पुराने नियम में मिरियम कौन थी?

This page is also available in: English (English)

पुराना नियम हमें बताता है कि मिरियम मूसा की बड़ी बहन थी। मिरियम, हारून और मूसा, अम्राम और योकेबेद  (निर्गमन 6:20) के बच्चे थे जो लेवी गोत्र (निर्गमन 2:1) से थे। भविष्यद्वक्ता मीका का कहना है कि परमेश्वर ने इस्राएल को मूसा द्वारा मिस्र से बाहर पहुँचाया और हारून और मिरियम ने उसकी सहायता की (मीका 6:4)।

भूमिका

मिरियम परमश्वर की भविष्यद्वक्तनी थी (निर्गमन 15:20)। वह पहली स्त्री हैं जिसे इस उपाधि से सम्मानित किया गया है। निर्गमन से पहले उसका मिशन, शायद गुलामी के अंधेरे वर्षों के दौरान लोगों को उद्धार की आशा के साथ प्रेरित करना था। उसने लोगों को परमेश्वर के मार्ग पर चलने के लिए सिखाया और पछतावा किया होगा।

बाइबल में पहला उल्लेख

बाइबल में पहले उल्लेख किया गया है कि कैसे मिरियम ने फिरौन की मौत के फरमान से मूसा को बचाया। योकेबेद ने मिरियम को मूसा पर नज़र के लिए कहा, जिसे नील नदी के किनारे सरकंड़ों के बीच उसे फिरौन से छुपाने के लिए रखा गया था। क्योंकि राजा ने सभी इब्री बच्चों को नदी में फेंकने का आदेश दिया था (निर्गमन 1: 22-2:4)।

जब मिरियम मूसा की देखभाल कर रही थी, फिरौन की बेटी स्नान करने के लिए नदी पर आई और उसने मूसा को देखा और उस पर दया की। मिरियम ने विवेकपूर्ण ढंग से उससे पूछा कि यदि वह एक इब्री स्त्री को उसके लिए बच्चे की देखभाल करने के लिए पसंद करेगी। राजकुमारी ने कहा कि वह करेगी। लिहाजा, मिरियम अपनी मां को ले आई। और राजकुमारी ने उसे मूसा की देखभाल करने और बड़े होने पर महल में वापस लाने के लिए कहा। और राजकुमारी ने मूसा (निर्गमन 2:5-10) को अपनाया।

निर्गमन

निर्गमन के बाद, परमेश्वर ने लाल सागर को खोलकर अपने लोगों का उद्धार किया ताकि वे फिरौन की सेना से बच सकें। और परमेश्वर ने समुद्र में मिस्रियों को नष्ट कर दिया। तब, मिरियम ने महिलाओं को ईश्वर के शक्तिशाली कार्यों के लिए आंनद के गीतों में अगुवाई की (निर्गमन 15:20–22)। उस समय मिरियम की उम्र 90 वर्ष थी (निर्गमन 2:4; 7:7)।

लेकिन शैतान ने मिरियम को एक  कूशी या इथियोपियाई स्त्री से शादी करने के लिए मूसा के खिलाफ बोलने में परीक्षा की, (गिनती 12:1)। आगे उसने और हारून ने मूसा की ईश्वरीय स्थिति पर संदेह किया जब उन्होंने कहा, “क्या यहोवा ने केवल मूसा ही के साथ बातें की हैं? क्या उसने हम से भी बातें नहीं कीं? उनकी यह बात यहोवा ने सुनी? ” (गिनती 12:2)।

परमेश्वर उनसे अप्रसन्न हुआ और मिरियम को कुष्ठ रोग से मारा। तुरंत उन्हें अपने पाप का पश्चाताप हुआ। और ” सो मूसा ने यह कहकर यहोवा की दोहाई दी, हे ईश्वर, कृपा कर, और उसको चंगा कर” (संख्या 12:13)। इसलिए, मिरियम को सात दिनों के लिए शिविर से बाहर कर दिया गया था, और फिर उसने चंगाई प्राप्त की (पद 15)। पवित्र शास्त्र हमें बताता है कि परमेश्वर जिसको प्यार करता है, उसे अनुशासित करता है (इब्रानियों 12:6)। मिरियम का मूल दोष ईश्वरीय अधिकार के विरुद्ध और विद्रोह का अपमान था। इसलिए, परमेश्वर के लोगों को अपने नियुक्त नेताओं की आलोचना नहीं करनी चाहिए (याकूब 1:26; 4: 11-12; तीतुस 3:1-15; फिलिप्पियों 4:8; इफिसियों 4:31)।

निष्कर्ष

मिरियम ने हारून के साथ यहोवा की सेवा की। अंत में जब इस्राएली कादेश में रहे, मिरियम की मृत्यु हो गई और उसे वहाँ दफन कर दिया गया (गिनती 20:1)। यह शायद जंगल में भटकने का 40 वाँ वर्ष था (गिनती 27:14; 33:36)। वह शायद 132 साल की उम्र की थी (निर्गमन 2:4,7)। हारून, जो कुछ महीने बाद मर गया, 123 (गिनती 33:38, 39) और मूसा, 120 (व्यवस्थाविवरण 34:7) था। वह तीनों में सबसे बड़ी थी।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

You May Also Like

बाइबल हमें गेहजी के बारे में क्या बताती है?

This page is also available in: English (English)गेहजी की कहानी 2 राजा की किताब में दर्ज है। गेहजी, एलीशा नबी का नौकर था। उनका ज़िक्र सबसे पहले शुनेमिन स्त्री की…
View Post

यूसुफ की पूरी कहानी क्या है?

Table of Contents यूसुफ का प्रारंभिक जीवनयूसुफ पोतीपर के घर मेंयूसुफ जेल मेंयूसुफ को मिस्र का अध्यक्ष नियुक्त कियायूसुफ और उसके भाईयूसुफ अपने भाइयों का परीक्षा करता हैयूसुफ ने अपने…
View Post