परमेश्वर की दृष्टि में एक सच्चा यहूदी कौन है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

यहूदी दो प्रकार के होते हैं। पहला, यहूदी है जो इब्राहीम का भौतिक वंशज है। दूसरा, आत्मा में यहूदी है जो यीशु मसीह में विश्वास करता है। पौलुस ने लिखा, “17 यदि तू यहूदी कहलाता है, और व्यवस्था पर भरोसा रखता है, और परमेश्वर के विषय में घमण्ड करता है।

25 यदि तू व्यवस्था पर चले, तो खतने से लाभ तो है, परन्तु यदि तू व्यवस्था को न माने, तो तेरा खतना बिन खतना की दशा ठहरा।

26 सो यदि खतना रहित मनुष्य व्यवस्था की विधियों को माना करे, तो क्या उस की बिन खतना की दशा खतने के बराबर न गिनी जाएगी?

28 क्योंकि वह यहूदी नहीं, जो प्रगट में यहूदी है और न वह खतना है जो प्रगट में है, और देह में है।

29 पर यहूदी वही है, जो मन में है; और खतना वही है, जो हृदय का और आत्मा में है; न कि लेख का: ऐसे की प्रशंसा मनुष्यों की ओर से नहीं, परन्तु परमेश्वर की ओर से होती है” (रोमियों 2:17, 25, 26, 28, 29)।

पौलुस कह रहा है कि एक व्यक्ति जिसे “यहूदी कहा जाता है” क्योंकि वह अब्राहम का एक भौतिक वंशज है, और फिर भी जो एक कानून तोड़ने वाले के रूप में रहता है, “यहूदी नहीं है” – कम से कम, परमेश्वर की नजर में नहीं। उसका “खतना खतनारहित किया जाता है।” इसे निरस्त किया जाता है। इस प्रकार परमेश्वर के लिए, वह एक अन्यजाति है। और एक विश्वासी अन्यजाति, जो विश्वास के द्वारा “व्यवस्था की धार्मिकता” को मानता है, उसका खतना खतना के लिए गिना जाता है। इस प्रकार परमेश्वर के लिए, वह एक सच्चा यहूदी है।

यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले ने यहूदियों को पूर्वजों की कहावत पर भरोसा नहीं करने की चेतावनी दी। “8 सो मन फिराव के योग्य फल लाओ।

9 और अपने अपने मन में यह न सोचो, कि हमारा पिता इब्राहीम है; क्योंकि मैं तुम से कहता हूं, कि परमेश्वर इन पत्थरों से इब्राहीम के लिये सन्तान उत्पन्न कर सकता है” (मत्ती 3:8, 9)।

यीशु ने स्वयं पुष्टि की, “यदि तुम इब्राहीम की सन्तान होते, तो इब्राहीम के काम करते … तुम अपने पिता शैतान के हो, और अपने पिता की अभिलाषाएं करते हो” (यूहन्ना 8:39, 44)।

पौलुस ने यह भी लिखा, “इसलिये जान लो कि जो विश्वास करने वाले हैं, वही इब्राहीम की सन्तान हैं” (गलातियों 3:7)। “क्योंकि हम खतनावाले हैं, जो आत्मा से परमेश्वर की उपासना करते हैं, और मसीह यीशु में मगन हैं, और शरीर पर भरोसा नहीं रखते” (फिलिप्पियों 3:3)। इस प्रकार, पौलुस के अनुसार, परमेश्वर की दृष्टि में एक सच्चा यहूदी कोई भी है—यहूदी या गैर-यहूदी—जिसका यीशु मसीह में व्यक्तिगत विश्वास है!

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: