(125) दु:ख में सांत्वना

दु:ख में सांत्वना

1. क्या परमेश्वर के लोग दुःख से मुक्त हैं?
“धर्मी पर बहुत सी विपत्तियां पड़ती तो हैं, परन्तु यहोवा उसको उन सब से मुक्त करता है।” (भजन संहिता 34:19)।

2. परमेश्वर पीड़ितों के साथ कैसा व्यवहार करता है?
“यहां तक कि उनके कारण कंगालों की दोहाई उस तक पहुंची और उसने दीन लोगों की दोहाई सुनी।” (अय्यूब 34:28)।

3. मुसीबत में पड़े लोगों से उसने क्या होने का वादा किया है?
“परमेश्वर हमारा शरणस्थान और बल है, संकट में अति सहज से मिलने वाला सहायक।” (भजन संहिता 46:1)।

4. प्रभु अपने बच्चों को किन भावों से देखता है?
“जैसे पिता अपने बालकों पर दया करता है, वैसे ही यहोवा अपने डरवैयों पर दया करता है।” (भजन संहिता 103:13)।

5. वह क्या जानता और याद रखता है?
“क्योंकि वह हमारी सृष्टि जानता है; और उसको स्मरण रहता है कि मनुष्य मिट्टी ही है॥” (पद 14)।

6. यहोवा ने दीन लोगों से क्या होने का वादा किया है?
“यहोवा पिसे हुओं के लिये ऊंचा गढ़ ठहरेगा, वह संकट के समय के लिये भी ऊंचा गढ़ ठहरेगा।” (भजन संहिता 9:9)।

7. परीक्षाओं और कष्ट से गुजरते समय परमेश्वर ने अपनी संतानों से क्या वादा किया है?
“जब तू जल में हो कर जाए, मैं तेरे संग संग रहूंगा और जब तू नदियों में हो कर चले, तब वे तुझे न डुबा सकेंगी; जब तू आग में चले तब तुझे आंच न लगेगी, और उसकी लौ तुझे न जला सकेगी।” (यशायाह 43:2)।

8. दाऊद ने अपनी पीड़ा के बारे में क्या कहा?
“मुझे जो दु:ख हुआ वह मेरे लिये भला ही हुआ है, जिस से मैं तेरी विधियों को सीख सकूं।” (भजन संहिता 119:71)।

9. पीड़ित होने पर उसने किस लिए प्रार्थना की?
“तू मेरे दु:ख और कष्ट पर दृष्टि कर, और मेरे सब पापों को क्षमा कर॥” (भजन संहिता 25:18)।

10. पीड़ित होने से पहिले उस ने क्या किया?
“उससे पहिले कि मैं दु:खित हुआ, मैं भटकता था; परन्तु अब मैं तेरे वचन को मानता हूं।” (भजन संहिता 119:67)।

11. मसीह ने दुख सहकर क्या सीखा?
“और पुत्र होने पर भी, उस ने दुख उठा उठा कर आज्ञा माननी सीखी।” (इब्रानियों 5:8)।

12. चरित्र को पूर्ण बनाने में, सभी को क्या प्राप्त होना चाहिए?
और तुम उस उपदेश को जो तुम को पुत्रों की नाईं दिया जाता है, भूल गए हो, कि हे मेरे पुत्र, प्रभु की ताड़ना को हलकी बात न जान, और जब वह तुझे घुड़के तो हियाव न छोड़।
क्योंकि प्रभु, जिस से प्रेम करता है, उस की ताड़ना भी करता है; और जिसे पुत्र बना लेता है, उस को कोड़े भी लगाता है।” (इब्रानियों 12:5,6)।

13. क्या ताड़ना देना एक सुखद अनुभव है?
“और वर्तमान में हर प्रकार की ताड़ना आनन्द की नहीं, पर शोक ही की बात दिखाई पड़ती है, तौभी जो उस को सहते सहते पक्के हो गए हैं, पीछे उन्हें चैन के साथ धर्म का प्रतिफल मिलता है।” (पद 11)।

14. इसलिए, संकट की घड़ी में भी हमारे पास कौन-सा साहस और शक्ति आनी चाहिए?
“इसलिये ढीले हाथों और निर्बल घुटनों को सीधे करो।” (पद 12; अय्यूब 4:3,4; यशायाह 35:3)।

15. अय्यूब ने अपनी विपत्तियों के बीच क्या कहा?
“वह मुझे घात करेगा, मुझे कुछ आशा नहीं; तौभी मैं अपनी चाल चलन का पक्ष लूंगा।” (अय्यूब 13:15)।

16. शास्त्रों में ईश्वर को क्या कहा गया है?
“हमारे प्रभु यीशु मसीह के परमेश्वर, और पिता का धन्यवाद हो, जो दया का पिता, और सब प्रकार की शान्ति का परमेश्वर है।” (2 कुरीं 1:3)।

17. परमेश्वर किसे सांत्वना देता है?
“तौभी दीनों को शान्ति देने वाले परमेश्वर ने तितुस के आने से हम को शान्ति दी।” (2 कुरीं 7:6)।

18. शोक करनेवालों से क्या प्रतिज्ञा की जाती है?
“धन्य हैं वे, जो शोक करते हैं, क्योंकि वे शांति पाएंगे।” (मत्ती 5:4)।

19. परमेश्वर हमें क्लेश में क्यों दिलासा देता है?
“वह हमारे सब क्लेशों में शान्ति देता है; ताकि हम उस शान्ति के कारण जो परमेश्वर हमें देता है, उन्हें भी शान्ति दे सकें, जो किसी प्रकार के क्लेश में हों।” (2 कुरीं 1:4)।

टिप्पणी:- जो स्वयं परेशानी और कष्ट से गुजरा है, और परमेश्वर से सांत्वना प्राप्त किया है, वह दूसरों को सांत्वना देने में सक्षम है।

20. हमें दूसरों के दुख में हमदर्दी कैसे दिखानी चाहिए?
“आनन्द करने वालों के साथ आनन्द करो; और रोने वालों के साथ रोओ।” (रोमियों 12:15)। “जो पड़ोसी पर कृपा नहीं करता वह सर्वशक्तिमान का भय मानना छोड़ देता है।” (अय्यूब 6:14)।

21. क्या यीशु हमारे क्लेशों में हमारे साथ सहानुभूति रखता है?
“क्योंकि हमारा ऐसा महायाजक नहीं, जो हमारी निर्बलताओं में हमारे साथ दुखी न हो सके; वरन वह सब बातों में हमारी नाईं परखा तो गया, तौभी निष्पाप निकला।” (इब्रानियों 4:15)।

22. मरियम और उसके दोस्तों के लाजर की मौत पर रोने के मामले में उसने अपनी सहानुभूति कैसे प्रकट की?
33 जब यीशु न उस को और उन यहूदियों को जो उसके साथ आए थे रोते हुए देखा, तो आत्मा में बहुत ही उदास हुआ, और घबरा कर कहा, तुम ने उसे कहां रखा है?
34 उन्होंने उस से कहा, हे प्रभु, चलकर देख ले।
35 यीशु के आंसू बहने लगे।” (यूहन्ना 11:33-35)।

टिप्पणी:- केवल मरियम और उसके दोस्तों के लिए ही यीशु नहीं रोया। युगों-युगों से देखते हुए, उसने उन आँसुओं और हृदय-दर्दों को देखा जो इस पाप-ग्रस्त संसार में मृत्यु मानवजाति के लिए लाएगी। उसका मन मानवीय शोक से भर गया, और वह रोने वालों के साथ रोया।

23. जो कुछ भी हो, परमेश्वर से प्रेम करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के पास कौन-सी आशीषित आश्‍वासन है?
“और हम जानते हैं, कि जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती है; अर्थात उन्हीं के लिये जो उस की इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं।” (रोमियों 8:28)।

टिप्पणी:- यदि कोई भगवान से प्यार करता है, तो वह निश्चिंत हो सकता है कि हर परीक्षा और कष्ट से अच्छा आएगा।

24. शोक में हमें किसकी तरह शोक नहीं करना चाहिए?
“हे भाइयों, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञान रहो; ऐसा न हो, कि तुम औरों की नाईं शोक करो जिन्हें आशा नहीं।”( 1 थिस्स 4:13)।

25. जब हमारे दोस्त मौत की नींद सो जाते हैं, तो हमें किन शब्दों में एक-दूसरे को सांत्वना देने के लिए कहा जाता है?
14 क्योंकि यदि हम प्रतीति करते हैं, कि यीशु मरा, और जी भी उठा, तो वैसे ही परमेश्वर उन्हें भी जो यीशु में सो गए हैं, उसी के साथ ले आएगा।
15 क्योंकि हम प्रभु के वचन के अनुसार तुम से यह कहते हैं, कि हम जो जीवित हैं, और प्रभु के आने तक बचे रहेंगे तो सोए हुओं से कभी आगे न बढ़ेंगे।
16 क्योंकि प्रभु आप ही स्वर्ग से उतरेगा; उस समय ललकार, और प्रधान दूत का शब्द सुनाई देगा, और परमेश्वर की तुरही फूंकी जाएगी, और जो मसीह में मरे हैं, वे पहिले जी उठेंगे।
17 तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे, उन के साथ बादलों पर उठा लिए जाएंगे, कि हवा में प्रभु से मिलें, और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे।
18 सो इन बातों से एक दूसरे को शान्ति दिया करो॥” (पद 14-18)।

26. शोकग्रसित माताओं से परमेश्वर ने क्या प्रतिज्ञा की है?
“यहोवा यों कहता हे: रोने-पीटने और आंसू बहाने से रुक जा; क्योंकि तेरे परिश्रम का फल मिलने वाला है, और वे शत्रुओं के देश से लौट आएंगे।” (यिर्मयाह 31:16)।

27. मसीह ने कहा कि इस संसार में उसके लोगों का अनुभव क्या होगा?
“मैं ने ये बातें तुम से इसलिये कही हैं, कि तुम्हें मुझ में शान्ति मिले; संसार में तुम्हें क्लेश होता है, परन्तु ढाढ़स बांधो, मैं ने संसार को जीत लिया है॥” “मैं तुम से सच सच कहता हूं; कि तुम रोओगे और विलाप करोगे, परन्तु संसार आनन्द करेगा: तुम्हें शोक होगा, परन्तु तुम्हारा शोक आनन्द बन जाएगा।” (यूहन्ना 16:33, 20)।

28. किस मायने में परमेश्वर के लोगों की कटाई उनके बोने से अलग है?
जो आंसू बहाते हुए बोते हैं, वे जयजयकार करते हुए लवने पाएंगे।
चाहे बोने वाला बीज ले कर रोता हुआ चला जाए, परन्तु वह फिर पूलियां लिए जयजयकार करता हुआ निश्चय लौट आएगा॥” (भजन संहिता 126:5,6)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा की एक कविता की हैं।

कभी-कभी जब जीवन के सारे पाठ सीख लिए जाते हैं,
और सूरज और चाँद हमेशा के लिए अस्त हो गए हैं,
यहाँ हमारे कमजोर निर्णयों ने जिन बातों को ठुकराया है,
जिन बातों पर हमने गीली पलकों से दु:ख जताया था,
जीवन की अंधेरी रात से, हमारे सामने चमकेगा,
जैसे सितारे नीले रंग के गहरे रंगों में सबसे अधिक चमकते हैं,
और हम देखेंगे कि कैसे परमेश्वर के सभी तरीके सही थे,
और जो डाँट जैसा प्रतीत होता था वह प्रेम सर्वाधिक सच्चा था।

मई रिले स्मिथ

ध्यान दें: निम्नलिखित पंक्तियाँ अंग्रेजी भाषा की एक भजन की हैं।

अच्छा जयकार हो! मैं कभी-कभी जानता हूं
जीवन का गीत पूर्ण तुकबंदी में चलेगा।
कहीं न कहीं, मुझे पता है, सब कुछ होगा
पूर्ण सामंजस्य के लिए अभ्यस्त।
कभी ,कहीं , हर उदास फ़रार
दर्द का अपना खुद का स्रोत होगा।
मुआवजा प्यार भेजेगा
दोस्त को दोस्त लाने में होगा;
और सारे दिल के दर्द जो हमने सहे,
परमेश्वर के अच्छे समय में और नहीं होगा।
रॉबर्ट ली वाल्डेन

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)