परमेश्वर ने यहूदियों को खतना कराने की आज्ञा क्यों दी?

Author: BibleAsk Hindi


खतना, पुराने नियम में, परमेश्वर के साथ वाचा के संबंध में एक शिशु के प्रवेश को दर्शाता है। इसका महत्व सब्त के दिन (यूहन्ना 7:22,23) के पवित्र समयों पर भी किए जाने वाले सकारात्मक आदेश (लैव्य. 12:3) द्वारा दिखाया गया है। खतना ने यहूदी बच्चों को परमेश्वर के चुने हुए लोगों के सदस्यों के रूप में हस्ताक्षरित किया। यहोवा ने इब्राहीम और उसके वंशजों को अपनी विशेष जाति के रूप में चुना ताकि वह अपने सत्य को सारे संसार में फैला सके। और इब्राहीम के वंश को खतने वाले व्यक्ति को स्वचालित रूप से परमेश्वर के परिवार का सदस्य बनाने के रूप में माना जाता था।

लेकिन इब्राहीम वंश ने उद्धार की गारंटी नहीं दी थी और यह पवित्रशास्त्र में स्पष्ट है (लूका 3:8; यूहन्ना 8:33-39; रोम 2:25-29; 9:4–8; गला० 3:7, 9, 16 , 29); तौभी कोई भी यहूदी इस व्यवस्था का पालन किए बिना वाचा के सम्बन्ध में प्रवेश नहीं कर सकता था, जिसकी आज्ञा परमेश्वर ने इस्राएल को दी थी। इब्रानियों में आठवें दिन खतने की रस्म को संचालित करने की प्रथा थी; जब एक शिशु सात दिन का था (उत्प. 17:10-14; 21:4; अध्याय 17:10, 11)।

चूँकि खतना भौतिक इस्राएली के लिए परमेश्वर के साथ उसकी वाचा के संबंध का चिन्ह था, बपतिस्मा नए नियम में मसीही विश्‍वासियों के लिए परमेश्वर के साथ उनके संबंध के लिए वह चिन्ह बन गया। “उसी में तुम्हारा ऐसा खतना हुआ है, जो हाथ से नहीं होता, अर्थात मसीह का खतना, जिस से शारीरिक देह उतार दी जाती है। और उसी के साथ बपतिस्मा में गाड़े गए, और उसी में परमेश्वर की शक्ति पर विश्वास करके, जिस ने उस को मरे हुओं में से जिलाया, उसके साथ जी भी उठे” (कुलु० 2:11-12)।

मसीही अब्राहम का “आत्मिक” वंशज बन गया। “इसलिये जान लो कि केवल विश्वास करने वाले ही इब्राहीम की सन्तान हैं…” (गला० 3:7, 9, 27-29)। इस प्रकार, परमेश्वर के चुने हुए लोग भौतिक वंश के आधार पर प्रतिज्ञा के उत्तराधिकारी नहीं बनते हैं, बल्कि मसीह के साथ व्यक्तिगत संबंधों के आधार पर, जिन्होंने स्वयं को पाप के दंड से बचाने के लिए स्वयं को बलिदान के रूप में अर्पित किया (प्रेरितों के काम 2:38; 3 :19; 8:36, 37)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment