प्रभु हमेशा हमारी योजनाओं को प्राप्त करने में हमारी सहायता क्यों नहीं करते?

Author: BibleAsk Hindi


हमारी योजनाएँ हमेशा प्रभु की योजनाएँ नहीं होती हैं (यशायाह 55:8)। वह देख सकता है कि यह हमारे लिए सबसे अच्छा है और उसके कारण हमारे सर्वोत्तम इरादों को अस्वीकार करने के लिए। लेकिन एक बात के बारे में हम निश्चिंत हो सकते हैं, वह उन लोगों को बहुत आशीष देगा जो ईमानदारी से अपने आप को और अपना सब कुछ उसकी महिमा के लिए समर्पित कर देते हैं (व्यव. 28:2-8)।

यदि परमेश्वर हमारी इच्छाओं को पूरा न करना सबसे अच्छा देखता है, तो वह हमें अपने प्रेम के प्रतीक देकर और हमें अन्य योजनाएँ सौंपकर इनकार को संतुलित करेगा। यीशु ने हमें आश्वासन दिया, “यदि तुम बुरे होकर अपने लड़केबालों को अच्छी वस्तुएं देना जानते हो, तो तुम्हारा स्वर्गीय पिता अपने मांगने वालों को पवित्र आत्मा क्यों न देगा?” (लूका 11:13)।

यहां तक ​​कि अगर हम गलती करते हैं, तो परमेश्वर हमारे अच्छे के लिए इसे बदल देंगे। “और हम जानते हैं, कि जो परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उनके लिये जो उस की इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं, सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती हैं” (रोमियों 8:28)।

हमारे लिए उसकी प्रेमपूर्ण देखभाल और रुचि में, वह जो हमें खुद को समझने से बेहतर समझता है, वह हमें स्वार्थी रूप से अपनी महत्वाकांक्षा की संतुष्टि की तलाश करने की अनुमति देने से इंकार कर सकता है। इसके बजाय, वह हमें धार्मिकता के मार्ग पर चलने के लिए प्रोत्साहित करेगा क्योंकि यह मार्ग हमें उच्च बुलाहट के लिए तैयार करने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण देगा। अक्सर हमारी योजनाएँ विफल हो जाती हैं कि हमारे लिए परमेश्वर की योजनाएँ सफल हो सकती हैं (मत्ती 6:10)।

और भविष्य में जब हम पीछे मुड़कर देखते हैं और स्पष्ट रूप से परमेश्वर की योजना देखते हैं, तो हम देखेंगे कि हमारी अनुत्तरित प्रार्थनाएँ और निराश आशाएँ हमारे सबसे बड़े आशीर्वादों में से क्यों रही हैं। तब, हम घोषणा करेंगे, “हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर यहोवा, तेरे काम महान और अद्भुत हैं। तेरे मार्ग धर्मी और सच्चे हैं” (प्रकाशितवाक्य 15:3)

इसलिए, “वह दौड़ जिस में हमें दौड़ना है, धीरज से दौड़ें” (इब्रानियों 12:1)। हमारी दैनिक प्रार्थना होनी चाहिए, परमेश्वर, हमें आपकी इच्छा जानने में मदद करें कि हम उसमें चल सकें। हमारी योजनाओं को छोड़ने में हमारी मदद करें ताकि हम आपका आशीर्वाद न खोएं।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment