(11) परमेश्वर का प्रेम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1. परमेश्वर को क्या होने के लिए घोषित किया गया है?
“परमेश्वर प्रेम है।” (1 यूहन्ना 4:16)।

2. संसार के लिए परमेश्वर का प्रेम कितना महान है?
“क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा, कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, कि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए।” (यूहन्ना 3:6)।

3. किस कार्य में विशेष रूप से परमेश्‍वर का प्रेम प्रकट हुआ है?
“जो प्रेम परमेश्वर हम से रखता है, वह इस से प्रगट हुआ, कि परमेश्वर ने अपने एकलौते पुत्र को जगत में भेजा है, कि हम उसके द्वारा जीवन पाएं।” (1 यूहन्ना 4:9)।

4. परमेश्वर किस बात से प्रसन्न होता है?
“तेरे समान ऐसा परमेश्वर कहां है जो अधर्म को क्षमा करे और अपने निज भाग के बचे हुओं के अपराध को ढांप दे? वह अपने क्रोध को सदा बनाए नहीं रहता, क्योंकि वह करूणा से प्रीति रखता है।”( मीका 7:18)।

5. परमेश्वर की दया लगातार कैसे प्रकट होती है?
22 हम मिट नहीं गए; यह यहोवा की महाकरुणा का फल है, क्योंकि उसकी दया अमर है। 23 प्रति भोर वह नई होती रहती है; तेरी सच्चाई महान है।” (विलापगीत 3:22,23)।

6. कितनों पर परमेश्वर अपनी आशीष देते हैं?
“जिस से तुम अपने स्वर्गीय पिता की सन्तान ठहरोगे क्योंकि वह भलों और बुरों दोनो पर अपना सूर्य उदय करता है, और धमिर्यों और अधमिर्यों दोनों पर मेंह बरसाता है।” (मत्ती 5:45)।

7. यीशु ने अपने प्रेम रखने वाले के बारे में क्या कहा?
“जिस के पास मेरी आज्ञा है, और वह उन्हें मानता है, वही मुझ से प्रेम रखता है, और जो मुझ से प्रेम रखता है, उस से मेरा पिता प्रेम रखेगा, और मैं उस से प्रेम रखूंगा, और अपने आप को उस पर प्रगट करूंगा।”( यूहन्ना 14:21)।

8. उसका प्रेम हमें परमेश्वर के साथ किस संबंध में लाता है?
“खो पिता ने हम से कैसा प्रेम किया है, कि हम परमेश्वर की सन्तान कहलाएं, और हम हैं भी: इस कारण संसार हमें नहीं जानता, क्योंकि उस ने उसे भी नहीं जाना।” (1 यूहन्ना 3:1)।

9. हम कैसे जान सकते हैं कि हम परमेश्वर के पुत्र हैं?
14 इसलिये कि जितने लोग परमेश्वर के आत्मा के चलाए चलते हैं, वे ही परमेश्वर के पुत्र हैं। 15 क्योंकि तुम को दासत्व की आत्मा नहीं मिली, कि फिर भयभीत हो परन्तु लेपालकपन की आत्मा मिली है, जिस से हम हे अब्बा, हे पिता कह कर पुकारते हैं। 16 आत्मा आप ही हमारी आत्मा के साथ गवाही देता है, कि हम परमेश्वर की सन्तान हैं।” (रोमियों 8:14-16)।

10. विश्वासी को परमेश्वर का प्रेम कैसे प्रदान किया जाता है?
“और आशा से लज्ज़ा नहीं होती, क्योंकि पवित्र आत्मा जो हमें दिया गया है उसके द्वारा परमेश्वर का प्रेम हमारे मन में डाला गया है।” (रोमियों 5:5)।

11. हमें परमेश्वर के महान प्रेम को ध्यान में रखते हुए, हमें क्या करना चाहिए?
“हे प्रियो, जब परमेश्वर ने हम से ऐसा प्रेम किया, तो हम को भी आपस में प्रेम रखना चाहिए।” (1 यूहन्ना 4:11)।

12. हमें किस हद तक प्रेम से दूसरों की सेवा करनी चाहिए?
“हम ने प्रेम इसी से जाना, कि उस ने हमारे लिये अपने प्राण दे दिए; और हमें भी भाइयों के लिये प्राण देना चाहिए।” (1 यूहन्ना 3:16)।

13. हमारे लिए मसीह के प्रेम पर कौन-सा उपदेश आधारित है?
“और प्रेम में चलो; जैसे मसीह ने भी तुम से प्रेम किया; और हमारे लिये अपने आप को सुखदायक सुगन्ध के लिये परमेश्वर के आगे भेंट करके बलिदान कर दिया।”(इफिसियों 5:2)।

14. पापियों के लिए परमेश्वर का कार्य किस आधार पर टिका है?
परन्तु परमेश्वर ने जो दया का धनी है; अपने उस बड़े प्रेम के कारण, जिस से उस ने हम से प्रेम किया। जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे, तो हमें मसीह के साथ जिलाया; (अनुग्रह ही से तुम्हारा उद्धार हुआ है।) और मसीह यीशु में उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानों में उसके साथ बैठाया।”(इफिसियों 2:4-6; तीतुस 3:5,6 देखें)।

15. किस अन्य तरीके से कभी-कभी परमेश्वर का प्रेम दिखाया जाता है?
“क्योंकि प्रभु, जिस से प्रेम करता है, उस की ताड़ना भी करता है; और जिसे पुत्र बना लेता है, उस को कोड़े भी लगाता है” (इब्रानियों 12:6)।

16. परमेश्वर के महान प्रेम को ध्यान में रखते हुए, हम पूरे विश्वास के साथ क्या उम्मीद कर सकते हैं?
“जिस ने अपने निज पुत्र को भी न रख छोड़ा, परन्तु उसे हम सब के लिये दे दिया: वह उसके साथ हमें और सब कुछ क्योंकर न देगा? (रोमियों 8:32)।

17. परमेश्वर का प्रेम उसके बच्चों के लिए क्या कर सकता है?
“परन्तु तेरे परमेश्वर यहोवा ने बिलाम की ना सुनी; किन्तु तेरे परमेश्वर यहोवा ने तेरे निमित्त उसके शाप को आशीष से पलट दिया, इसलिये कि तेरा परमेश्वर यहोवा तुझ से प्रेम रखता था।” (व्यवस्थाविवरण 23:5)।

18. जब लोग परमेश्वर के प्रेम की कदर करेंगे, तो क्या होगा। वे करते हैं?
“हे परमेश्वर तेरी करूणा, कैसी अनमोल है! मनुष्य तेरे पंखो के तले शरण लेते हैं।” (भजन संहिता 36:7)।

19. हमारे लिए परमेश्वर का प्रेम कितना स्थायी है?
“यहोवा ने मुझे दूर से दर्शन देकर कहा है। मैं तुझ से सदा प्रेम रखता आया हूँ; इस कारण मैं ने तुझ पर अपनी करुणा बनाए रखी है।” (यिर्मयाह 31:3)।

20. क्या कोई परमेश्वर के सच्चे बच्चे को परमेश्वर के प्रेम से अलग कर सकता है?
38 क्योंकि मैं निश्चय जानता हूं, कि न मृत्यु, न जीवन, न स्वर्गदूत, न प्रधानताएं, न वर्तमान, न भविष्य, न सामर्थ, न ऊंचाई, 39 न गहिराई और न कोई और सृष्टि, हमें परमेश्वर के प्रेम से, जो हमारे प्रभु मसीह यीशु में है, अलग कर सकेगी॥” (रोमियों 8:38,39।

21. पवित्र लोग किसका स्तुति सदा करते रहेंगे?
और यीशु मसीह की ओर से, जो विश्वासयोग्य साक्षी और मरे हुओं में से जी उठने वालों में पहिलौठा, और पृथ्वी के राजाओं का हाकिम है, तुम्हें अनुग्रह और शान्ति मिलती रहे: जो हम से प्रेम रखता है, और जिस ने अपने लोहू के द्वारा हमें पापों से छुड़ाया है। और हमें एक राज्य और अपने पिता परमेश्वर के लिये याजक भी बना दिया; उसी की महिमा और पराक्रम युगानुयुग रहे। आमीन।” (प्रकाशितवाक्य 1:5,6)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है!

परमेश्वर की दया में व्यापकता है,
समुद्र की व्यापकता की तरह;
उसके न्याय में एक दया है,
जो स्वतंत्रता से बढ़कर है।

पापी का सदा अभिनंदन है,
और अच्छे के लिए और अधिक अनुग्रह;
उद्धारकर्ता के साथ दया है;
उसके लहू में उपचार है।

क्योंकि परमेश्वर का प्रेम व्यापक है
मनुष्य के मन के माप से,
और अनन्त का हृदय
सबसे अद्भुत दयालु है।

अगर हमारा प्रेम और अधिक सरल होता,
हमें उसे उसके वचन पर लेना चाहिए;
और हमारा जीवन सब धूप होगा
हमारे प्रभु की मिठास में।

  (फ्रेडरिक डब्ल्यू फैबर)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)