(103) स्वतंत्रता का लेखक

स्वतंत्रता का लेखक

1. मिस्र में इस्राएल के बंधन का वर्णन कैसे किया गया है?
“बहुत दिनों के बीतने पर मिस्र का राजा मर गया। और इस्राएली कठिन सेवा के कारण लम्बी लम्बी सांस ले कर आहें भरने लगे, और पुकार उठे, और उनकी दोहाई जो कठिन सेवा के कारण हुई वह परमेश्वर तक पहुंची।” (निर्गमन 2:23; की याकूब 5:1-4 से तुलना करें)।

2. उनकी दुहाई किसने सुनी?
“और परमेश्वर ने उनका कराहना सुनकर अपनी वाचा को, जो उसने इब्राहीम, और इसहाक, और याकूब के साथ बान्धी थी, स्मरण किया।” (पद 24)।

3. परमेश्वर ने मूसा से क्या कहा?
सो अब सुन, इस्राएलियोंकी चिल्लाहट मुझे सुनाई पक्की है, और मिस्रियोंका उन पर अन्धेर करना भी मुझे दिखाई पड़ा है,
10 इसलिए आ, मैं तुझे फिरौन के पास भेजता हूं कि तू मेरी इस्राएली प्रजा को मिस्र से निकाल ले आए” (निर्गमन 3:9,10)।

4. इस्राएल को अपनी व्यवस्था देते हुए, परमेश्वर ने स्वयं का वर्णन कैसे किया?
“कि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा हूं, जो तुझे दासत्व के घर अर्थात मिस्र देश से निकाल लाया है॥” (निर्गमन 20:2)।

5. इस्राएल में दासता और उत्पीड़न के विरुद्ध परमेश्वर ने क्या प्रबन्ध किया?
12 यदि तेरा कोई भाईबन्धु, अर्थात कोई इब्री वा इब्रिन, तेरे हाथ बिके, और वह छ: वर्ष तेरी सेवा कर चुके, तो सातवे वर्ष उसको अपने पास से स्वतंत्र करके जाने देना।
13 और जब तू उसको स्वतंत्र करके अपने पास से जाने दे तब उसे छूछे हाथ न जाने देना;
14 वरन अपनी भेड़-बकरियों, और खलिहान, और दाखमधु के कुण्ड में से बहुतायत से देना; तेरे परमेश्वर यहोवा ने तुझे जैसी आशीष दी हो उसी के अनुसार उसे देना।
15 और इस बात को स्मरण रखना कि तू भी मिस्र देश में दास था, और तेरे परमेश्वर यहोवा ने तुझे छुड़ा लिया; इस कारण मैं आज तुझे यह आज्ञा सुनाता हूं” (व्यवस्थाविवरण 15:12-15)।
“और परदेशी को न सताना और न उस पर अन्धेर करना क्योंकि मिस्र देश में तुम भी परदेशी थे।” (निर्गमन 22:21; देखें 2 कुरीं 1:3,4)।

6. इस्राएल को सब्त क्यों मनाना चाहिए इसकी एक वजह क्या थी?
“और इस बात को स्मरण रखना कि मिस्र देश में तू आप दास था, और वहां से तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे बलवन्त हाथ और बड़ाई हुई भुजा के द्वारा निकाल लाया; इस कारण तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे विश्रामदिन मानने की आज्ञा देता है॥” (व्यवस्थाविवरण 5:15)।

टिप्पणी:-इससे इस विचार का पता चलता है कि मिस्र में उनकी दासता और उत्पीड़न में उन्हें सब्त के पालन के संबंध में कठिनाई हुई थी, जो कि एक सच्चाई है। फिरौन द्वारा मूसा और हारून पर लगाए गए आरोप से, जैसा कि निर्गमन 5:5 में दर्ज है- “और फिरोन ने कहा, सुनो, इस देश में वे लोग बहुत हो गए हैं, फिर तुम उन को परिश्रम से विश्राम दिलाना चाहते हो!” – यह स्पष्ट है कि उन्हें सब्त के दिन से वंचित कर दिया गया था, कि उन्हें सब्त के दिन काम करने की आवश्यकता थी, और मूसा और हारून थे रखना सिखाते हैं। जहाँ व्यक्तिगत अधिकारों और धार्मिक स्वतंत्रता को मान्यता दी जाती है, वहाँ सब्त के पालन को न तो अस्वीकार किया जाता है और न ही नागरिक कानून द्वारा इसकी आवश्यकता होती है।

7. हर पचास वर्ष में इस्राएल के देश में कौन-सी घोषणा की जानी थी?
“और उस पचासवें वर्ष को पवित्र करके मानना, और देश के सारे निवासियों के लिये छुटकारे का प्रचार करना; वह वर्ष तुम्हारे यहां जुबली कहलाए; उस में तुम अपनी अपनी निज भूमि और अपने अपने घराने में लौटने पाओगे।” (लैव्यव्यवस्था 25:10)।

8. क्योंकि इस्राएल ऐसा करने में असफल रहा, अत्याचारी हो गया, और सब्त की अवहेलना और दुरुपयोग किया, परमेश्वर ने क्या किया?
“इस कारण यहोवा यों कहता है कि तुम ने जो मेरी आज्ञा के अनुसार अपने अपने भाई के स्वतंत्र होने का प्रचार नहीं किया, सो यहोवा का यह वचन है, सुनो, मैं तुम्हारे इस प्रकार से स्वतंत्र होने का प्रचार करता हूँ कि तुम तलवार, मरी और महंगी में पड़ोगे; और मैं ऐसा करूंगा कि तुम पृथ्वी के राज्य राज्य में मारे मारे फिरोगे।” (यिर्मयाह 34:17; यिर्मयाह 17:24-27; 2 इतिहास 36:19-21 भी देखें)।

9. इस्राएल के उपवासों और उपासना के समयों को मनाने के तरीके में परमेश्वर ने क्या दोष पाया?
वे कहते हैं, क्या कारएा है कि हम ने तो उपवास रखा, परन्तु तू ने इसकी सुधि नहीं ली? हम ने दु:ख उठाया, परन्तु तू ने कुछ ध्यान नहीं दिया? सुनो, उपवास के दिन तुम अपनी ही इच्छा पूरी करते हो और अपने सेवकों से कठिन कामों को कराते हो।
सुनो, तुम्हारे उपवास का फल यह होता है कि तुम आपस में लड़ते और झगड़ते और दुष्टता से घूंसे मारते हो। जैसा उपवास तुम आजकल रखते हो, उस से तुम्हारी प्रार्थना ऊपर नहीं सुनाई देगी।” (यशायाह 58:3,4)।

10. परमेश्वर ने उसे स्वीकार्य उपवास के रूप में क्या निर्धारित किया है?
जिस उपवास से मैं प्रसन्न होता हूं, वह क्या यह नहीं, कि, अन्याय से बनाए हुए दासों, और अन्धेर सहने वालों का जुआ तोड़कर उन को छुड़ा लेना, और, सब जुओं को टूकड़े टूकड़े कर देना?
क्या वह यह नहीं है कि अपनी रोटी भूखों को बांट देना, अनाथ और मारे मारे फिरते हुओं को अपने घर ले आना, किसी को नंगा देखकर वस्त्र पहिनाना, और अपने जातिभाइयों से अपने को न छिपाना?” (पद 6, 7)।

टिप्पणी:- यह सब दिखाता है कि ईश्वर स्वतंत्रता से प्यार करता है, और बंधन और उत्पीड़न से घृणा करता है।

11. इस संसार के लिए मसीह का मिशन क्या था?
“कि प्रभु का आत्मा मुझ पर है, इसलिये कि उस ने कंगालों को सुसमाचार सुनाने के लिये मेरा अभिषेक किया है, और मुझे इसलिये भेजा है, कि बन्धुओं को छुटकारे का और अन्धों को दृष्टि पाने का सुसमाचार प्रचार करूं और कुचले हुओं को छुड़ाऊं।” (लूका 4:18)।

टिप्पणी:-सुसमाचार दिखाते हैं कि सब्त के दिन भी मसीह के समय का एक बड़ा हिस्सा उत्पीड़ित और संकटग्रस्त लोगों को राहत देने के लिए समर्पित था।

12. पाप करनेवाले किस हाल में हैं?
“यीशु ने उन को उत्तर दिया; मैं तुम से सच सच कहता हूं कि जो कोई पाप करता है, वह पाप का दास है।” (यूहन्ना 8:34)।

13. मसीह का नाम यीशु क्यों रखा गया?
“वह पुत्र जनेगी और तू उसका नाम यीशु रखना; क्योंकि वह अपने लोगों का उन के पापों से उद्धार करेगा।” (मत्ती 1:21)।

14. सारे पापों की जड़ में क्या है?
“फिर अभिलाषा गर्भवती होकर पाप को जनती है और पाप जब बढ़ जाता है तो मृत्यु को उत्पन्न करता है।” (याकूब 1:15)। “तो हम क्या कहें? क्या व्यवस्था पाप है? कदापि नहीं! वरन बिना व्यवस्था के मैं पाप को नहीं पहिचानता: व्यवस्था यदि न कहती, कि लालच मत कर तो मैं लालच को न जानता।” (रोमियों 7:7)।

टिप्पणी:-काम, लोभ और अवैध इच्छा स्वार्थ के अलग-अलग नाम हैं। स्वार्थ सभी पापों की जड़ में है; और स्वार्थ दूसरों के समान अधिकारों की अवहेलना करने के लिए स्वयं के प्रति प्रेम है।

15. अधिकारों की समानता को किस शास्त्र के द्वारा स्पष्ट रूप से दर्शाया गया है?
“पलटा न लेना, और न अपने जाति भाइयों से बैर रखना, परन्तु एक दूसरे से अपने समान प्रेम रखना; मैं यहोवा हूं।” (लैव्यव्यवस्था 19:18)।

16. इस आज्ञा के सामंजस्य में मसीह ने आचरण का कौन-सा नियम निर्धारित किया है?
“इस कारण जो कुछ तुम चाहते हो, कि मनुष्य तुम्हारे साथ करें, तुम भी उन के साथ वैसा ही करो; क्योंकि व्यवस्था और भविष्यद्वक्तओं की शिक्षा यही है॥” (मत्ती 7:12)।

टिप्पणी:-स्वार्थ को मनुष्यों के दिलों से उखाड़ फेंका जाना चाहिए, इससे पहले कि वे अपने साथी मनुष्यों के समान अधिकारों को पहचान सकें।

17. स्वार्थ से मनुष्यों के हृदयों को केवल कौन शुद्ध कर सकता है?
“और किसी दूसरे के द्वारा उद्धार नहीं; क्योंकि स्वर्ग के नीचे मनुष्यों में और कोई दूसरा नाम नहीं दिया गया, जिस के द्वारा हम उद्धार पा सकें॥” (प्रेरितों के काम  4:12; 1 यूहन्ना 1:9 भी देखें)।

18. तो फिर, कौन अकेला मनुष्य को वास्तविक स्वतंत्रता दे सकता है?
“सो यदि पुत्र तुम्हें स्वतंत्र करेगा, तो सचमुच तुम स्वतंत्र हो जाओगे।” (यूहन्ना 8:36)।

19. अविश्वासियों के प्रति मसीह की मनोवृत्ति क्या थी?
“यदि कोई मेरी बातें सुनकर न माने, तो मैं उसे दोषी नहीं ठहराता, क्योंकि मैं जगत को दोषी ठहराने के लिये नहीं, परन्तु जगत का उद्धार करने के लिये आया हूं।” (यूहन्ना 12:47)।

20. मसीह ने किस आत्मा के बारे में कहा कि उसे अपने शिष्यों को नियंत्रित करना चाहिए?
42 और यीशु ने उन को पास बुला कर उन से कहा, तुम जानते हो, कि जो अन्यजातियों के हाकिम समझे जाते हैं, वे उन पर प्रभुता करते हैं; और उन में जो बड़ें हैं, उन पर अधिकार जताते हैं।
43 पर तुम में ऐसा नहीं है, वरन जो कोई तुम में बड़ा होना चाहे वह तुम्हारा सेवक बने।
44 और जो कोई तुम में प्रधान होना चाहे, वह सब का दास बने।
45 क्योंकि मनुष्य का पुत्र इसलिये नहीं आया, कि उस की सेवा टहल की जाए, पर इसलिये आया, कि आप सेवा टहल करे, और बहुतों की छुड़ौती के लिये अपना प्राण दे॥” (मरकुस 10:42-45)।

21. जहां यहोवा का आत्मा है वहां क्या है?
“प्रभु तो आत्मा है: और जहां कहीं प्रभु का आत्मा है वहां स्वतंत्रता है।” (2 कुरीं 3:17)।

22. केवल परमेश्वर को किस प्रकार की उपासना स्वीकार्य है?
23 परन्तु वह समय आता है, वरन अब भी है जिस में सच्चे भक्त पिता का भजन आत्मा और सच्चाई से करेंगे, क्योंकि पिता अपने लिये ऐसे ही भजन करने वालों को ढूंढ़ता है।
24 परमेश्वर आत्मा है, और अवश्य है कि उसके भजन करने वाले आत्मा और सच्चाई से भजन करें।” (यूहन्ना 4:23,24)।

स्वतंत्रता और कारण बहादुर आदमी बनाते हैं;
ये ले लो, फिर ये क्या हैं?-
मात्र कराहते जानवर, और साथ ही साथ
जानवर स्वर्ग या नरक के बारे में सोच सकते हैं।
तो जान लो कि हर आत्मा स्वतंत्र है
अपना जीवन चुनने के लिए, और वह क्या होगा;
इसके लिए अनंत सत्य दिया गया है:
कि परमेश्वर किसी मनुष्य को स्वर्ग में जाने के लिए विवश नहीं करेगा।
वह बुलाहट देगा, उसे समझाएगा, उसे सीधे निर्देशित करेगा,
उसे ज्ञान, प्रेम और प्रकाश की आशीष देगा,
नामहीन तरीकों से अच्छे और दयालु बनो,
लेकिन इंसानी दिमाग से कभी भी जबरदस्ती न करें।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)