पवित्रस्थान का उद्देश्य क्या है?

This page is also available in: English (English)

एक पवित्रस्थान एक ऐसा स्थान है जो पवित्र है या पवित्र उद्देश्य के लिए अलग किया हुआ। यशायाह 59:2 में यह कहा गया है कि पाप हमें ईश्वर से अलग करता है। इस अलगाव के जवाब में, परमेश्वर ने हमें स्वयं को पुनर्स्थापित करने की योजना बनाई। पवित्रस्थान का उद्देश्य परमेश्‍वर को उसके पुत्र यीशु मसीह के माध्यम से वापस बचाने का एक तरीका प्रदान करना है।

पवित्रस्थान परमेश्वर की उद्धार की योजना को दर्शाता है

भजन संहिता 77:13 में, भविष्यद्वक्ता ने लिखा, ” हे परमेश्वर तेरी गति पवित्रता की है। …” पवित्रस्थान वह है जो मनुष्यों को उद्धार की योजना को स्पष्ट करता है। यह उद्धार के क ख ग की तरह है पृथ्वी पर पहला पवित्रस्थान संरचना इस्राएलियों द्वारा बनाई गई थी जब उन्होंने मिस्र में दासता को छोड़ दिया था। परमेश्वर ने उनसे कहा, “और वे मेरे लिये एक पवित्रस्थान बनाए, कि मैं उनके बीच निवास करूं” (निर्गमन 25:8)। पवित्रस्थान परमेश्वर के लिए उसके लोगों के साथ रहने और उसके तरीकों के बारे में सिखाने के लिए बनाया गया था। यह उस अंतर को आपस में मिलाता है जो पाप ने पैदा किया था। जबकि यह पवित्रस्थान पृथ्वी पर पहली बार देखा गया था, यह बाइबिल में उल्लिखित पहला पवित्रस्थान नहीं है।

स्वर्ग में परमेश्वर का पवित्रस्थान

निर्गमन की कहानी बताती है कि कैसे परमेश्वर ने इस्राएलियों को मिस्र से बचाकर बाहर लाया। स्वतंत्रता के अपने अंतिम पड़ाव पर, वे चमत्कारिक रूप से लाल सागर से गुज़रे। अपने उद्धार पर, उन्होंने एक गीत गाया: “तू उन्हें पहुचाकर अपने निज भाग वाले पहाड़ पर बसाएगा, यह वही स्थान है, हे यहोवा जिसे तू ने अपने निवास के लिये बनाया, और वही पवित्रस्थान है जिसे, हे प्रभु, तू ने आप स्थिर किया है” (निर्गमन 15:17)।

उपरोक्त पद से पता चलता है कि परमेश्वर ने अपने हाथों से एक पवित्रस्थान बनाया है। यह यह भी दर्शाता है कि परमेश्वर के लोग हमेशा इस स्वर्गीय पवित्रस्थान के बारे में जानते थे। नया नियम इस बात की पुष्टि करता है। “अब जो बातें हम कह रहे हैं, उन में से सब से बड़ी बात यह है, कि हमारा ऐसा महायाजक है, जो स्वर्ग पर महामहिमन के सिंहासन के दाहिने जा बैठा। और पवित्र स्थान और उस सच्चे तम्बू का सेवक हुआ, जिसे किसी मनुष्य ने नहीं, वरन प्रभु ने खड़ा किया था” (इब्रानियों 8:1-2)।

यीशु हमारा महायाजक स्वर्गीय पवित्रस्थान में सेवा करता है

इब्रानियों 7:25-26 में, हम पढ़ते हैं कि यीशु हमारा महायाजक है और वह कभी भी हमारे लिए मध्यस्थता करने के लिए जीया। यीशु ही सच्चा मेमना था जिसने सांसारिक पवित्रस्थान की सभी आवश्यकताओं को पूरा किया (इब्रानियों 9:12)। यही कारण है कि आज हमारे पास पृथ्वी पर एक भी नहीं है। इसलिए, शेष पवित्रस्थान सेवकाई को स्वर्ग में ले जाया गया है और यीशु के लौटने से पहले पूरा किया जाना चाहिए।

प्रारंभ में, परमेश्वर ने मूसा के समय में पृथ्वी पर एक पवित्रस्थान संरचना का निर्माण करने के लिए अपने लोगों से कहा। परमेश्वर ने उसे जो “नमूना“ दिखाया था उसके जैसा करने के लिए कहा (निर्गमन 25: 9)। एक नमूने (प्रतिरूप) का मतलब है कि यह एक वास्तविकता की एक प्रति है। इस प्रकार, आज स्वर्ग में परमेश्वर का वास्तविक पवित्रस्थान अभी भी हम सभी को उसे वापस बचाने के लिए उसकी योजना के हिस्से के रूप में कार्य करता है।

पवित्रस्थान और उसके प्रतीक

मूसा द्वारा बनाया गया पवित्रस्थान पृथ्वी पर बना पहला था और स्वर्ग में पवित्रस्थान के जैसे बनाया गया था। यह तीन कक्षों से बना था: बाहरी आँगन, पवित्र स्थान और महा पवित्र स्थान।

पवित्रस्थान शिविर के केंद्र में था, क्योंकि परमेश्वर अपने लोगों के केंद्र में रहना चाहता था। यह वास्तव में बाहर की परदों की दीवार से घिरे दो कमरों से बना एक बड़ा तम्बू था। पर्दे की दीवार सामने एक बड़े आंगन को बनाने के लिए एक संरचना के चारों ओर एक घेरे के समान थी। पवित्रस्थान में कई वस्तुएं और सेवाएं थीं जो प्रतीकात्मक थीं। वे यीशु और उसकी सेवकाई की एक शिक्षा उपकरण थे और साथ ही वे पापी के लिए क्या मतलब रखते है जो उसके पास आता है (इब्रानियों 8:5)।

बाहरी आँगन

बाहरी आँगन, जिसे मण्डली का मिलाप वाला तम्बू भी कहा जाता है (निर्गमन 29:44), जो बीच में तम्बू के चारों ओर पर्दे के घेरे के बीच की जगह से बना था। पर्दे के सामने से होकर आँगन में एक ही द्वार था। यह इस बात का प्रतीक है कि सच्चे परमेश्वर के लिए एक ही रास्ता है (यूहन्ना 14:6)। यह क्षेत्र एकमात्र ऐसा क्षेत्र था जिसमें एक इस्राएल को प्रवेश करने की अनुमति दी गई थी (निर्गमन 29:43)।

बाहरी आँगन में फर्नीचर की दो वस्तुएं थे: बलिदान की वेदी और पीतल की हौदी  (निर्गमन 40:29-30)।

बाहरी आँगन: सेवाएं

एक विशिष्ट विधि में, एक इस्राएली एक मेमने को बाहरी आँगन में ले आता था। वे पशु के सिर पर अपना हाथ रखते और निर्दोष मेमने को वध करते। एक याजक मेमने द्वारा बहाए लहू को इकट्ठा करने की सेवा में सहायता करता। वह बलि की वेदी पर मेमने के लहू को छिड़क देता। शेष लहू वेदी की सतह पर उंड़ेला जाता। अंत में, पशु के बाकी हिस्सों को वेदी पर जलाया जाता (लैव्यव्यवस्था 3:7-11)।

अन्य विधियों में, एक याजक के एक पशु की बलि देने के बाद, फिर वे हौदी के पास आता। यह हाथ और पैरों को साफ करने के लिए पानी से भरा एक बर्तन था। याजक पवित्रस्थान के पहले कक्ष में जिसे पवित्र स्थान कहा जाता था,  प्रवेश करने  से पहले अपने हाथ-पैर धोता था (निर्गमन 30:18-21)।

बाहरी आँगन: प्रतीक

बलिदान की वेदी पर मारा गया मेमना ईश्वर के मेमने, यीशु मसीह के बलिदान के प्रतीक के रूप में था (यूहन्ना 1:29)। यह प्रदर्शित किया कि पापी को उसके पाप के लिए बलिदान को विश्वास से स्वीकार करना होगा (इफिसियों 2:8)।

उनके पाप के लिए मसीह के बलिदान को स्वीकार करने के बाद यह हौदी बपतिस्मा का प्रतीक था (यूहन्ना 3:5)। जिस प्रकार यह पवित्रस्थान की सेवकाई का अगला चरण है, उसी प्रकार बपतिस्मा देने के लिए मसीही अनुसरण में यह अगला चरण है।

यीशु पवित्रस्थान के सभी हिस्सों को पूरा करता है। वह पिता के लिए हमारा एक मार्ग है (यूहन्ना 14:6)। वह हमारे पापों के लिए बलिदान है (इफिसियों 5: 2) और वह बपतिस्मे के माध्यम से हमें शुद्ध करता है (मत्ती 3:11)।

पवित्र स्थान

अगला कक्ष पवित्रस्थान में पहला कमरा था जिसे पवित्र स्थान कहा जाता था। इस कमरे में फर्नीचर की तीन वस्तुएं थी: धूप की वेदी, रोटी की मेज और सात शाखा का दीवट।

प्रवेश करने पर, दाईं ओर रोटी की मेज, बाईं ओर दीवट और उनके बाद सामने धूप की वेदी दिखाई देती। पवित्रस्थान के अंदर दो कमरों को अलग करने वाला एक पर्दा था, जिसमें धूप की वेदी सबसे करीब थी (निर्गमन 37:10-29)।

याजक फर्नीचर और उनकी सामग्री को दैनिक और साप्ताहिक आधार पर बनाए रखते। प्रत्येक सेवा ने मसीही चलन में एक पहलू की ओर इशारा किया और साथ ही यह भी बताया कि यीशु कौन है।

पवित्र स्थान: फर्नीचर का अर्थ

धूप की वेदी हमेशा धूप के विशेष मिश्रण को जलाती थी। इसे दैनिक देखभाल की आवश्यकता थी, क्योंकि इसे कभी बाहर नहीं ले जाना था। यह प्रार्थना का प्रतीक है (भजन संहिता 141:2, प्रकाशितवाक्य 8:3-4)। जिस तरह यह हमेशा धूप जलाने के लिए होता है, ईश्वर के लोगो को निरंतर प्रार्थना करना हैं (1 थिस्सलुनीकियों 5:17)।

रोटी की मेज एक आयताकार आकार की मेज थी। यह निर्देश दिया गया था कि 12 रोटियों को दो रोटी की छह ढेरों में साथ-साथ रखा जाए। इस रोटी को हर सब्त के दिन ताजा पकाया जाता था। सप्ताह भर इसकी ताजगी बनाए रखने के लिए रोटियों को धूप के साथ मिलाया जाता था। सप्ताह के अंत में, इसे याजकों द्वारा सब्त के दिन पूरी तरह से खाया जाता था (लैव्यव्यवस्था 24:5-9, गिनती 4:7)। रोटी परमेश्वर के शब्द या बाइबिल का प्रतीक है (मति 4:4)। परमेश्वर के सभी वचनों को लेना और आत्मा को पोषित करना चाहिए (2 तीमुथियुस 3:16) जिस तरह रोटी धूप के साथ घुलमिल जाती है, तो हमारा परमेश्वर के वचन का अध्ययन प्रार्थना के साथ घुलना-मिलना चाहिए (इफिसियों 6:17-18)।

सात शाखा दीवट को सोने के खूबसूरत और उपयोगी रूप में ढाला गया था (निर्गमन 25: 31-37)। यह हर समय जलते रहने के लिए ताजे जैतून के तेल से भरा होता था (लैव्यव्यवस्था 24:2-4)। यह साक्षी होने का प्रतीक है (मत्ती 5:14-16)। जिस तरह बनानेहारे के हाथ से दीवट बनता है, उसी तरह परमेश्वर के लोग भी बनते हैं क्योंकि वे अपने सृजनहार द्वारा ढलाई के लिए समर्पण करते हैं (2 तीमुथियुस 2:20-21)। इसके अलावा, जैतून का तेल पवित्र आत्मा का प्रतीक है (1 शमूएल 16:13)। तो ऐसे ही परमेश्वर के लोगों को पवित्र आत्मा से भरा होना चाहिए ताकि वे उसके लिए चमक सकें (प्रेरितों के काम 4:31)

पवित्र स्थान: प्रतीकों में यीशु

फ़र्नीचर की ये तीन वस्तुएं न केवल एक मसीही  अनुसरण का प्रतीक हैं, बल्कि स्वयं मसीह का भी। वह हमारी प्रार्थना के लिए एकमात्र मध्यस्थ है (1 तीमुथियुस 2:5)। वह हमारे जीवन की रोटी है (यूहन्ना 6:35,48,51)। यीशु संसार की ज्योति भी है (यूहन्ना 8:12)। हम प्रार्थना, शास्त्र और साक्षी के अपने मसीही विश्वास का उपयोग केवल मसीह जैसे हम करते हैं, के माध्यम से कर सकते हैं। (यूहन्ना 15: 4)।

महा पवित्र स्थान

पवित्रस्थान का अंतिम कक्ष महा पवित्र स्थान था। इसमें केवल एक वस्तु फर्नीचर थी: वाचा का सन्दूक।

यह सन्दूक मूल रूप से एक बॉक्स था, बहुत बड़े ख़ज़ाने जैसा, लकड़ी से बना और सोने में ढका हुआ। श्रद्धा में मध्य की ओर झुके हुए दो सुनहरे स्वर्गदूतों के साथ ढक्कन को प्रायश्चित का ढक्कन कहा जाता था। इन स्वर्गदूतों के बीच वह जगह है जहाँ परमेश्वर की महिमा उज्ज्वल रूप से चमकती है (निर्गमन 25:10-22)।

सन्दूक के अंदर पत्थर की दो पट्टियों में लिखी दस आज्ञाओं को रखा गया था (व्यवस्थाविवरण 10:2)। बाद में, हारून की छड़ी और मन्ना का एक सुनहरा बर्तन रखा गया (इब्रानियों 9:4)। बाहर की ओर, मूसा की व्यवस्था के साथ लिखा एक सूचीपत्र रखा गया था (व्यवस्थाविवरण 31:26)। परमेश्वर की व्यवस्था उसके लोगों के लिए थी (भजन संहिता19:7), मूसा की व्यवस्था उनके खिलाफ था (व्यवस्थाविवरण 31:26)।

फर्नीचर की यह वस्तु पवित्रस्थान के बीचोबीच था। इसी तरह से, परमेश्वर के नियम को हमारे दिलों पर लिखा जाना है (रोमियों 2:15, इब्रानियों 8:10)। उसकी महिमा हममें चमकने के लिए भी है (2 कुरिन्थियों 4:6)। हारून की छड़ी और मन्ना के बर्तन चमत्कार के प्रतीक हैं (गिनती 14:22)। इसी तरह से, परिवर्तन हृदय का एक चमत्कार है। हमें परमेश्वर की महिमा को अपने भीतर से चमकने देना है क्योंकि हम उसकी व्यवस्था की सच्चाई से निर्देशित हैं (1 यूहन्ना 5:3)। मूसा के नियमों के साथ कागज से बनी सूचीपत्र, जिसे क्रूस पर किलों से जड़  दिया गया था (कुलुस्सियों 2:14)।

महा पवित्र स्थान: सेवा

महा पवित्र स्थान में केवल महायाजक द्वारा प्रवेश किया जाता था। वह प्रायश्चित के दिन वर्ष में केवल एक दिन ही प्रवेश कर सकता था। यह पूरे दिन, सभी इस्राएल प्रार्थना और उपवास में बिताते थे। वे कोई काम नहीं कर सकते थे। लोगों के लिए प्रायश्चित करने के लिए एक विशेष सेवा की जाती थी। पूरे साल पवित्रस्थान में दर्ज सभी पापों को साफ किया जाता था। यह यहूदी कैलेंडर का आखिरी दिन था। जो कोई भी इस दिन का सम्मान नहीं करता था उसे इस्राएल राष्ट्र से निकाल दिया जाता था (लैव्यव्यवस्था 23:27-29)।

प्रायश्चित के दिन, महायाजक दो बकरों को प्रस्तुत करता था, एक परमेश्वर का बकरा और दूसरा बलि का बकरा। लोगों के लिए परमेश्वर के बकरे को मार दिया जाता था और लहू को पवित्र स्थान में लाया जाता था। यह वाचा के सन्दूक पर सात बार छिड़का जाता था। जब महायाजक इस काम को पूरा करता था, तो वह आता और अपने हाथ बलि के बकरे रख देता था। सभी लोगों के पाप इस बकरे पर रखे जाते। तब एक तंदुरुस्त व्यक्ति आता और बलि के बकरे को शिविर के बाहर दूर जंगल में ले जाता था। इस प्रकार, सभी पाप पूरी तरह से दूर किए जाते थे (लैव्यव्यवस्था 16:2-34, 23:27-31)।

महा पवित्र स्थान: सेवा प्रतीक

मसीही जानता है कि पृथ्वी के इतिहास का अंत आएगा (1 पतरस 4:7)। उस समय, परमेश्वर का न्याय होगा और पाप दूर हो जाएगा। वे सभी जो परमेश्वर के साथ सही होने में समय नहीं लेते थे, उसके राज्य में उसके लोगों का हिस्सा नहीं होंगे। “जो जय पाए, वही इन वस्तुओं का वारिस होगा; और मैं उसका परमेश्वर होऊंगा, और वह मेरा पुत्र होगा। पर डरपोकों, और अविश्वासियों, और घिनौनों, और हत्यारों, और व्यभिचारियों, और टोन्हों, और मूर्तिपूजकों, और सब झूठों का भाग उस झील में मिलेगा, जो आग और गन्धक से जलती रहती है: यह दूसरी मृत्यु है” (प्रकाशितवाक्य 21:7-8)।

महा पवित्र स्थान: यीशु की परिपूर्णता

यीशु सन्दूक की तरह है, क्योंकि वह हमारे जीवन का केंद्र है। वह व्यवस्था के साथ-साथ परमेश्वर की दया भी रखता है। यीशु हमें पिता की महिमा दिखाते हैं। वह हमारा महायाजक है और हमारे पापों के लिए अपना लहू छिड़कता है। वह हमारा प्रायश्चित है (रोमियों 5:10-11) और हमारे लिए मध्यस्थता करता है।

यीशु आखिरकार पाप का अंत कर देगा। “क्योंकि मसीह ने उस हाथ के बनाए हुए पवित्र स्थान में जो सच्चे पवित्र स्थान का नमूना है, प्रवेश नहीं किया, पर स्वर्ग ही में प्रवेश किया, ताकि हमारे लिये अब परमेश्वर के साम्हने दिखाई दे: … नहीं तो जगत की उत्पत्ति से लेकर उस को बार बार दुख उठाना पड़ता; पर अब युग के अन्त में वह एक बार प्रगट हुआ है, ताकि अपने ही बलिदान के द्वारा पाप को दूर कर दे” (इब्रानियों 9:24,26)।

निष्कर्ष

परमेश्वर का पवित्रस्थान उसके लोगों के लिए एक सुंदर शिक्षा उपकरण है। पवित्रस्थान और इसकी सेवकाई में पुराना और नया नियम दोनों  अधिकांश बाइबिल बनाती हैं।

जब यीशु हमारा महायाजक स्वर्गीय पवित्रस्थान में अपना काम पूरा करेगा, तो वह अपने बच्चों को घर ले जाने के लिए आएगा (प्रकाशितवाक्य 11:18-19)। जब हम स्वर्ग में जाते हैं, तो कोई और मंदिर नहीं है क्योंकि परमेश्वर और यीशु मंदिर हैं (प्रकाशितवाक्य 21: 1, 22)। हम पवित्रस्थान के माध्यम से मसीह का पालन करें, यह जानने के लिए कि हम कैसे तैयार हो सकते हैं जब वह हमें जल्द ही घर ले जाएगा।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

अगर मैं दशमांश का भुगतान करने में सक्षम नहीं हूँ तो क्या मैं परमेश्वर की योजना का उल्लंघन कर रहा हूँगा?

This page is also available in: English (English)“सारे दशमांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे; और सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि ऐसा कर के…
View Post

आज मसीही फसह और अखमीरी रोटी का पर्व क्यों नहीं मनाते?

This page is also available in: English (English)पुराने नियम में, इस्राएलियों को हर साल केवल फसह के दौरान मिस्र के बंधन से उनको निकालने के स्मरणोत्सव के रूप में अखमीरी…
View Post