पुराने नियम और नए नियम में परमेश्वर की नैतिक व्यवस्था का उद्देश्य क्या है?

Author: BibleAsk Hindi


पुराने नियम और नए नियम में परमेश्वर की नैतिक व्यवस्था का उद्देश्य क्या है?

पुरानी व्यवस्था में, प्रभु ने अपनी नैतिक व्यवस्था को पत्थर की तख्तियों पर लिखा था (व्यवस्थाविवरण 4:13)। उसने योजना बनाई कि उसकी व्यवस्था भी लोगों के दिलों पर लिखी जाए। लेकिन इस्राएली इसे केवल एक बाहरी संहिता और उनके पालन को सतही आज्ञाकारिता के रूप में मानने के लिए संतुष्ट थे। परमेश्वर ने यह योजना नहीं बनाई थी कि उसकी व्यवस्था को ऐसा माना जाए। वह अपने बच्चों को एक नए दिल का अनुभव देना चाहता था “मैं तुम को नया मन दूंगा, और तुम्हारे भीतर नई आत्मा उत्पन्न करूंगा; और तुम्हारी देह में से पत्थर का हृदय निकाल कर तुम को मांस का हृदय दूंगा” (यहेजकेल 36:26), लेकिन वे केवल एक बाहरी धर्म से खुश थे।

नए नियम में नई वाचा के तहत, लोगों के दिल और दिमाग बदल जाते हैं (रोमियों 12:2; 2 कुरि० 5:17)। लोग भलाई करते हैं, अपनी शक्ति से नहीं, बल्कि इसलिए कि मसीह उनके दिलों में रहते हैं, उनमें अपना जीवन जीते हैं “मैं मसीह के साथ क्रूस पर चढ़ाया गया हूं, और अब मैं जीवित न रहा, पर मसीह मुझ में जीवित है: और मैं शरीर में अब जो जीवित हूं तो केवल उस विश्वास से जीवित हूं, जो परमेश्वर के पुत्र पर है, जिस ने मुझ से प्रेम किया, और मेरे लिये अपने आप को दे दिया” (गलातियों 2:20)। विश्वासी आत्मा से जन्म लेते हैं और आत्मा के फल देते हैं (गलातियों 5:22, 23)। पवित्र आत्मा, वह है जो विश्वासियों में मसीही जीवन को सक्रिय करता है, उन्हें विजयी जीवन जीने और शैतान पर काबू पाने की शक्ति देता है।

यह परिवर्तन केवल ईश्वर की शक्ति से ही किया जा सकता है। “क्योंकि परमेश्वर ही है, जिस न अपनी सुइच्छा निमित्त तुम्हारे मन में इच्छा और काम, दोनों बातों के करने का प्रभाव डाला है” (फिलिप्पियों 2:13)। परमेश्वर उद्धार को स्वीकार करने के लिए विश्वासी के प्रारंभिक दृढ़ संकल्प के लिए प्रोत्साहन प्रदान करता है और उस निर्णय को प्रभावी बनाने की शक्ति देता है। इसका मतलब यह नहीं है कि वह पूरी तरह से निष्क्रिय है, लेकिन यह कि परमेश्वर उसे बचाने की इच्छा प्रदान करता है, उसे उद्धार प्राप्त करने का निर्णय लेने में सक्षम बनाता है, और उसे निर्णय को प्रभावी बनाने के लिए ऊर्जा प्रदान करता है ताकि उद्धार प्राप्त हो सके। इस प्रकार, छुटकारे परमेश्वर और मनुष्य के बीच एक सहकारी कार्य है, जिसमें परमेश्वर मनुष्य के उपयोग के लिए सभी आवश्यक शक्तियाँ प्रदान करता है।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment