(145) परमेश्वर के भवन के प्रति सम्मान

परमेश्वर के भवन के प्रति सम्मान

1.परमेश्वर ने अपने लोगों को पवित्रस्थान बनाने का निर्देश क्यों दिया?
“और वे मेरे लिये एक पवित्रस्थान बनाए, कि मैं उनके बीच निवास करूं।” (निर्गमन 25:8) ।

2. उसने उन्हें परमेश्वर के इस निवास-स्थान के बारे में कैसे कहा?
“मेरे विश्रामदिन को माना करना, और मेरे पवित्रस्थान का भय निरन्तर मानना; मैं यहोवा हूं।” (लैव्यव्यवस्था 19:30)।

3. परमेश्वर अपनी सेवकाई के लिए समर्पित वस्तुओं के बारे में क्या कहता है?
“परन्तु अपनी सारी वस्तुओं में से जो कुछ कोई यहोवा के लिये अर्पण करे, चाहे मनुष्य हो चाहे पशु, चाहे उसकी निज भूमि का खेत हो, ऐसी कोई अर्पण की हुई वस्तु न तो बेची जाए और न छुड़ाई जाए; जो कुछ अर्पण किया जाए वह यहोवा के लिये परमपवित्र ठहरे।” (लैव्यव्यवस्था 27:28)।

4. जब परमेश्वर मूसा से जलती हुई झाड़ी के पास मिला, तो उसने उसे अपने जूते उतारने को क्यों कहा?
“उस ने कहा इधर पास मत आ, और अपके पांवोंसे जूतियोंको उतार दे, क्योंकि जिस स्यान पर तू खड़ा है वह पवित्र भूमि है।” (निर्गमन 3:5; यहोशू 5:15 भी देखें)।

टिप्पणी:- परमेश्वर की उपस्थिति ने जगह को पवित्र बना दिया। जब भी परमेश्वर अपने लोगों से मिलता है, वह स्थान पवित्र होता है।

5. जब मिलापवाले तम्बू को प्राचीनकाल में बनाया गया था, तब क्या हुआ था?
“तब बादल मिलापवाले तम्बू पर छा गया, और यहोवा का तेज निवासस्थान में भर गया।” (निर्गमन 40:34; देखें 2 इतिहास 5:13,14)।

6. सभी को उपासना के घर के लिए आदर क्यों दिखाना चाहिए।
“परन्तु यहोवा अपने पवित्र मन्दिर में है; समस्त पृथ्वी उसके साम्हने शान्त रहे॥” (इब्रानियों 2:20)।

टिप्पणी:-इस तथ्य को पहचानने में विफलता कई लोगों को बिना उचित सम्मान के उपासना के घर का इलाज करने के लिए प्रेरित करती है। ईश्वरीय उपासना के लिए इससे अधिक उपयुक्त कुछ भी नहीं लगता कि उपासना के स्थान में विस्मय और मौन की भावना व्याप्त हो, और इसकी दीवारों के भीतर केवल प्रार्थना, स्तुति और ईश्वर को धन्यवाद देने की ध्वनि सुनाई दे। परमेश्वर के घर में प्रवेश करने और छोड़ने से ठीक पहले, दोनों उपासकों के लिए मौन प्रार्थना में कुछ क्षणों के लिए सिर झुकाना अत्यधिक उपयुक्त और उत्कृष्ट अभ्यास है।

7. मसीह ने परमेश्वर के भवन की पवित्रता के लिए अपना आदर कैसे प्रकट किया?
15 फिर वे यरूशलेम में आए, और वह मन्दिर में गया; और वहां जो लेन-देन कर रहे थे उन्हें बाहर निकालने लगा, और सर्राफों के पीढ़े और कबूतर के बेचने वालों की चौकियां उलट दीं।
16 और मन्दिर में से होकर किसी को बरतन लेकर आने जाने न दिया।
17 और उपदेश करके उन से कहा, क्या यह नहीं लिखा है, कि मेरा घर सब जातियों के लिये प्रार्थना का घर कहलाएगा? पर तुम ने इसे डाकुओं की खोह बना दी है।” (मरकुस 11:15-17)।

टिप्पणी:-यह शुद्धिकरण मसीह की सार्वजनिक सेवकाई के अंत में हुई। उनकी सेवकाई की शुरुआत में भी इसी तरह की शुद्धता हुई थी। (यूहन्ना 2:13-17 देखें)।

8. परमेश्वर ने नादाब और अबीहू को या मिलापवाले तम्बू की सेवकाई में पराया या सामान्य आग चढ़ाने के लिये क्या दण्ड दिया?
“तब नादाब और अबीहू नामक हारून के दो पुत्रों ने अपना अपना धूपदान लिया, और उन में आग भरी, और उस में धूप डालकर उस ऊपरी आग की जिसकी आज्ञा यहोवा ने नहीं दी थी यहोवा के सम्मुख आरती दी।
तब यहोवा के सम्मुख से आग निकलकर उन दोनों को भस्म कर दिया, और वे यहोवा के साम्हने मर गए” (लैव्यव्यवस्था 10:1,2)।

टिप्पणी:- यह, जैसे कि मसीह द्वारा उसकी सेवकाई के आरंभ और अंत में मंदिर के दो शुद्धिकरण (यूहन्ना 2:13-17; मत्ती 21:12-16), यह दर्शाता है कि परमेश्वर आराधना के संबंध में विशिष्ट है और उनके घर में उपासकों का आचरण। विशेष रूप से परमेश्वर की सेवा के लिए समर्पित किसी भी कलीसिया या भवन में किसी भी प्रदर्शन या व्यायाम की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए जो उसके पवित्र चरित्र के अनुरूप नहीं है, या परमेश्वर और पवित्र चीजों के लिए सम्मान के अनुकूल नहीं है। इसे पर्व, दर्शन या सांसारिक मनोरंजन और आमोद-प्रमोद का स्थान नहीं बनाना चाहिए।

9. हमें किस मकसद से अनुग्रह पाने का बढ़ावा दिया जाता है?
28 इस कारण हम इस राज्य को पाकर जो हिलने का नहीं, उस अनुग्रह को हाथ से न जाने दें, जिस के द्वारा हम भक्ति, और भय सहित, परमेश्वर की ऐसी आराधना कर सकते हैं जिस से वह प्रसन्न होता है।
29 क्योंकि हमारा परमेश्वर भस्म करने वाली आग है॥” (इब्रानियों 12:28,29)।

10. दाऊद ने किस भावना से उपासना करने के लिए कहा?
“परन्तु मैं तो तेरी अपार करूणा के कारण तेरे भवन में आऊंगा, मैं तेरा भय मानकर तेरे पवित्र मन्दिर की ओर दण्डवत् करूंगा। (भजन संहिता 5:7)।

11. परमेश्वर के घर में हमारे चालचलन के बारे में सुलैमान ने क्या हिदायत दी है?
“जब तू परमेश्वर के भवन में जाए, तब सावधानी से चलना; सुनने के लिये समीप जाना मूर्खों के बलिदान चढ़ाने से अच्छा है; क्योंकि वे नहीं जानते कि बुरा करते हैं।” (सभोपदेशक 5:1)।

12. परमेश्वर ने कितने व्यापक रूप से कहा है कि उनका सम्मान किया जाएगा?
“क्योंकि उदयाचल से ले कर अस्ताचल तक अन्यजातियों में मेरा नाम महान है, और हर कहीं मेरे नाम पर धूप और शुद्ध भेंट चढ़ाई जाती है; क्योंकि अन्यजातियों में मेरा नाम महान है, सेनाओं के यहोवा का यही वचन है।” (मलाकी 1:11)।

13. परमेश्वर ने कितने लोगों के लिए यह योजना बनाई कि उनका घर प्रार्थना का घर हो?
“उन को मैं अपने पवित्र पर्वत पर ले आकर अपने प्रार्थना के भवन में आनन्दित करूंगा; उनके होमबलि और मेलबलि मेरी वेदी पर ग्रहण किए जाएंगे; क्योंकि मेरा भवन सब देशों के लोगों के लिये प्रार्थना का घर कहलाएगा” (यशायाह 56:7)।

टिप्पणी:-यशायाह के छप्पनवें अध्याय में नए नियम के समय से संबंधित एक भविष्यद्वाणी है। इसलिए, यह स्पष्ट है कि मसीह ने एक सामान्य सिद्धांत प्रतिपादित किया, जो परमेश्वर की सेवा के लिए समर्पित सभी घरों पर लागू होता है, जब इस भविष्यद्वाणी को प्रमाणित करते हुए उन्होंने कहा कि परमेश्वर का घर सभी राष्ट्रों के लिए प्रार्थना का घर होना चाहिए। (मरकुस 11:17 देखें)।

14. मसीह के नाम पर मिलनेवाली सभी सभाओं में कौन मौजूद होता है?
“क्योंकि जहां दो या तीन मेरे नाम पर इकट्ठे होते हैं वहां मैं उन के बीच में होता हूं॥” (मत्ती 18:20)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है।

श्रद्धा से संतों को प्रकट होने दो,
और यहोवा को दण्डवत करो;
उनकी आज्ञा श्रद्धा से सुनते हैं,
और उसके वचन से थरथराओ
हे यीशु, पृथ्वी और स्वर्ग के प्रभु,
हमारा जीवन और आनंद, आपको
सम्मान, धन्यवाद, और आशीर्वाद दिया जाए
अनंत काल तक
इसहाक वाट्स

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)