प्रकाशितवाक्य के “दो गवाह” क्या हैं?

This page is also available in: English (English)

“ये वे ही जैतून के दो पेड़ और दो दीवट हैं जो पृथ्वी के प्रभु के साम्हने खड़े रहते हैं” (प्रकाशितवाक्य 11: 4)।

एक दीवट परमेश्वर के वचन के लिए एक प्रतीक है, “तेरा वचन मेरे पांव के लिये दीपक, और मेरे मार्ग के लिये उजियाला है” (भजन संहिता 119: 105)। जब जकर्याह ने दर्शन में दो जैतून के पेड़ देखे, तो उसने स्वर्गदूत से पूछा कि वे क्या प्रतिनिधित्व करते हैं “तब उसने मुझे उत्तर देकर कहा, जरूब्बाबेल के लिये यहोवा का यह वचन है : न तो बल से, और न शक्ति से, परन्तु मेरे आत्मा के द्वारा होगा, मुझ सेनाओं के यहोवा का यही वचन है” (जकर्याह 4: 6)। आत्मा का जैतून तेल परमेश्वर के वचन के दीपक को रोशन करता है। नए और पुराने नियमों के साथ परमेश्वर का वचन दो गवाह हैं।

पुराने नियम में, परमेश्वर ने दो गवाहों की तुलना मूसा और एलिय्याह की सेवकाई से भी की है। प्रकाशितवाक्य उन लोगों के लिए एक चेतावनी देता है जो परमेश्वर के दो गवाहों को नुकसान पहुंचाएंगे, पवित्र बाइबल: “और यदि कोई उन को हानि पहुंचाना चाहता है, तो उन के मुंह से आग निकल कर उन के बैरियों को भस्म करती है, और यदि कोई उन को हानि पहुंचाना चाहेगा, तो अवश्य इसी रीति से मार डाला जाएगा” (प्रकाशितवाक्य 11: 5)। यह एलिय्याह और मूसा दोनों के अनुभवों में हुआ। ईश्वर के वचन को अस्वीकार करने के बाद मिस्रियों पर स्वर्ग से आग या गई। और आग ने सैनिकों को भी भस्म कर दिया जब उन्होंने एलिय्याह को चुनौती दी जिसने परमेश्वर का वचन कहा था। इसके अलावा, “इन्हें अधिकार है, कि आकाश को बन्द करें, कि उन की भविष्यद्ववाणी के दिनों में मेंह न बरसे, और उन्हें सब पानी पर अधिकार है, कि उसे लोहू बनाएं, और जब जब चाहें तब तब पृथ्वी पर हर प्रकार की विपत्ति लाएं” (प्रकाशितवाक्य 11: 6)। एलिय्याह ने प्रार्थना की और बारिश नहीं हुई और मूसा ने प्रार्थना की और पानी लहू में बदल गया।

नए नियम में, हमारे पास रूपांतरण के पर्वत पर मूसा और एलिय्याह की गवाही भी है। और जैसे कि मूसा और एलिय्याह का समर्थन पर्याप्त नहीं था, सर्वशक्तिमान की आवाज यह कहते हुए सुनी जाती है, “वह बोल ही रहा था, कि देखो, एक उजले बादल ने उन्हें छा लिया, और देखो; उस बादल में से यह शब्द निकला, कि यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिस से मैं प्रसन्न हूं: इस की सुनो” (मत्ती 17: 5)। इस तरह बाइबल यह कहते हुए पूरी हुई कि “अब तीसरी बार तुम्हारे पास आता हूं: दो या तीन गवाहों के मुंह से हर एक बात ठहराई जाएगी” (2 कुरिन्थियों 13:1)। पर्वत पर, मसीह द्वारा भुनाए गए दो मनुष्यों ने गवाही दी कि वह मसीहा है, और तीसरा स्वयं ईश्वर की वाणी है।

प्रभु ने हमें रूपांतरण के पर्वत में एक विशेष संदेश दिया है। आने वाले कुछ बहुत परेशान करने वाले दिन हैं, और अब हमें पहाड़ पर परमेश्वर के साथ उसके वचन से प्रकाश इकट्ठा करने में समय व्यतीत करना चाहिए कि हम भी एलिय्याह और मूसा की तरह परमेश्वर के वचन की गवाही दे सकें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या आप प्रकाशितवाक्य अध्याय 17 में “बड़ा बाबुल पृथ्वी की वेश्याओं की माता” कहे जाने वाली वैश्या की पहचान कर सकते हैं?

Table of Contents कौन सी कलिसिया वैश्या होगी?उसने संतों को सताया (पद 6)।वह बैंगनी और किरिमजी कपड़े पहने हुए है (पद 4)।पशु के सात सिर (पद 3)पशु ईशनिंदा का दोषी…
View Post

प्रकाशितवाक्य की सात मुहरें क्या हैं?

Table of Contents पहली मुहर- इफिसुस की कलिसिया (प्रकाशितवाक्य 2: 1)दूसरी मुहर- स्मुरना की कलिसिया (प्रकाशितवाक्य 2: 8)तीसरी मुहर- पिरगमुन की कलिसिया (प्रकाशितवाक्य 2:12)चौथी मुहर-थूआतीरा की कलिसिया  (प्रकाशितवाक्य 2:18)पाँचवीं मुहर- सरदीस…
View Post