब बातें परमेश्वर की ओर से हैं, जिस ने मसीह के द्वारा अपने साथ हमारा मेल-मिलाप कर लिया, और मेल-मिलाप की सेवा हमें सौंप दी है। 19 अर्थात परमेश्वर ने मसीह में होकर अपने साथ संसार का मेल मिलाप कर लिया, और उन के अपराधों का दोष उन पर नहीं लगाया और उस ने मेल मिलाप का वचन हमें सौंप दिया है॥” (2 कुरीं 5:18,19)।

5.मसीह हमारे लिए क्या बनाया गया है, और किस उद्देश्य से?
“जो पाप से अज्ञात था, उसी को उस ने हमारे लिये पाप ठहराया, कि हम उस में होकर परमेश्वर की धामिर्कता बन जाएं॥” (2 कुरीं 5:21)।

6.उद्धार के लिए हम मसीह पर कितने निर्भर हैं?
“मैं दाखलता हूं: तुम डालियां हो; जो मुझ में बना रहता है, और मैं उस में, वह बहुत फल फलता है, क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ भी नहीं कर सकते।” (यूहन्ना 15:5)।

7.मसीह में उद्धारकर्ता होने के लिए कौन-सी तीन अनिवार्य बातें पाई जाती हैं?
ईश्वरत्व- “परन्तु पुत्र से कहता है, कि हे परमेश्वर तेरा सिंहासन युगानुयुग रहेगा: तेरे राज्य का राजदण्ड न्याय का राजदण्ड है।” (इब्रानियों 1:8)।

मनुष्यता- “परन्तु जब समय पूरा हुआ, तो परमेश्वर ने अपने पुत्र को भेजा, जो स्त्री से जन्मा, और व्यवस्था के आधीन उत्पन्न हुआ।” (गलातियों 4:4)।

निष्पापता- “न तो उस ने पाप किया, और न उसके मुंह से छल की कोई बात निकली।” (1 पतरस 2:22)।

8.पवित्र शास्त्र से मसीह ने कैसे दिखाया कि संसार के प्रतिज्ञात उद्धारकर्ता को मानवीय और ईश्वरीय दोनों होना चाहिए?
41 जब फरीसी इकट्ठे थे, तो यीशु ने उन से पूछा।
42 कि मसीह के विषय में तुम क्या समझते हो? वह किस का सन्तान है? उन्होंने उस से कहा, दाऊद का।
43 उस ने उन से पूछा, तो दाऊद आत्मा में होकर उसे प्रभु क्यों कहता है?
44 कि प्रभु ने, मेरे प्रभु से कहा; मेरे दाहिने बैठ, जब तक कि मैं तेरे बैरियों को तेरे पांवों के नीचे न कर दूं।
45 भला, जब दाऊद उसे प्रभु कहता है, तो वह उसका पुत्र क्योंकर ठहरा?” (मत्ती 22:41-45)।

ध्यान दें:– एक अन्य ने इस महत्वपूर्ण सत्य को उपयुक्त रूप से मसीह में मानव और ईश्वरीय मिलन के बारे में इस प्रकार रखा है: “ईश्वरीयता को मानवता की आवश्यकता थी कि मानवता ईश्वर और मनुष्य के बीच संचार का एक माध्यम वहन कर सके। मनुष्य को ईश्वर की समानता में पुनर्स्थापित करने के लिए स्वयं से ऊपर और ऊपर एक शक्ति की आवश्यकता है। मनुष्य को पाप से पवित्रता में बदलने से पहले, भीतर से कार्य करने वाली शक्ति होनी चाहिए, ऊपर से एक नया जीवन होना चाहिए। वह शक्ति मसीह है।”

9.कौन से दो तथ्य मसीह में ईश्वरीयता और मानवता के संघ की गवाही देते हैं?
अपने पुत्र हमारे प्रभु यीशु मसीह के विषय में प्रतिज्ञा की थी, जो शरीर के भाव से तो दाउद के वंश से उत्पन्न हुआ।
और पवित्रता की आत्मा के भाव से मरे हुओं में से जी उठने के कारण सामर्थ के साथ परमेश्वर का पुत्र ठहरा है।” (रोमियों 1:3,4)।

10.मृत्यु पर मसीह की विजय कितनी पूर्ण थी?
17 जब मैं ने उसे देखा, तो उसके पैरों पर मुर्दा सा गिर पड़ा और उस ने मुझ पर अपना दाहिना हाथ रख कर यह कहा, कि मत डर; मैं प्रथम और अन्तिम और जीवता हूं। 18 मैं मर गया था, और अब देख; मैं युगानुयुग जीवता हूं; और मृत्यु और अधोलोक की कुंजियां मेरे ही पास हैं।” (प्रकाशितवाक्य 1:17,18; देखें प्रेरितों के काम 2:24)।

11.मसीह में प्राप्त उद्धार कितना पूर्ण है?
“इसी लिये जो उसके द्वारा परमेश्वर के पास आते हैं, वह उन का पूरा पूरा उद्धार कर सकता है, क्योंकि वह उन के लिये बिनती करने को सर्वदा जीवित है॥” (इब्रानियं 7:25)।

12.ऐसे उद्धारकर्ता के लिए हमें क्या कहना चाहिए?
“परमेश्वर को उसके उस दान के लिये जो वर्णन से बाहर है, धन्यवाद हो॥” (2 कुरीं 9:15)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)