(135) संयम

संयम

1. सुलैमान ने किस हद तक इस संसार के सुखों को परखा?
“और जितनी वस्तुओं के देखने की मैं ने लालसा की, उन सभों को देखने से मैं न रूका; मैं ने अपना मन किसी प्रकार का आनन्द भोगने से न रोका क्योंकि मेरा मन मेरे सब परिश्रम के कारण आनन्दित हुआ; और मेरे सब परिश्रम से मुझे यही भाग मिला।” “ने अपने मन से कहा, चल, मैं तुझ को आनन्द के द्वारा जांचूंगा; इसलिये आनन्दित और मगन हो। परन्तु देखो, यह भी व्यर्थ है।” (सभोपदेशक 2:10, 1)।

2. ऐसे कोर्स से कितना सच्चा आनंद मिलता है?
“तब मैं ने फिर से अपने हाथों के सब कामों को, और अपने सब परिश्रम को देखा, तो क्या देखा कि सब कुछ व्यर्थ और वायु को पकड़ना है, और संसार में कोई लाभ नहीं॥” (पद 11)।

3. सुलैमान ने जवानी में जवानों को किस बात का ध्यान रखने के लिए कहा?
“हे जवान, अपनी जवानी में आनन्द कर, और अपनी जवानी के दिनों के मगन रह; अपनी मनमानी कर और अपनी आंखों की दृष्टि के अनुसार चल। परन्तु यह जान रख कि इन सब बातों के विषय में परमेश्वर तेरा न्याय करेगा॥” (सभोपदेशक 11:9)।

4. परमेश्वर का अनुग्रह हमें कैसे सिखाता है कि हमें जीवित रहना चाहिए?
11 क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह प्रगट है, जो सब मनुष्यों के उद्धार का कारण है।
12 और हमें चिताता है, कि हम अभक्ति और सांसारिक अभिलाषाओं से मन फेर कर इस युग में संयम और धर्म और भक्ति से जीवन बिताएं।” (तीतुस  2:11,12)।

5. किस वर्ग के लोगों को संयमी होने की सलाह दी जाती है?
“फिर तू ऐसी बातें कहा कर, जो खरे उपदेश के योग्य हैं।
अर्थात बूढ़े पुरूष, सचेत और गम्भीर और संयमी हों, और उन का विश्वास और प्रेम और धीरज पक्का हो।
इसी प्रकार बूढ़ी स्त्रियों का चाल चलन पवित्र लोगों सा हो, दोष लगाने वाली और पियक्कड़ नहीं; पर अच्छी बातें सिखाने वाली हों।
ताकि वे जवान स्त्रियों को चितौनी देती रहें, कि अपने पतियों और बच्चों से प्रीति रखें।
और संयमी, पतिव्रता, घर का कारबार करने वाली, भली और अपने अपने पति के आधीन रहने वाली हों, ताकि परमेश्वर के वचन की निन्दा न होने पाए।
ऐसे ही जवान पुरूषों को भी समझाया कर, कि संयमी हों।” (पद 2-6)।

टिप्पणी:- इन चार वर्गों में सभी शामिल हैं। सभी को संयम बरतना चाहिए।

6. रोमियों को लिखी पत्री में कौन-सी समान सलाह दी गई है?
“जैसा दिन को सोहता है, वैसा ही हम सीधी चाल चलें; न कि लीला क्रीड़ा, और पियक्कड़पन, न व्यभिचार, और लुचपन में, और न झगड़े और डाह में।” (रोमियों 13:13)।

7. इस मुद्दे पर प्रेरित पतरस क्या गवाही देता है?
“इस कारण अपनी अपनी बुद्धि की कमर बान्धकर, और सचेत रहकर उस अनुग्रह की पूरी आशा रखो, जो यीशु मसीह के प्रगट होने के समय तुम्हें मिलने वाला है।” (1 पतरस 1:13)।

8. मूर्खतापूर्ण बातें और ठट्ठा करने से क्यों दूर रहना चाहिए?
“और न निर्लज्ज़ता, न मूढ़ता की बातचीत की, न ठट्ठे की, क्योंकि ये बातें सोहती नहीं, वरन धन्यवाद ही सुना जाएं।” (इफिसियों 5:4)।

टिप्पणी:-ऐसी बातों में लिप्त होना मसीही बनना नहीं है। जीवन, अपनी सभी जिम्मेदारियों और बड़े मुद्दों के साथ, इस तरह के घमंड में खर्च करने के लिए बहुत गंभीर मामला है।

9. मूर्खता के विचार को क्या घोषित किया गया है?
“मूर्खता का विचार भी पाप है, और ठट्ठा करने वाले से मनुष्य घृणा करते हैं॥” (नीतिवचन 24:9)।

टिप्पणी:- क्षुद्रता, मूर्खता, हल्की और ढीली बातें, हमें हमारी सुरक्षा से हटा देते हैं, और परीक्षा और पाप का रास्ता खोल दें। पाप से बचने के लिए, हमें संयमी और निरन्तर सावधान रहना चाहिए।

10. संयम और चौकसी खासकर क्यों ज़रूरी है?
“सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह की नाईं इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए।” (1 पतरस 5:8)।

11. और कौन-सी बात हमें संयम और जागते रहने की ओर ले जानी चाहिए?
“सब बातों का अन्त तुरन्त होने वाला है; इसलिये संयमी होकर प्रार्थना के लिये सचेत रहो।” (1 पतरस 4:7)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा के एक भजन की हैं।

यहाँ नीचे की सब वस्तुएँ कितनी व्यर्थ हैं!
कितना झूठा और फिर भी कितना सच्चा!
प्रत्येक सुख अपने विष को भी स्नान करता है,
और हर मिठाई एक जाल है।
इसहाक वाट्स

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)