(144) सार्वजनिक आराधना

सार्वजनिक आराधना

1. केवल परमेश्वर की सच्ची आराधना कैसे की जा सकती है?
“परमेश्वर आत्मा है, और अवश्य है कि उसके भजन करने वाले आत्मा और सच्चाई से भजन करें।” (यूहन्ना 4:24)।

2. हमें यहोवा की उपासना करने का निर्देश कैसे दिया जाता है?
“यहोवा के नाम की महिमा करो; पवित्रता से शोभायमान होकर यहोवा को दण्डवत् करो।” (भजन संहिता 29:2)।

3. कौन-सी मनोवृत्ति उपासना में आदर का सूचक है?
“आओ हम झुक कर दण्डवत करें, और अपने कर्ता यहोवा के साम्हने घुटने टेकें!” (भजन संहिता 95:6)।

4. क्या गाना ईश्वरीय आराधना का एक भाग है?
उसके फाटकों से धन्यवाद, और उसके आंगनों में स्तुति करते हुए प्रवेश करो, उसका धन्यवाद करो, और उसके नाम को धन्य कहो!” “आनन्द से यहोवा की आराधना करो! जयजयकार के साथ उसके सम्मुख आओ!” (भजन संहिता 100:4,2)।

5. क्या बाइबल परमेश्वर की उपासना में वाद्य यंत्रों के प्रयोग की स्वीकृति देती है?
नरसिंगा फूंकते हुए उसकी स्तुति करो; सारंगी और वीणा बजाते हुए उसकी स्तुति करो!
डफ बजाते और नाचते हुए उसकी स्तुति करो; तार वाले बाजे और बांसुली बजाते हुए उसकी स्तुति करो!
ऊंचे शब्द वाली झांझ बजाते हुए उसकी स्तुति करो; आनन्द के महाशब्द वाली झांझ बजाते हुए उसकी स्तुति करो!” (भजन संहिता 150:3-5; देखें भजन संहिता 92:1-3)।

6. जो यहोवा की बाट जोहते हैं उनसे क्या वादा किया गया है?
“परन्तु जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वे नया बल प्राप्त करते जाएंगे, वे उकाबों की नाईं उड़ेंगे, वे दौड़ेंगे और श्रमित न होंगे, चलेंगे और थकित न होंगे॥” (यशायाह 40:31)।

7. क्या मसीह की उपस्थिति बड़ी सभाओं तक ही सीमित है?
“क्योंकि जहां दो या तीन मेरे नाम पर इकट्ठे होते हैं वहां मैं उन के बीच में होता हूं॥” (मत्ती 18:20)।

8. सार्वजनिक उपासना के बारे में दाऊद की क्या भावनाएँ थीं?
“जब लोगों ने मुझ से कहा, कि हम यहोवा के भवन को चलें, तब मैं आनन्दित हुआ।” “मेरा प्राण यहोवा के आंगनों की अभिलाषा करते करते मूर्छित हो चला; मेरा तन मन दोनों जीवते ईश्वर को पुकार रहे॥” “क्योंकि तेरे आंगनों में का एक दिन और कहीं के हजार दिन से उत्तम है। दुष्टों के डेरों में वास करने से अपने परमेश्वर के भवन की डेवढ़ी पर खड़ा रहना ही मुझे अधिक भावता है।” (भजन संहिता 122:1; 84:2,10)।

9. सार्वजनिक आराधना के लिए इकट्ठा होने के बारे में पौलुस ने क्या सलाह दी है?
“और एक दूसरे के साथ इकट्ठा होना ने छोड़ें, जैसे कि कितनों की रीति है, पर एक दूसरे को समझाते रहें; और ज्यों ज्यों उस दिन को निकट आते देखो, त्यों त्यों और भी अधिक यह किया करो॥” (इब्रानियों 10:25)।

10. क्या परमेश्वर अपने लोगों की सभाओं का लेखा लेता है?
16 तब यहोवा का भय मानने वालों ने आपस में बातें की, और यहोवा ध्यान धर कर उनकी सुनता था; और जो यहोवा का भय मानते और उसके नाम का सम्मान करते थे, उनके स्मरण के निमित्त उसके साम्हने एक पुस्तक लिखी जाती थी।
17 सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि जो दिन मैं ने ठहराया है, उस दिन वे लोग मेरे वरन मेरे निज भाग ठहरेंगे, और मैं उन से ऐसी कोमलता करूंगा जैसी कोई अपने सेवा करने वाले पुत्र से करे” (मलाकी 3:16,17)।

11. क्या कलीसिया में नियमित रूप से उपस्थित होने में कोई आशीष है?
क्या ही धन्य हैं वे, जो तेरे भवन में रहते हैं; वे तेरी स्तुति निरन्तर करते रहेंगे॥” “एक वर मैं ने यहोवा से मांगा है, उसी के यत्न में लगा रहूंगा; कि मैं जीवन भर यहोवा के भवन में रहने पाऊं, जिस से यहोवा की मनोहरता पर दृष्टि लगाए रहूं, और उसके मन्दिर में ध्यान किया करूं” (भजन संहिता 84:4; 27:4)।

12. परमेश्वर के घर में व्यवहार के संबंध में क्या सावधानी दी जाती है?
“जब तू परमेश्वर के भवन में जाए, तब सावधानी से चलना; सुनने के लिये समीप जाना मूर्खों के बलिदान चढ़ाने से अच्छा है; क्योंकि वे नहीं जानते कि बुरा करते हैं।” (सभोपदेशक 5:1; देखें 1 तीमुथियुस 3:15)।

13. परमेश्वर ने सार्वजनिक आराधना के लिए कौन-सा दिन खास बनाया है?
“छ: दिन कामकाज किया जाए, पर सातवां दिन परमविश्राम का और पवित्र सभा का दिन है; उस में किसी प्रकार का कामकाज न किया जाए; वह तुम्हारे सब घरों में यहोवा का विश्राम दिन ठहरे॥” (लैव्यव्यवस्था 23:3)।

14. परमेश्वर ने हमें यह दिन किस प्रकार मानने की आज्ञा दी है?
तू विश्रामदिन को पवित्र मानने के लिये स्मरण रखना।
छ: दिन तो तू परिश्रम करके अपना सब काम काज करना;
10 परन्तु सातवां दिन तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये विश्रामदिन है। उस में न तो तू किसी भांति का काम काज करना, और न तेरा बेटा, न तेरी बेटी, न तेरा दास, न तेरी दासी, न तेरे पशु, न कोई परदेशी जो तेरे फाटकों के भीतर हो।
11 क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश, और पृथ्वी, और समुद्र, और जो कुछ उन में है, सब को बनाया, और सातवें दिन विश्राम किया; इस कारण यहोवा ने विश्रामदिन को आशीष दी और उसको पवित्र ठहराया” (निर्गमन 20:8-10; देखें यशायाह 58:13,14)।

15. क्या भेंट ईश्‍वरीय आराधना का उचित भाग है?
यहोवा के नाम की ऐसी महिमा करो जो उसके योग्य है; भेंट ले कर उसके आंगनों में आओ!” “11 अपने परमेश्वर यहोवा की मन्नत मानो, और पूरी भी करो; वह जो भय के योग्य है, उसके आस पास के सब उसके लिये भेंट ले आएं।” (भजन संहिता 96:8; 76:11)।

16. क्या नई सृष्टि में सार्वजनिक आराधना होगी?
22 क्योंकि जिस प्रकार नया आकाश और नई पृथ्वी, जो मैं बनाने पर हूं, मेरे सम्मुख बनी रहेगी, उसी प्रकार तुम्हारा वंश और तुम्हारा नाम भी बना रहेगा; यहोवा की यही वाणी है।
23 फिर ऐसा होगा कि एक नये चांद से दूसरे नये चांद के दिन तक और एक विश्राम दिन से दूसरे विश्राम दिन तक समस्त प्राणी मेरे साम्हने दण्डवत करने को आया करेंगे; यहोवा का यही वचन है” (यशायाह 66:22,23)।

गिरिजाघर जाने के नियम

1. गिरिजाघर जल्दी जाएं। न केवल समयनिष्ठ रहें, बल्कि सभा शुरू करने के लिए घोषित समय से पहले अपने स्थान पर रहें।

2. श्रद्धा भाव से जाएँ। रास्ते में याद करें कि आप कहाँ जाते हैं। व्यवहार के हल्केपन और सांसारिक विषयों पर बातचीत से बचें।

3. गिरिजाघर में प्रवेश करने से पहले और जैसे ही आप गिरिजाघर में प्रवेश करते हैं, पवित्र आत्मा के प्रभाव के आह्वान की मौन प्रार्थना करते हैं।

4. जब आप अपना स्थान ग्रहण करें, तो अपने और उन सब के लिए जो पवित्रस्थान में प्रवेश करते हैं, भक्ति में सिर झुकाकर प्रार्थना करें।

5. संकल्प लें कि आप किसी भी विचार को बढ़ावा नहीं देंगे, किसी भी वस्तु पर अपनी दृष्टि नहीं टिकाएंगे, कोई भी शब्द नहीं बोलेंगे, जो आपके मन को उस पवित्र उद्देश्य से विचलित कर देगा जिसके लिए आप इस स्थान पर आए हैं।

6. जैसे ही सेवक उपदेश-मंच में प्रवेश करता है, उसकी ओर से एक मौन प्रार्थना करें।

7. पूरी सभा में श्रोता के रूप में, उपासक के रूप में सक्रिय भाग लें।

8. सेवा की समाप्ति पर, प्रार्थनापूर्ण मौन के एक क्षण के बाद, उन सभी का उत्साह और सामंजस्य के साथ अभिवादन करें जिनसे आप मिलते हैं, यह याद रखते हुए कि मसीही संगति मसीही उपासना का एक हिस्सा है।-बिशप विन्सेंट।

टिप्पणी:- एक उत्कृष्ट सुझाव कई गिरिजाघरों के द्वार पर पोस्ट किए गए नोटिस में निहित है: “जो भी आप इस गिरिजाघर में प्रवेश करते हैं, याद रखें कि यह परमेश्वर का घर है। श्रद्धेय बने, मौन रहें, विचारशील बने। और इसे अपने लिये, जो सेवा टहल करता है, और उन के लिये जो यहां भजन करते हैं, परमेश्वर से बिनती किए बिना न छोड़ें।”

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा के एक भजन की हैं।

यहोवा के महिमामय सिंहासन के सामने,
हे राष्ट्रों, पवित्र आनन्द के साथ झुको;
जान लो कि यहोवा ही परमेश्वर है;
वह बना सकता है, और वह नष्ट कर सकता है।
उनकी संप्रभु शक्ति, हमारी सहायता के बिना,
हम को मिट्टी से बनाया, और हम को मनुष्य बनाया;
और जब भटकती भेड़ों की तरह हम भटक गए,
वह हमें फिर से अपने पाले में ले आया।
इसहाक वाट्स

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)