(142) प्रार्थना के लिए जागते रहना

प्रार्थना के लिए जागते रहना

1. हमें किस चीज के लिए जागते रहने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है?
“सब बातों का अन्त तुरन्त होने वाला है; इसलिये संयमी होकर प्रार्थना के लिये सचेत रहो।” (1 पतरस 4:7)।

2. प्रभु की प्रार्थना की याचिकाओं में से एक क्या है?
“और हमें परीक्षा में न ला, परन्तु बुराई से बचा; क्योंकि राज्य और पराक्रम और महिमा सदा तेरे ही हैं।” आमीन।” (मत्ती 6:13)।

3. हम किस तरह प्रलोभन से बच सकते हैं?
“जागते रहो, और प्रार्थना करते रहो, कि तुम परीक्षा में न पड़ो: आत्मा तो तैयार है, परन्तु शरीर दुर्बल है।” (मत्ती 26:41)।

टिप्पणी:- हमें अपनी प्रार्थनाओं के साथ जागते रहने की भावना को जोड़ना चाहिए, इस प्रकार उन्हें जवाब देने में परमेश्वर के साथ सहयोग करना चाहिए। यह प्रार्थना के लिए देख रहा है।

4. यह कर्तव्य फिर से कैसे व्यक्त किया जाता है?
“प्रार्थना में लगे रहो, और धन्यवाद के साथ उस में जागृत रहो।” (कुलुस्सियों 4:2)।

5. इस मामले में हमें कितना वफ़ादार होना चाहिए?
“और हर समय और हर प्रकार से आत्मा में प्रार्थना, और बिनती करते रहो, और इसी लिये जागते रहो, कि सब पवित्र लोगों के लिये लगातार बिनती किया करो।” (इफिसियों 6:18)।

6. युद्ध में इस्राएल कब विजयी हुआ?
“और जब तक मूसा अपना हाथ उठाए रहता था तब तक तो इस्राएल प्रबल होता था; परन्तु जब जब वह उसे नीचे करता तब तब अमालेक प्रबल होता था।” (निर्गमन 17:11)।

7. जब गृहस्थ ने जागते रहना छोड़ दिया, तब क्या हुआ?
“परन्तु यह जान लो कि यदि घर का स्वामी जानता होता कि चोर किस पहर आएगा, तो जागता रहता; और अपने घर में सेंध लगने न देता।” (मत्ती 24:43)।

8. जो लोग प्रभु की बाट जोहते हैं, उन्हें क्या अनुभव होता है?
“परन्तु जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वे नया बल प्राप्त करते जाएंगे, वे उकाबों की नाईं उड़ेंगे, वे दौड़ेंगे और श्रमित न होंगे, चलेंगे और थकित न होंगे॥” (यशायाह 40:31)।

9. हबक्कूक ने क्या कहा कि वह किस लिए जागता रहेगा?
“इस कारण चाहिए, कि हम उन बातों पर जो हम ने सुनी हैं और भी मन लगाएं, ऐसा न हो कि बहक कर उन से दूर चले जाएं।” (इब्रानियों 2:1)।

टिप्पणी:- कुछ बहुत चिंतित हैं कि जब वे प्रार्थना करते हैं तो परमेश्वर उन्हें सुनें, लेकिन जवाब में वह जो कहते हैं उसके प्रति काफी उदासीन हैं।

10. हम दुनिया पर आनेवाली विपत्तियों से कैसे बच सकते हैं?
“इसलिये जागते रहो और हर समय प्रार्थना करते रहो कि तुम इन सब आने वाली घटनाओं से बचने, और मनुष्य के पुत्र के साम्हने खड़े होने के योग्य बनो॥” (लुका 21:36)।

टिप्पणी:- सतर्कता के साथ-साथ प्रार्थना भी आवश्यक है यदि हम अंत के दिनों की बुराइयों, भ्रमों और विपत्तियों से बचना चाहते हैं।

11. न जागते रहने का क्या परिणाम होगा ?
45 परन्तु यदि वह दास सोचने लगे, कि मेरा स्वामी आने में देर कर रहा है, और दासों और दासियों मारने पीटने और खाने पीने और पियक्कड़ होने लगे।
46 तो उस दास का स्वामी ऐसे दिन कि वह उस की बाट जोहता न रहे, और ऐसी घड़ी जिसे वह जानता न हो आएगा, और उसे भारी ताड़ना देकर उसका भाग अविश्वासियों के साथ ठहराएगा।” (लूका 12:45,46)।

12. मसीह के आगमन पर उसके सेवक क्या कर रहे होंगे?
35 तुम्हारी कमरें बन्धी रहें, और तुम्हारे दीये जलते रहें।
36 और तुम उन मनुष्यों के समान बनो, जो अपने स्वामी की बाट देख रहे हों, कि वह ब्याह से कब लौटेगा; कि जब वह आकर द्वार खटखटाए, तुरन्त उसके लिये खोल दें।
37 धन्य हैं वे दास, जिन्हें स्वामी आकर जागते पाए; मैं तुम से सच कहता हूं, कि वह कमर बान्ध कर उन्हें भोजन करने को बैठाएगा, और पास आकर उन की सेवा करेगा।” (पद 35-37)।

13. जागते रहने की आज्ञा कितनी सामान्य है?
“और जो मैं तुम से कहता हूं, वही सब से कहता हूं, जागते रहो॥” (मरकुस 13:37)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)