प्रकाशितवाक्य 4 के 24 प्राचीनों में अंक 24 का क्या महत्व है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

प्रकाशितवाक्य 4 के 24 प्राचीनों में अंक 24 के महत्व पर अलग-अलग विचार हैं:

पहला दृश्य

यह दृष्टिकोण 24 प्राचीनों की तुलना लेवीय याजकवर्ग के 24 भागों या हारून के वंशजों से करता है। इनका उल्लेख 1 इतिहास 24 में किया गया है। आइए इस अंश को पढ़ें: “4 और एलीआजर के वंश के मुख्य पुरुष, ईतामार के वंश के मुख्य पुरुषों से अधिक थे, और वे यों बांटे गए अर्थात एलीआजर के वंश के पितरों के घरानों के सोलह, और ईतामार के वंश के पितरों के घरानों के आठ मुख्य पुरुष थे। 5 तब वे चिट्ठी डाल कर बराबर बराबर बांटे गए, क्योंकि एलीआजर और ईतामार दोनों के वंशों में पवित्रस्थान के हाकिम और परमेश्वर के हाकिम नियुक्त हुए थे” (पद 4,5)।

यहां के राज्यपालों की दो श्रेणियों ने उच्चतम क्रम के प्रमुख धार्मिक अधिकारियों का उल्लेख किया- मुख्य याजक। दोनों सदनों ने प्रथम श्रेणी के धार्मिक नेताओं के रूप में कार्य किया था। और नियुक्तियों को बहुत से चुना गया ताकि किसी भी पक्ष को कोई पक्षपात न दिखाया जा सके। विभाजन का आधार विविध परिवारों के मुखियाओं के अनुसार था, न कि परिवारों के अलग-अलग सदस्यों के अनुसार।

जैसे याजक पृथ्वी के पवित्रस्थान में परमेश्वर के साम्हने सेवा करते थे, वैसे ही यूहन्ना ने 24 पुरनियों को स्वर्ग के पवित्रस्थान में सेवा करते देखा। 24 वर्गों में से प्रत्येक ने परमेश्वर के मंदिर में सेवाओं के कर्तव्यों के लिए बारी-बारी से अपनी बारी ली।

दूसरा दृश्य

यह दृष्टिकोण 24 प्राचीनों को इस्राएल का प्रतिनिधित्व करने वाले पूर्ण अर्थों में देखता है (प्रकाशितवाक्य 7:4)। प्रत्येक गोत्र से दो प्राचीन हैं। एक वास्तविक इस्राएल या क्रूस के सामने परमेश्वर के बच्चों का प्रतिनिधित्व करता है। और दूसरा, मसीही कलीसिया (आत्मिक इस्राएल) या क्रूस के बाद परमेश्वर के लोगों का प्रतिनिधित्व करता है। इस प्रकार, उन्हें पुराने नियम के 12 कुलपतियों और नए नियम के 12 शिष्यों के बराबर किया जा सकता है। यह दृष्टिकोण इन लोगों के प्रतीकात्मक चरित्र पर जोर देता है, बजाय इसके कि उन्हें वास्तविक व्यक्ति माना जाए जो अब स्वर्ग में हैं (पद 1)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: