परमेश्वर ने आदम और हव्वा को उनकी गलती के बाद माफ क्यों नहीं किया?

Author: BibleAsk Hindi


परमेश्वर ने आदम और हव्वा को माफ कर दिया और उसने उन्हें जीने का एक और मौका दिया। वह उद्धार की योजना के माध्यम से उन्हें क्षमा करने में सक्षम था (उत्पत्ति 3:15)। यीशु ने उनकी सजा भुगतने की पेशकश की (यशायाह 53)। परमेश्वर न केवल एक असीम रूप से प्रेम करने वाला ईश्वर है बल्कि वह एक असीम रूप से न्यायी ईश्वर भी है (यशायाह 45:21)। परमेश्वर की सरकार में, एक टूटे हुए व्यवस्था के लिए दंड की आवश्यकता होती है। और पाप का दंड मृत्यु है “क्योंकि पाप की मजदूरी मृत्यु है” (रोमियों 6:23)।

न्याय

ईश्वरीय न्याय के लिए आवश्यक था कि पाप अपने दंड को पूरा करे। लेकिन ईश्वरीय दया ने पहले से ही आदम और हव्वा को माफ करने और पतित मानव जाति को छुड़ाने का एक तरीका खोज लिया था – ईश्वर के पुत्र की स्वैच्छिक बलिदान द्वारा (1 पतरस 1:20; इफिसियों 3:11; 2 तीमुथियुस 1:9; प्रकाशितवाक्य 13:8)।

एक न्यायाधीश के लिए, किसी भी अपराध को क्षमा करने से, बुराई का अंत नहीं होगा। एक ऐसी दुनिया की कल्पना करें जिसमें कोई न्याय न हो। क्या कोई ऐसी दुनिया में रहना चाहेगा?

परमेश्वर का प्यार

ईश्वर का प्रेम और न्याय दोनों ही क्रूस पर पूरे हुए। यीशु हमारे पापों के लिए मर गया, ताकि हमारे पास अनन्त जीवन हो “क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए” (यूहन्ना 3:16)। यूहन्ना ने कहा, “देखो पिता ने हम से कैसा प्रेम किया है, कि हम परमेश्वर की सन्तान कहलाएं, और हम हैं भी: इस कारण संसार हमें नहीं जानता, क्योंकि उस ने उसे भी नहीं जाना” (1 यूहन्ना 3:1)।

जब परमेश्वर आदम और हव्वा के पाप को क्षमा और भूल नहीं सकता था, उसने इससे कुछ महान कर किया ईश्वर के प्रेम की सर्वोच्च अभिव्यक्ति उसके अपने पुत्र का पिता का उपहार है, जिसके माध्यम से हमारे लिए “परमेश्वर के पुत्र” कहा जाना संभव हो जाता है ”(1 यूहन्ना 3:1)। “जब तक हम पापी ही थे” तब तक वह हमारे लिए मर गया (रोमियों 5:6–8)। सचमुच, ” इस से बड़ा प्रेम किसी का नहीं, कि कोई अपने मित्रों के लिये अपना प्राण दे” (यूहन्ना 15:13)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

 

Leave a Comment