(126) यीशु पर भरोसा रखना

यीशु पर भरोसा रखना

1. भविष्यद्वक्ता यशायाह ने मसीह के बारे में क्या भविष्यद्वाणी की थी?
“उस समय यिशै की जड़ देश देश के लोगों के लिये एक झण्ड़ा होगी; सब राज्यों के लोग उसे ढूंढ़ेंगें, और उसका विश्रामस्थान तेजोमय होगा॥” (यशायाह 11:10)।

टिप्पणी:- पौलुस इसका अनुवाद करता है, “और फिर यशायाह कहता है, कि यिशै की एक जड़ प्रगट होगी, और अन्यजातियों का हाकिम होने के लिये एक उठेगा, उस पर अन्यजातियां आशा रखेंगी।” (रोमियों 15:12)।

2. परमेश्वर क्यों चाहता है कि हम यीशु पर भरोसा रखें?
“कि हम जिन्हों ने पहिले से मसीह पर आशा रखी थी, उस की महिमा की स्तुति के कारण हों।” (इफिसियों 1:12)।

3. इफिसियों ने सुसमाचार सुनकर क्या किया?”
“और उसी में तुम पर भी जब तुम ने सत्य का वचन सुना, जो तुम्हारे उद्धार का सुसमाचार है, ” (पद 13, पहला भाग)।

4. यीशु में इस भरोसे के बाद कौन-सा अनुभव हुआ?
“और जिस पर तुम ने विश्वास किया, प्रतिज्ञा किए हुए पवित्र आत्मा की छाप लगी।” (पद 13, अंतिम भाग)।

टिप्पणी:- यीशु पर विश्वास करने का अर्थ है उस पर विश्वास करना, उसमें स्थायी और असीम विश्वास रखना। जब ऐसा भरोसा मौजूद होता है, तो हम पर प्रतिज्ञा की पवित्र आत्मा द्वारा मुहर लगाई जाती है।

5. हर एक विश्वास करने वाले के लिये सुसमाचार क्या है?
“क्योंकि मैं सुसमाचार से नहीं लजाता, इसलिये कि वह हर एक विश्वास करने वाले के लिये, पहिले तो यहूदी, फिर यूनानी के लिये उद्धार के निमित परमेश्वर की सामर्थ है।” (रोमियों 1:16)।

6. जो अपने विश्वास को त्याग देता है, परमेश्वर उसे कैसे देखता है?
“और मेरा धर्मी जन विश्वास से जीवित रहेगा, और यदि वह पीछे हट जाए तो मेरा मन उस से प्रसन्न न होगा।” (इब्रानियों 10:38)।

7. क्या विश्वासियों के मसीह पर अपनी पकड़ खोने का खतरा है?
“और अधर्म के बढ़ने से बहुतों का प्रेम ठण्डा हो जाएगा।” (मत्ती 24:12)।

8. संसार पर विजय किससे प्राप्त होती है?
“क्योंकि जो कुछ परमेश्वर से उत्पन्न हुआ है, वह संसार पर जय प्राप्त करता है, और वह विजय जिस से संसार पर जय प्राप्त होती है हमारा विश्वास है।” (1 यूहन्ना 5:4)।

9. ज़िंदगी की मुसीबतों और परीक्षाओं का खुशी से सामना करने के लिए यीशु हमें क्या बढ़ावा देता है?
“मैं ने ये बातें तुम से इसलिये कही हैं, कि तुम्हें मुझ में शान्ति मिले; संसार में तुम्हें क्लेश होता है, परन्तु ढाढ़स बांधो, मैं ने संसार को जीत लिया है॥” (यूहन्ना 16:33)।

10. यीशु पर इस दृढ़ विश्वास ने अनेक लोगों को क्या करने के लिए प्रेरित किया है?
“और वे मेम्ने के लोहू के कारण, और अपनी गवाही के वचन के कारण, उस पर जयवन्त हुए, और उन्होंने अपने प्राणों को प्रिय न जाना, यहां तक कि मृत्यु भी सह ली।” (प्रकाशितवाक्य 12:11)।  
36 कई एक ठट्ठों में उड़ाए जाने; और कोड़े खाने; वरन बान्धे जाने; और कैद में पड़ने के द्वारा परखे गए।
37 पत्थरवाह किए गए; आरे से चीरे गए; उन की परीक्षा की गई; तलवार से मारे गए; वे कंगाली में और क्लेश में और दुख भोगते हुए भेड़ों और बकिरयों की खालें ओढ़े हुए, इधर उधर मारे मारे फिरे।
38 और जंगलों, और पहाड़ों, और गुफाओं में, और पृथ्वी की दरारों में भटकते फिरे।” (इब्रानियों 11:36-38)।

11. इसने मूसा को क्या करने के लिए प्रेरित किया?
24 विश्वास ही से मूसा ने सयाना होकर फिरौन की बेटी का पुत्र कहलाने से इन्कार किया।
25 इसलिये कि उसे पाप में थोड़े दिन के सुख भोगने से परमेश्वर के लोगों के साथ दुख भोगना और उत्तम लगा।
26 और मसीह के कारण निन्दित होने को मिसर के भण्डार से बड़ा धन समझा: क्योंकि उस की आंखे फल पाने की ओर लगी थीं।” (पद 24-26)।

12. यीशु पर भरोसा रखनेवालों से क्या वादा किया गया है?
29 यीशु ने कहा, मैं तुम से सच कहता हूं, कि ऐसा कोई नहीं, जिस ने मेरे और सुसमाचार के लिये घर या भाइयों या बहिनों या माता या पिता या लड़के-बालों या खेतों को छोड़ दिया हो।
30 और अब इस समय सौ गुणा न पाए, घरों और भाइयों और बहिनों और माताओं और लड़के-बालों और खेतों को पर उपद्रव के साथ और परलोक में अनन्त जीवन।” (मरकुस 10:29,30)।

13. यीशु क्या कर सकता है?
“अब जो तुम्हें ठोकर खाने से बचा सकता है, और अपनी महिमा की भरपूरी के साम्हने मगन और निर्दोष करके खड़ा कर सकता है।” (यूहदा 24)।

यीशु पर भरोसा करना

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)