परमेश्वर ने यिर्मयाह को विवाह न करने के लिए क्यों बुलाया?

SHARE

By BibleAsk Hindi


परमेश्वर ने यिर्मयाह को यह कहते हुए विवाह न करने के लिए बुलाया: “तू इस स्थान में कोई पत्नी न ब्याह लेना, और न तेरे बेटे और बेटियां उत्पन्न करना” (यिर्मयाह 16:2)। यह निषेध भविष्यद्वक्ता के जीवन में जल्दी आ गया, क्योंकि इब्रानी युवाओं ने आमतौर पर कम उम्र में विवाह कर ली थी (उत्पत्ति 38:1; 2 राजा 22:1; 23:36)।

इस आदेश के पीछे की वजह

यहोवा ने स्वयं इस निषेध का कारण यिर्मयाह 16:3, 4 में दिया है, “3 क्योंकि जो बेटे-बेटियां इस स्थान में उत्पन्न हों और जो माताएं उन्हें जनें और जो पिता उन्हें इस देश में जन्माएं, 4 उनके विषय यहोवा यों कहता है, वे बुरी बुरी बीमारियों से मरेंगे। उनके लिये कोई छाती न पीटेगा, न उन को मिट्टी देगा; वे भूमि के ऊपर खाद की नाईं पड़े रहेंगे। वे तलवार और महंगी से मर मिटेंगे, और उनकी लोथें आकाश के पक्षियों और मैदान के पशुओं का आहार होंगी”

यहूदा का राज्य पाप की बीमारी के कारण नष्ट हो रहा था, जो उसने कई पीढ़ियों से देश में अभ्यास किया था। राजा, प्रजा और यहाँ तक कि याजक भी भ्रष्ट हो गए। उनके कार्यों ने परमेश्वर के न्याय के अनिवार्य चरमोत्कर्ष की ओर अग्रसर किया – राष्ट्रों को एक विदेशी राज्य द्वारा कब्जा कर लिया गया और उन पर विजय प्राप्त की गई।

परमेश्वर ने अपनी महान दया से भूमि पर आने वाली भयानक परिस्थितियों को देखा। इसलिए, गहरी करुणा में भविष्यवक्ता ने ऐसी विकट परिस्थितियों में परिवार और बच्चों की देखभाल करने की पीड़ा को बख्शा। माता-पिता और बच्चों दोनों के लिए जल्द ही महामारी, अकाल के कारण सबसे दुखद भाग्य का शिकार होना था (यिर्मयाह 14:18)। तलवार इस जाति और उसके निवासियों को नाश करने वाली थी। इस आदेश ने यहूदा पर आने वाली मुसीबतों की गंभीरता को और अधिक बल दिया (यहे. 24:15-27; लैव्य. 10:6, 7)।

निष्कर्ष

इस प्रकार, यिर्मयाह का अविवाहित राज्य एक आदेश था जिसने दो उद्देश्यों की पूर्ति की। पहला- यह आसन्न विनाश का संकेत था जो विद्रोही पीढ़ी पर आएगा। दूसरा- यह यिर्मयाह के भेष में आशीर्वाद था कि वह उसे अतिरिक्त पीड़ा और परीक्षणों से बचाए।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

We'd love your feedback, so leave a comment!

If you feel an answer is not 100% Bible based, then leave a comment, and we'll be sure to review it.
Our aim is to share the Word and be true to it.