पापहीन यीशु ने बपतिस्मा क्यों लिया?

Total
1
Shares

This answer is also available in: English العربية

कुछ लोग आश्चर्य करते हैं कि जब यीशु पश्चाताप के बपतिस्मा का प्रचार कर रहे थे तो पापहीन यीशु ने यूहन्ना से उसे बपतिस्मा देने के लिए क्यों कहा? (मत्ती 3:11)। यूहन्ना को स्वयं अपनी स्वयं की अयोग्यता का एहसास हुआ और यीशु से बपतिस्मा लेने की अपनी आवश्यकता थी: “मुझे तेरे हाथ से बपतिस्मा लेने की आवश्यक्ता है, और तू मेरे पास आया है?” (मत्ती 3:14)। यीशु ने उसे उत्तर देते हुए कहा कि “अब तो ऐसा ही होने दे, क्योंकि हमें इसी रीति से सब धामिर्कता को पूरा करना उचित है” (मत्ती 3:15)। यीशु को व्यक्तिगत पापों की स्वीकारोक्ति में बपतिस्मा देना उचित नहीं था, क्योंकि उसके पास कोई पाप नहीं था जिसका उसे पश्चाताप करना था लेकिन हमारे उदाहरण के रूप में यह उसके लिए बपतिस्मा स्वीकार करने के लिए उपयुक्त था।

यह भी यूहन्ना के लिए उसके सार्वजनिक सेवकाई की शुरुआत में उसके पूर्वगामी द्वारा स्वीकृति के रूप में यीशु को बपतिस्मा देने के लिए उपयुक्त था। यशायाह द्वारा भविष्यद्वाणी की गई यूहन्ना “किसी की पुकार सुनाई देती है”, लोगों को अपने मसीहा (यशायाह 40:3) के लिए पश्चाताप करने के लिए बुला रहा था। और उसने राष्ट्र को घोषणा की कि ईश्वर का पुत्र, वह जिसकी उसने भविष्यद्वाणी की थी “वह तुम्हें पवित्र आत्मा और आग से बपतिस्मा देगा” (मत्ती 3:11)। “यूहन्ना ने उन को उत्तर दिया, कि मैं तो जल से बपतिस्मा देता हूं; परन्तु तुम्हारे बीच में एक व्यक्ति खड़ा है, जिसे तुम नहीं जानते। अर्थात मेरे बाद आनेवाला है, जिस की जूती का बन्ध मैं खोलने के योग्य नहीं” (यूहन्ना 1: 26,27)।

और बपतिस्मे के बाद, यूहन्ना ने सभी से घोषणा की, “दूसरे दिन उस ने यीशु को अपनी ओर आते देखकर कहा, देखो, यह परमेश्वर का मेम्ना है, जो जगत के पाप उठा ले जाता है। यह वही है, जिस के विषय में मैं ने कहा था, कि एक पुरूष मेरे पीछे आता है, जो मुझ से श्रेष्ठ है, क्योंकि वह मुझ से पहिले था। और मैं तो उसे पहिचानता न था, परन्तु इसलिये मैं जल से बपतिस्मा देता हुआ आया, कि वह इस्त्राएल पर प्रगट हो जाए। ” (यूहन्ना 1:29-31)।

पापी के लिए यीशु का बपतिस्मा एक उदाहरण था, जिसे न केवल सफाई देकर क्षमा प्राप्त करना था। उसके बपतिस्मे ने पापी की मृत्यु और जीवन के नएपन के पुनरुत्थान का प्रतीक बनाया (2 कुरिन्थियों 5:21)। पापी के पापों को मसीह में गिना गया था, जैसे कि वे उसके थे, इसलिए उसकी धार्मिकता को उसके जैसे ही गिना जाता है।

और अंत में, यीशु के बपतिस्मे में, मानवता की ओर से उसके बचाव कार्य में ईश्वरत्व की एकता का प्रकाशन किया गया था “क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए। परमेश्वर ने अपने पुत्र को जगत में इसलिये नहीं भेजा, कि जगत पर दंड की आज्ञा दे परन्तु इसलिये कि जगत उसके द्वारा उद्धार पाए” (मत्ती 3:16,17)। पिता दुनिया से प्यार करता है (इफिसियों 1:4); वह उन्हें बचाने के लिए अपने बेटे को भेजता है (लूका 19:10); और आत्मा पाप का दोषी है (यूहन्ना 16:8) और विश्वासी को पिता तक पुत्र के माध्यम से आकर्षित करता है।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English العربية

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

बपतिस्मा लेने से पहले मुझे क्या सुझाव देना चाहिए?

This answer is also available in: English العربيةयहां उन सरल युक्तियों के बारे में बताया गया है, जिन्हें किसी व्यक्ति को बपतिस्मा लेने से पहले विचार करना चाहिए: (क) परमेश्वर…

बच्चों के नामकरण के बारे में बाइबल क्या कहती है?

This answer is also available in: English العربيةबच्चों के नामकरण के बारे में बाइबल क्या कहती है? बच्चों का नामकरण एक मसीही कलिसिया में प्रवेश के संकेत के रूप में…