पुराने नियम में जमीन को रखने का क्या उद्देश्य था?

SHARE

By BibleAsk Hindi


पुराने नियम में जमीन को रखने का क्या उद्देश्य था?

यहोवा ने आज्ञा दी कि इस्राएलियों द्वारा देश में विश्राम करने के पूरे वर्ष मनाए जाएं:

“1 फिर यहोवा ने सीनै पर्वत के पास मूसा से कहा,

2 इस्त्राएलियों से कह, कि जब तुम उस देश में प्रवेश करो जो मैं तुम्हें देता हूं, तब भूमि को यहोवा के लिये विश्राम मिला करे।

3 छ: वर्ष तो अपना अपना खेत बोया करना, और छहों वर्ष अपनी अपनी दाख की बारी छांट छांटकर देश की उपज इकट्ठी किया करना;

4 परन्तु सातवें वर्ष भूमि को यहोवा के लिये परमविश्रामकाल मिला करे; उस में न तो अपना खेत बोना और न अपनी दाख की बारी छांटना।

5 जो कुछ काटे हुए खेत में अपने आप से उगे उसे न काटना, और अपनी बिन छांटी हुई दाखलता की दाखों को न तोड़ना; क्योंकि वह भूमि के लिये परमविश्राम का वर्ष होगा।

6 और भूमि के विश्रामकाल ही की उपज से तुम को, और तुम्हारे दास-दासी को, और तुम्हारे साथ रहने वाले मजदूरों और परदेशियों को भी भोजन मिलेगा;

7 और तुम्हारे पशुओं का और देश में जितने जीवजन्तु हों उनका भी भोजन भूमि की सब उपज से होगा” (लैव्य. 25:1-7)।

भूमि को विश्राम देने की आज्ञा के कई उद्देश्य थे:

पहला उद्देश्य भूमि को फिर से भरना था। परमेश्वर ने देखा कि सभी पौधों के जीवन को समय-समय पर अपने पोषक तत्वों को नवीनीकृत करने की आवश्यकता होती है। प्राचीन काल में कृषि आदिम थी, फसल चक्र का विज्ञान ज्ञात नहीं था, और कृत्रिम उर्वरकों का उपयोग नहीं किया जाता था। इसलिए, इस उपाय के द्वारा, प्रभु ने पृथ्वी और उसके संसाधनों को पुनर्जीवित करने की योजना बनाई।

दूसरा उद्देश्य गरीबों के लिए वह प्रदान करना था जो भूमि बिना खेती के खुद का उत्पादन करती थी। जो उपज सामने आई वह सभी के लिए एक सामान्य अधिकार के रूप में थी। इसने इस्राएल में ज़रूरतमंदों पर, उनके बीच रहने वाले “परदेशी” पर, और यहाँ तक कि “मैदान के जानवरों” पर भी परमेश्वर की दया और करुणा को दिखाया।

तीसरा उद्देश्य यह था कि यह विश्राम वर्ष विशेष धार्मिक जोर देने वाला होगा। “मुक्ति के वर्ष” के दौरान लोगों को विशेष रूप से झोपड़ियों के पर्व पर नियम सीखने का निर्देश दिया गया था। “तब मूसा ने उन को आज्ञा दी, कि सात सात वर्ष के बीतने पर, अर्थात उगाही न होने के वर्ष के झोपड़ी वाले पर्व्व में, जब सब इस्राएली तेरे परमेश्वर यहोवा के उस स्थान पर जिसे वह चुन लेगा आकर इकट्ठे हों, तब यह व्यवस्था सब इस्राएलियों को पढ़कर सुनाना” (व्यवस्थाविवरण 31:10,11)। यह शिक्षा धार्मिक तैयारी के समय से पहले की गई थी (नहे. 8)। यह विश्राम का वर्ष एक पवित्र समय था, जिसने आत्म-निरीक्षण, चरित्र परिवर्तन, और पुनरुत्थान और बहाली का समय दिया।

दुख की बात है कि आर्थिक लाभ की इच्छा ने इस्राएलियों को यहोवा की आज्ञा का उल्लंघन करने के लिए मजबूर कर दिया। और “सत्तर वर्ष” की बंधुआई उनके द्वारा परमेश्वर की कई आज्ञाओं को तोड़ने और भूमि को आराम देने के उद्देश्य से भी थी। प्रभु ने इन विश्रामकालीन वर्षों का पालन करने में विफलता के लिए क्षतिपूर्ति करने का इरादा किया था। इस प्रकार, इस्राएलियों को बंधुआई में रहना था “17 तब उसने उन पर कसदियों के राजा से चढ़ाई करवाई, और इस ने उनके जवानों को उनके पवित्र भवन ही में तलवार से मार डाला। और क्या जवान, क्या कुंवारी, क्या बूढ़े, क्या पक्के बाल वाले, किसी पर भी कोमलता न की; यहोवा ने सभों को उसके हाथ में कर दिया। और क्या छोटे, क्या बड़े, परमेश्वर के भवन के सब पात्र और यहोवा के भवन, और राजा, और उसके हाकिमों के खजाने, इन सभों को वह बाबेल में ले गया। और कसदियो ने परमेश्वर का भवन फूंक दिया, और यरूशलेम की शहरपनाह को तोड़ ड़ाला, और आग लगा कर उसके सब भवनों को जलाया, और उस में का सारा बहुमूल्य सामान नष्ट कर दिया। और जो तलवार से बच गए, उन्हें वह बाबेल को ले गया, और फारस के राज्य के प्रबल होने तक वे उसके और उसके बेटों-पोतों के आधीन रहे। यह सब इसलिये हुआ कि यहोवा का जो वचन यिर्मयाह के मुंह से निकला था, वह पूरा हो, कि देश अपने विश्राम कालों में सुख भोगता रहे। इसलिये जब तक वह सूना पड़ा रहा तब तक अर्थात सत्तर वर्ष के पूरे होने तक उसको विश्राम मिला” (2 इति. 36:17-21)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

We'd love your feedback, so leave a comment!

If you feel an answer is not 100% Bible based, then leave a comment, and we'll be sure to review it.
Our aim is to share the Word and be true to it.