(1) शास्त्र

1.बाइबल के पवित्र लेखनों को सामान्यतः किस नाम से जाना जाता है?
“यीशु ने उन से कहा, क्या तुम ने कभी पवित्र शास्त्र में यह नहीं पढ़ा, कि जिस पत्थर को राजमिस्त्रियों ने निकम्मा ठहराया था, वही कोने के सिरे का पत्थर हो गया?” (मत्ती 21:42)।

2.मनुष्य के लिए परमेश्वर के इस प्रकाशन को और कौन-सा शीर्षक दिया गया है?
“उस ने उसके उत्तर में उन से कहा कि मेरी माता और मेरे भाई ये ही हैं, जो परमेश्वर का वचन सुनते और मानते हैं।” (लूका 8:21)।

3.शास्त्र कैसे दिए गए थे?
“हर एक पवित्रशास्त्र परमेश्वर की प्रेरणा से रचा गया है और उपदेश, और समझाने, और सुधारने, और धर्म की शिक्षा के लिये लाभदायक है।” (2 तीमुथियुस 3:16)।

4.वे किसके द्वारा निर्देशित किए गए थे जो इस प्रकार परमेश्वर के लिए बोलते थे?
“क्योंकि कोई भी भविष्यद्वाणी मनुष्य की इच्छा से कभी नहीं हुई पर भक्त जन पवित्र आत्मा के द्वारा उभारे जाकर परमेश्वर की ओर से बोलते थे।” (2 पतरस 1:21)।

5.पतरस द्वारा किस विशिष्ट उदाहरण का उल्लेख किया गया है?
“हे भाइयों, अवश्य था कि पवित्र शास्त्र का वह लेख पूरा हो, जो पवित्र आत्मा ने दाऊद के मुख से यहूदा के विषय में जो यीशु के पकड़ने वालों का अगुवा था, पहिले से कही थीं।” (प्रेरितों के काम 1:16)।

6.दाऊद इसी सच्चाई को कैसे व्यक्त करता है?
“यहोवा का आत्मा मुझ में हो कर बोला, और उसी का वचन मेरे मुंह में आया।” (2 शमुएल 23:2)।

7.सो, इन लोगों के द्वारा किसने बातें कीं?
“पूर्व युग में परमेश्वर ने बाप दादों से थोड़ा थोड़ा करके और भांति भांति से भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा बातें कर की।” (इब्रानियों 1:1)।

8.शास्त्र किस उद्देश्य के लिए लिखे गए थे?
“जितनी बातें पहिले से लिखी गईं, वे हमारी ही शिक्षा के लिये लिखी गईं हैं कि हम धीरज और पवित्र शास्त्र की शान्ति के द्वारा आशा रखें।” (रोमियों 15:4)।

9.सभी शास्त्र किस लिए लाभदायक हैं?
“हर एक पवित्रशास्त्र परमेश्वर की प्रेरणा से रचा गया है और उपदेश, और समझाने, और सुधारने, और धर्म की शिक्षा के लिये लाभदायक है।” (2 तीमुथियुस 3:16)।

10.इस प्रकार पवित्रशास्त्र देने में परमेश्वर की क्या योजना थी?
“ताकि परमेश्वर का जन सिद्ध बने, और हर एक भले काम के लिये तत्पर हो जाए।” (2 तीमुथियुस 3:17)।

11.अय्यूब ने परमेश्वर के वचनों पर क्या अनुमान लगाया?
“उसकी आज्ञा का पालन करने से मैं न हटा, और मैं ने उसके वचन अपनी इच्छा से कहीं अधिक काम के जान कर सुरक्षित रखे।” (अय्यूब 23:12)।

12.यीशु ने अपने मसीहा होने का आधार किस प्रमाण पर आधारित किया?
“तब उस ने मूसा से और सब भविष्यद्वक्ताओं से आरम्भ करके सारे पवित्र शास्त्रों में से, अपने विषय में की बातों का अर्थ, उन्हें समझा दिया।” (लूका 24:27)।

13.पुराने नियम के सभी लेखनों को सम्मिलित करते हुए यीशु ने किन तीन सामान्य विभाजनों को पहचाना?
“फिर उस ने उन से कहा, ये मेरी वे बातें हैं, जो मैं ने तुम्हारे साथ रहते हुए, तुम से कही थीं, कि अवश्य है, कि जितनी बातें मूसा की व्यवस्था और भविष्यद्वक्ताओं और भजनों की पुस्तकों में, मेरे विषय में लिखी हैं, सब पूरी हों।” (लूका 24:44)।

14.परमेश्वर का चरित्र उसे क्या करने से प्रतिबंधित करता है?
“उस अनन्त जीवन की आशा पर, जिस की प्रतिज्ञा परमेश्वर ने जो झूठ बोल नहीं सकता सनातन से की है।” (तीतुस 1:2)।

15.शास्त्रों में परमेश्वर को क्या कहा गया है?
“वह चट्टान है, उसका काम खरा है; और उसकी सारी गति न्याय की है। वह सच्चा ईश्वर है, उस में कुटिलता नहीं, वह धर्मी और सीधा है।” (व्यवस्थाविवरण 32:4)।

16.इसलिए, उसके वचन का स्वरूप क्या होना चाहिए?
“सत्य के द्वारा उन्हें पवित्र कर: तेरा वचन सत्य है।” (यूहन्ना 17:17)।

17.इसलिए सत्य के प्रत्येक तथाकथित शिक्षक के लिए कौन-सी परख लागू की जानी चाहिए?
“व्यवस्था और चितौनी ही की चर्चा किया करो! यदि वे लोग इस वचनों के अनुसार न बोलें तो निश्चय उनके लिये पौ न फटेगी।” (यशायाह 8:20)।

18.परमेश्वर ने क्या योजना बनाई है कि उसका वचन अंधकार, पाप और मृत्यु के इस संसार में हमारे लिए होगा?
“तेरा वचन मेरे पांव के लिये दीपक, और मेरे मार्ग के लिये उजियाला है।” (भजन संहिता 119:105)।

19.परमेश्वर ने अपने वचन को किस सीमा तक बढ़ाया है?
“मैं तेरे पवित्र मन्दिर की ओर दण्डवत करूँगा, और तेरी करुणा और सच्चाई के कारण तेरे नाम का धन्यवाद करूँगा, क्योंकि तू ने अपने वचन को अपने बड़े नाम से अधिक महत्त्व दिया है।” (भजन संहिता 138:2)।

ध्यान दें:- परमेश्वर ने स्वयं पर आधारित शपथ के साथ अपने वादों का समर्थन करते हुए ऐसा किया। (इब्रानियों 6:13,14)। इसके द्वारा उसने प्रतिज्ञा की और अपने वचन की पूर्ति के लिए अपना नाम, या चरित्र दांव पर लगा दिया।

20.जीवन की सच्ची कविता किसमें पाई जाती है?
“जहां मैं परदेशी होकर रहता हूं, वहां तेरी विधियां, मेरे गीत गाने का विषय बनी हैं।” (भजन संहिता 119:54)।

21.परमेश्वर का वचन कब तक बना रहेगा?
“घास तो सूख जाती, और फूल मुर्झा जाता है; परन्तु हमारे परमेश्वर का वचन सदैव अटल रहेगा।” (यशायाह 40:8)। “आकाश और पृथ्वी टल जाएंगे, परन्तु मेरी बातें कभी न टलेंगी।” (मत्ती 24:35)।

ध्यान दें: निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है!

हे देहधारी, परमेश्वर के वचन,

हे सर्वोच्च से बुद्धि,

हे अपरिवर्तित, अपरिवर्तनीय सत्य,

हे हमारे अंधकारमय आकाश की ज्योति!

चमक के लिए हम आपकी स्तुति करते हैं

कि पवित्र पृष्ठ से,

हमारे पदचिन्हों का मार्गदर्शन करने के लिए एक दीपक,

जो युग से युग तक चमकता है।

 

उसके प्रिय स्वामी से कलीसिया ने

ईश्वरीय वरदान प्राप्त किया,

और फिर भी वह ज्योति उठाती है

सारी पृथ्वी पर चमकने के लिए।

यह सोने का शृंगारदान है

जहां सत्य के रत्न रखे जाते हैं;

यह स्वर्ग से खींची गई तस्वीर है

मसीह के जीवित वचन की।

(विलियम हाउ)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)