पुराने नियम में राजा योशिय्याह कौन था?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

योशिय्याह ने लगभग 640 और 609 ईसा पूर्व (2 राजा 22-23; 2 इतिहास 34-35) के बीच यहूदा के राजा के रूप में शासन किया। वह दुष्ट राजा आमोन का पुत्र और राजा मनश्शे का पोता था। योशिय्याह को ताज पहनाया गया था जब वह अपने 24 वर्षीय पिता की हत्या के बाद सिर्फ 8 वर्ष का था। यह राजा अपने पिता आमोन के विपरीत एक धर्मपरायण व्यक्ति था।

प्रमुख धर्मत्याग के बावजूद, युवा राजा का धार्मिक स्वभाव गहरा था। उसने प्रभु की खोज करना शुरू किया और 12वें वर्ष में यहूदा के ऊँचे स्थानों, उपवनों, और मूर्तियों को साफ करने के द्वारा सुधार का अपना कार्य शुरू किया (2 इतिहास 34:3)। और यिर्मयाह ने योशिय्याह के अपने शासन के 13वें वर्ष में अपनी भविष्यद्वाणी की सेवकाई शुरू की (यिर्म0 1:2)।

व्यवस्था की किताब की खोज

18वें वर्ष में राजा योशिय्याह ने शापान शास्त्री को यहोवा के भवन में इसलिये भेजा, कि मन्दिर की मरम्मत करने के लिए चन्दा इकट्ठा करे। इस पैसे का उपयोग बढ़ई, निर्माणकर्ता और राजमिस्त्री को भुगतान करने और मंदिर की मरम्मत के लिए लकड़ी और तराशे हुए पत्थर खरीदने के लिए किया गया था (2 राजा 22:3-6)। इस जीर्णोद्धार के दौरान, महायाजक हिल्किय्याह को यहोवा के भवन में व्यवस्था की पुस्तक मिली। और उस ने उसे शापान को दिया, जिस ने उसे राजा को पढ़कर सुनाया।

जब राजा ने व्‍यवस्‍था की पुस्‍तक की बातें सुनीं, तो उसने अपने कपड़े फाड़े क्‍योंकि वह जान गया था कि यह जाति परमेश्‍वर के प्रति कितनी अवज्ञाकारी है। राजा योशिय्याह परमेश्वर के वचन से बहुत प्रभावित हुआ। वह स्पष्ट रूप से समझ गया था कि अवज्ञा का मार्ग राष्ट्र पर एक भयानक अभिशाप लाएगा, और वह आज्ञाकारिता आशीर्वाद, जीवन और समृद्धि लाएगा। इसलिए, वह इस पुस्तक के शब्दों के बारे में यहोवा से पूछना चाहता था क्योंकि उसने महसूस किया था कि यहोवा का क्रोध बहुत बड़ा है (2 राजा 22:11-13)।

राजा ने हुल्दा नबी से पूछताछ की

तब राजा योशिय्याह ने हिल्किय्याह याजक और उसके सबसे भरोसेमंद सेवकों को हुल्दा भविष्यद्वक्ता के पास भेजा, और उन्होंने उस से पूछा कि उस जाति का क्या होगा, जो उस समय की अवज्ञा के कारण हुआ था। भविष्यद्वक्ता ने उन्हें उत्तर दिया, “14 हिलकिय्याह याजक और अहीकाम, अकबोर, शापान और असाया ने हुल्दा नबिया के पास जा कर उस से बातें की, वह उस शल्लूम की पत्नी थी जो तिकवा का पुत्र और हर्हस का पोता और वस्त्रों का रखवाला था, ( और वह स्त्री यरूशलेम के नये टोले में रहती थी )।

15 उसने उन से कहा, इस्राएल का परमेश्वर यहोवा यों कहता है, कि जिस पुरुष ने तुम को मेरे पास भेजा, उस से यह कहो,

16 यहोवा यों कहता है, कि सुन, जिस पुस्तक को यहूदा के राजा ने पढ़ा है, उसकी सब बातों के अनुसार मैं इस स्थान और इसके निवासियों पर विपत्ति डाला चाहता हूँ।

17 उन लोगों ने मुझे त्याग कर पराये देवताओं के लिये धूप जलाया और अपनी बनाई हुई सब वस्तुओं के द्वारा मुझे क्रोध दिलाया है, इस कारण मेरी जलजलाहट इस स्थान पर भड़केगी और फिर शांत न होगी।

18 परन्तु यहूदा का राजा जिसने तुम्हें यहोवा से पूछने को भेजा है उस से तुम यों कहो, कि इस्राएल का परमेश्वर यहोवा कहता है।

19 इसलिये कि तू वे बातें सुन कर दीन हुआ, और मेरी वे बातें सुन कर कि इस स्थान और इसके निवासियों देख कर लोग चकित होंगे, और शाप दिया करेंगे, तू ने यहोवा के साम्हने अपना सिर नवाया, और अपने वस्त्र फाड़ कर मेरे साम्हने रोया है, इस कारण मैं ने तेरी सुनी है, यहोवा की यही वाणी है।

20 इसलिये देख, मैं ऐसा करूंगा, कि तू अपने पुरखाओं के संग मिल जाएगा, और तू शांति से अपनी कबर को पहुंचाया जाएगा, और जो विपत्ति मैं इस स्थान पर डाला चाहता हूँ, उस में से तुझे अपनी आंखों से कुछ भी देखना न पड़ेगा। तब उन्होंने लौट कर राजा को यही सन्देश दिया” (2 राजा 22:14-20)।

राजा योशिय्याह के सुधार

राजा योशिय्याह ने अपने राष्ट्र को परमेश्वर के पास वापस लाने के प्रयास में व्यवस्था की पुस्तक में संदेश सुनने के बाद बड़े सुधार किए। उसने पुस्तक को एक महासभा में पढ़ाया (2 राजा 23:1) और उसने यहोवा की वाचा को नवीनीकृत किया: “तब राजा ने खम्भे के पास खड़ा हो कर यहोवा से इस आशय की वाचा बान्धी, कि मैं यहोवा के पीछे पीछे चलूंगा, और अपने सारे मन और सारे प्राण से उसकी आज्ञाएं, चितौनियां और विधियों का नित पालन किया करूंगा, और इस वाचा की बातों को जो इस पुस्तक में लिखी है पूरी करूंगा। और सब प्रजा वाचा में सम्भागी हुई” (2 राजा 23:3)।

इसके अलावा, राजा ने मूर्तिपूजा को नष्ट कर दिया (2 राजा 23:4), उसने बेथ-एल की अन्यजातियों की वेदी को अपवित्र कर दिया, जैसा कि भविष्यद्वाणी की गई थी कि उस पर एक मरे हुए आदमियों की हड्डियों को जलाकर (वचन 15), उसने एक सबसे गंभीर फसह मनाया (पद 15) , और उसने चुड़ैलों और सब प्रकार के घिनौने कामों को दूर किया (पद 24)। इस प्रकार, राजा ने लोगों को बचाने के लिए अपनी शक्ति में सब कुछ किया।

राजा को परमेश्वर की कृपा मिलती है

इसलिए, परमेश्वर ने राजा को आशीर्वाद दिया, क्योंकि उसके पहले उसके समान कोई राजा नहीं था, जो अपने पूरे दिल और अपनी सारी आत्मा और अपनी सारी शक्ति के साथ, मूसा की सारी व्यवस्था के अनुसार, और न ही किसी ने पसंद किया था उसके बाद वह उठ खड़ा होगा” (2 राजा 23:25)। यहूदा राष्ट्र के अंतिम विनाश का सामना करने से पहले यहोवा ने योशिय्याह को उसकी कब्र पर जाने दिया (2 राजा 23:29)। और राजा को यरूशलेम में मिट्टी दी गई, और उसका पुत्र यहोआहाज राजा हुआ।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: