पवित्र आत्मा के वरदान क्या हैं?

SHARE

By BibleAsk Hindi


पवित्र आत्मा के वरदान क्या हैं?

पवित्र आत्मा के वरदान (रोमियों 12:6-8; 1 कुरिन्थियों 12:4-11; इफिसियों 4:10-12) कलीसिया की सेवा के लिए प्रभु द्वारा विश्वासियों को दी गई विशेष योग्यताएँ और शक्तियाँ हैं। उनका उद्देश्य कलीसिया को एकता में लाने और प्रभु से मिलने के लिए उपयुक्त स्थिति में लाने के उद्देश्य से कार्य करना है (इफि० 4:12-15)।

इन अलौकिक अभिव्यक्तियों ने शुरुआती विश्वासियों के विश्वास की पुष्टि की, जिनके पास मसीही धर्म की शक्ति का ऐतिहासिक प्रमाण नहीं था जो आज विश्वासियों के पास है। उस समय, केवल पुराने नियम से युक्त बाइबलें दुर्लभ थीं। इन जरूरतों को पूरा करने के लिए, प्रारंभिक कलिसिया को अलौकिक उपहार उदारता से दिए गए थे।

आत्मा के उपहार नए नियम समय तक ही सीमित नहीं थे। कई ने उन्हें पुराने नियम में रखा था। ये उपहार कलीसिया के लिए भी प्रदान किए गए थे जब यीशु का स्वर्गारोहण हुआ (इफि० 4:8, 11)। और यह परमेश्वर की इच्छा और योजना है कि उसकी कलीसिया इन उपहारों के द्वारा उसके दूसरे आगमन तक सशक्त होगी (इफि० 4:8, 11-13)।

पौलुस आत्मा के वरदानों को सूचीबद्ध करता है: “क्योंकि एक को आत्मा के द्वारा बुद्धि की बातें दी जाती हैं; और दूसरे को उसी आत्मा के अनुसार ज्ञान की बातें। और किसी को उसी आत्मा से विश्वास; और किसी को उसी एक आत्मा से चंगा करने का वरदान दिया जाता है। फिर किसी को सामर्थ के काम करने की शक्ति; और किसी को भविष्यद्वाणी की; और किसी को आत्माओं की परख, और किसी को अनेक प्रकार की भाषा; और किसी को भाषाओं का अर्थ बताना। परन्तु ये सब प्रभावशाली कार्य वही एक आत्मा करवाता है, और जिसे जो चाहता है वह बांट देता है” (1 कुरिन्थियों 12:8-11)।

ये उपहार प्राकृतिक प्रतिभा हैं जो आत्मा विश्वासियों को ईश्वर की महिमा के लिए उनका उपयोग करने के लिए प्रदान करता है। ऐसी सभी आत्मिक प्रतिभा पवित्र आत्मा की इच्छा और उद्देश्य के अनुसार दी गई “अनुग्रह के उपहार” हैं। अत: इन्हें प्राप्त करने वालों को अपनी बढ़ती हुई शक्ति और प्रभाव के स्रोत के लिए अभिमान नहीं करना चाहिए।

पौलुस को एक प्रेरित होने के लिए बुलाया गया था (रोमियों 12:3)। अन्य विश्वासियों को भविष्यद्वक्ता, शिक्षक, चमत्कार करने वाले, बीमारों को चंगा करने वाले, आदि के रूप में नियुक्त किया गया था। (1 कुरिं. 12:28)। परमेश्वर की कृपा से, कलिसियाओं में विश्वासियों को कई अलग-अलग जरूरतों को पूरा करने और दुनिया को सुसमाचार का प्रचार करने के लिए कई तरह की आत्मिक शक्तियां दी गईं।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि आत्मा के उपहार आत्मा के फल के समान नहीं हैं (गला० 5:22, 23)। आत्मा के उपहार विश्वासियों पर उनकी कलिसिया की पूर्णता लाने के लिए ईश्वरीय शक्ति का अनुदान हैं। आत्मा के फल चरित्र के गुण हैं जो कलिसिया के सदस्यों में प्रकट होते हैं जो स्वयं को पवित्र आत्मा के प्रभाव के अधीन कर देते हैं और उनके प्रेम से प्रेरित होते हैं (1 कुरिं. 13:13; गला. 5:22, 23)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Reply

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments