पुराने नियम में नाबाल कौन था?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

पहले शमूएल अध्याय 25 की पुस्तक में नाबाल का उल्लेख है। कालेब के घराने का नाबाल माओन में रहता था। वह एक बहुत धनी व्यक्ति था जिसके पास तीन हजार भेड़ें और एक हजार बकरियां थीं। उसका व्यवसाय कार्मेल में भेड़ों के बाल काटना था (पद 2)। परन्तु वह एक कठोर और दुष्ट व्यक्ति था, जबकि उसकी पत्नी अबीगैल एक बुद्धिमान और सुंदर स्त्री थी (पद 3)।

जब दाऊद और उसकी सेना राजा शाऊल के पास से भाग रहे थे, तब वे बाल काटने के समय में नाबाल के देश में पहुंच गए। और, दाऊद ने अपने दस आदमियों को नाबाल के पास भेज दिया कि वे उस सुरक्षा के बदले में कुछ आपूर्ति का अनुरोध करें जो उन्होंने उसे दी थी (पद 4-8)। परन्तु नाबाल ने दाऊद की सहायता करने से इन्कार किया, और यह कहकर उसकी निन्दा की, कि दाऊद कौन है, और यिशै का पुत्र कौन है? (पद 10)। तब दाऊद ने अपके चार सौ पुरूषोंको आज्ञा दी, कि तुम में से हर एक अपनी तलवार पर बान्धे! (1 शमूएल 25:13) नाबाल पर आक्रमण करने के लिए।

परन्तु नाबाल के सेवकों ने उसकी पत्नी अबीगैल को समाचार दिया, कि दाऊद के जन उन से कितने अच्छे थे, और जब वे मैदान में थे, तब उनकी और उनकी भेड़-बकरियोंकी रखवाली की। और उन्होंने कहा कि नेबाल की प्रतिक्रिया के कारण अब वे सभी खतरे का सामना करेंगे (पद 14-16)। सो अबीगैल ने फुर्ती से दाऊद को देने के लिए दो सौ रोटियां, और दो कुप्पी दाखमधु, और पांच भेड़-बकरियां, पांच सआ भुना हुआ अनाज, और एक सौ गुच्छे किशमिश, और अंजीर की दो सौ टिकियां लेकर दाऊद को दीं, और गदहों पर लाद दीं। (पद 18)।

और जब अबीगैल दाऊद के पास गई, तब उस ने कहा, “25 मेरा प्रभु उस दुष्ट नाबाल पर चित्त न लगाए; क्योंकि जैसा उसका नाम है वैसा ही वह आप है; उसका नाम तो नाबाल है, और सचमुच उस में मूढ़ता पाई जाती है; परन्तु मुझ तेरी दासी ने अपने प्रभु के जवानों को जिन्हें तू ने भेजा था न देखा था।

26 और अब, हे मेरे प्रभु, यहोवा के जीवन की शपथ और तेरे जीवन की शपथ, कि यहोवा ने जो तुझे खून से और अपने हाथ के द्वारा अपना पलटा लेने से रोक रखा है, इसलिये अब तेरे शत्रु और मेरे प्रभु की हानि के चाहने वाले नाबाल ही के समान ठहरें।

27 और अब यह भेंट जो तेरी दासी अपने प्रभु के पास लाई है, उन जवानों को दी जाए जो मेरे प्रभु के साथ चालते हैं।

28 अपनी दासी का अपराध क्षमा कर; क्योंकि यहोवा निश्चय मेरे प्रभु का घर बसाएगा और स्थिर करेगा, इसलिये कि मेरा प्रभु यहोवा की ओर से लड़ता है; और जन्म भर तुझ में कोई बुराई नहीं पाई जाएगी।

29 और यद्यपि एक मनुष्य तेरा पीछा करने और तेरे प्राण का ग्राहक होने को उठा है, तौभी मेरे प्रभु का प्राण तेरे परमेश्वर यहोवा की जीवनरूपी गठरी में बन्धा रहेगा, और तेरे शत्रुओं के प्राणों को वह मानो गोफन में रखकर फेंक देगा।

30 इसलिये जब यहोवा मेरे प्रभु के लिये यह समस्त भलाई करेगा जो उसने तेरे विषय में कही है, और तुझे इस्राएल पर प्रधान करके ठहराएगा,” (पद 25-30)

तब दाऊद ने अबीगैल से कहा, 32 दाऊद ने अबीगैल से कहा, इस्राएल का परमेश्वर यहोवा धन्य है, जिसने आज के दिन मुझ से भेंट करने के लिये तुझे भेजा है।

33 और तेरा विवेक धन्य है, और तू आप भी धन्य है, कि तू ने मुझे आज के दिन खून करने और अपना पलटा आप लेने से रोक लिया है। (पद 32-33)। दाऊद ने परमेश्वर को धन्यवाद दिया कि उसने उसे जल्दबाजी के काम से बचाया।

इस समय नाबाल अपने घर में राजभोज कर रहा था और वह बहुत नशे में था। लेकिन जब वह अगले दिन शांत हो गया, तो उसकी पत्नी ने उसे बताया कि उसने क्या किया और उसने पूरे परिवार को कैसे बचाया। और उसका हृदय भय से व्याकुल हो गया और उसे लकवा मार गया। दस दिन के बाद, यहोवा ने नाबाल को मारा, और वह मर गया (पद 37-38)। नाबाल के पास परमेश्वर के अभिषिक्‍त भविष्य के इस्राएल के राजा के लिए आशीष का स्रोत बनने का अवसर था जो कि जरूरतमंद था। लेकिन उसने इनकार कर दिया और इस तरह उसने अपने जीवन पर परमेश्वर की सुरक्षा का अधिकार खो दिया।

और जब दाऊद ने नबाल की मृत्यु का समाचार सुना, तब उस ने अबीगैल के पास यह कहला भेजा, कि वह उसकी पत्नी हो जाए। और उसने यह कहते हुए उसके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, “यहाँ तेरी दासी है, जो मेरे प्रभु के सेवकों के पैर धोने वाली दासी है” (पद 41)। अबीगैल की बुद्धि, नम्रता और विवेक ने उसके परिवार को बचा लिया। और दाऊद और उसकी सेना को लोहू बहाने से बचाया।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: