(124) दु:ख की सेवकाई

दु:ख की सेवकाई

1. जेवनार के घर से शोक ही के घर जाना क्यों उत्तम है?
“जेवनार के घर जाने से शोक ही के घर जाना उत्तम है; क्योंकि सब मनुष्यों का अन्त यही है, और जो जीवित है वह मन लगाकर इस पर सोचेगा।” (सभोपदेशक 7:2)।

2. दाऊद ने परमेश्वर से उसे क्या सिखाने के लिए कहा?
“हे यहोवा ऐसा कर कि मेरा अन्त मुझे मालुम हो जाए, और यह भी कि मेरी आयु के दिन कितने हैं; जिस से मैं जान लूं कि कैसा अनित्य हूं!” (भजन संहिता 39:4; भजन संहिता 90:12 भी देखें)।

3. दुख हंसी से बेहतर क्यों है?
“हंसी से खेद उत्तम है, क्योंकि मुंह पर के शोक से मन सुधरता है।” (सभोपदेशक 7:3)।

टिप्पणी:-”शांति और विश्वास और आशा के कई प्यारे गीत जो इस दुनिया में परमेश्वर के बच्चे गाते हैं उन्हें दुःख के शांत और अंधेरे कक्षों में सिखाया गया है। . . . कष्ट, पवित्र, जीवन की तपस्या को नरम करते हैं। वे प्रकृति की जंगलीपन को वश में करते हैं। वे मानवीय महत्वाकांक्षाओं को संयमित करते हैं। वे स्वार्थ और दुनियादारी के मैल को जला देते हैं। वे अभिमान को नमन करते हैं। वे उग्र वासनाओं को दबा देते हैं। वे मनुष्यों के सामने अपने स्वयं के हृदय, अपनी स्वयं की कमजोरियों, दोषों, दोषों और खतरों को प्रकट करते हैं। वे धैर्य और समर्पण सिखाते हैं। वे अनियंत्रित आत्माओं को अनुशासित करते हैं। वे हमारे अनुभव को गहरा और समृद्ध करते हैं।

5. क्या परमेश्वर किसी को दु:ख देना चाहता है?
31 क्योंकि प्रभु मन से सर्वदा उतारे नहीं रहता,
32 चाहे वह दु:ख भी दे, तौभी अपनी करुणा की बहुतायत के कारण वह दया भी करता है;
33 क्योंकि वह मनुष्यों को अपने मन से न तो दबाता है और न दु:ख देता है।” (विलापगित 3:31-33)।

6. क्या वह उसे दु:ख देता है, कि ताड़ना पाए हुए को निराश छोड़ दे?
17 देख, क्या ही धन्य वह मनुष्य, जिस को ईश्वर ताड़ना देता है; इसलिये तू सर्वशक्तिमान की ताड़ना को तुच्छ मत जान।
18 क्योंकि वही घायल करता, और वही पट्टी भी बान्धता है; वही मारता है, और वही अपने हाथों से चंगा भी करता है।” (अय्यूब 5:17,18)।

7. वही सत्य फिर से किस भाषा में अभिव्यक्त होता है?
“चलो, हम यहोवा की ओर फिरें; क्योंकि उसी ने फाड़ा, और वही चंगा भी करेगा; उसी ने मारा, और वही हमारे घावों पर पट्टी बान्धेगा।” (होशे 6:1; यशायाह 61:1-3 भी देखें)।

8. यहोवा किसको ताड़ना देता है?
“क्योंकि प्रभु, जिस से प्रेम करता है, उस की ताड़ना भी करता है; और जिसे पुत्र बना लेता है, उस को कोड़े भी लगाता है।” (इब्रानियों 12:6)।

9. क्या यह कुछ समय के लिए आनंद का स्रोत है?
“और वर्तमान में हर प्रकार की ताड़ना आनन्द की नहीं, पर शोक ही की बात दिखाई पड़ती है, तौभी जो उस को सहते सहते पक्के हो गए हैं, पीछे उन्हें चैन के साथ धर्म का प्रतिफल मिलता है।” (पद 11)।

टिप्पणी:- “मसीही दिलों की सबसे मधुर खुशियों में से कई गीत हैं जो परीक्षण की कड़वाहट में सीखे गए हैं।” “कई ठंडी, बर्फीली प्रकृति को उस दुःख से गर्म और कोमल बना दिया जाता है जो इसे कुचल देता है।”- “वीक-डे रिलिजन,” जे.आर. मिलर, डी.डी. द्वारा, पृष्ठ 91, 93।

10. पाप के अलावा और क्या चीज़ सबसे ज़्यादा दुःख देती है?
मृत्यु, या प्रियजनों की हानि।

11. क्या मृत्यु मसीहियों के लिए अशांत दुःख लाती है?
“हे भाइयों, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञान रहो; ऐसा न हो, कि तुम औरों की नाईं शोक करो जिन्हें आशा नहीं।” (1 थिस्स 4:13)।

टिप्पणी;- प्रियजनों का नुकसान परमेश्वर अक्सर रूपांतरण के साधन के रूप में और उन संबंधों को अलग करने के लिए उपयोग करता है जो पृथ्वी को बांधते हैं। उत्पीड़न; बीमारी; दृष्टि, श्रवण या अंग की हानि; संपत्ति का नुकसान; या अन्य विपत्तियाँ भी हमें परमेश्वर के निकट लाने में सहायक हो सकती हैं। (देखें भजन संहिता 119:71; यशायाह 26:9)।

12. हमारे क्षणिक क्लेश हमारे लिए क्या करते हैं?
“क्योंकि हमारा पल भर का हल्का सा क्लेश हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण और अनन्त महिमा उत्पन्न करता जाता है।” (देखें 2 कुरीं 4:17; रोमियों 8:28)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)