परमेश्वर की इच्छा का पालन करने के लिए क्या मुझे अपना दिल तोड़ना चाहिए?

SHARE

By BibleAsk Hindi


परमेश्वर अपने बच्चों से कोई अच्छी चीज नहीं लेते हैं। वास्तव में, हम जो आशा करते हैं या कभी सपने देखते हैं, उससे कहीं अधिक ईश्वर हमें देता है। “अब जो ऐसा सामर्थी है, कि हमारी बिनती और समझ से कहीं अधिक काम कर सकता है, उस सामर्थ के अनुसार जो हम में कार्य करता है” (इफिसियों 3:20)। अपने बच्चों को यहाँ प्रचुर जीवन देना परमेश्वर की प्रसन्नता है। यीशु ने अपने बच्चों को यह कहते हुए आश्वासन दिया, “चोर किसी और काम के लिये नहीं परन्तु केवल चोरी करने और घात करने और नष्ट करने को आता है। मैं इसलिये आया कि वे जीवन पाएं, और बहुतायत से पाएं” (यूहन्ना 10:10)।

और उन लोगों के लिए जो परमेश्वर के राज्य के लिए हार जाते हैं, यीशु ने वादा किया, “यीशु ने उस से कहा, यदि तू सिद्ध होना चाहता है; तो जा, अपना माल बेचकर कंगालों को दे; और तुझे स्वर्ग में धन मिलेगा; और आकर मेरे पीछे हो ले” (मत्ती 19:21)। इस जीवन में मसीहीयों को जो “सौ गुना” मिलता है, वह मसीही संगति के आनंद में और अधिक वास्तविक और गहन संतुष्टि में होता है जो हमारे प्यारे पिता के साथ हमारे संबंध से आता है।

लेकिन ऐसे बलिदान भी हैं जिन्हें करने की मसीहियों को आवश्यकता है। बाइबल हमें मूसा का उदाहरण देती है (इब्रानियों 11:23¬-27) जिसे फिरौन की अपनी बेटी द्वारा फिरौन के महल में पाला गया था। उसने “उसे अपने पुत्र के समान पाला” (प्रेरितों के काम 7:21)। मूसा उस समय के विश्व के पहले साम्राज्य के धन और शक्ति के अप्रतिरोध्य आकर्षण से 40 वर्षों तक घिरा रहा।

परमेश्वर की योजना के अनुसार, मूसा को उस राजसी पद को छोड़ना पड़ा जिसमें वह था। क्षणिक सुखों को त्यागने के उसके विकल्प का अर्थ कठिनाई, पीड़ा और दुर्व्यवहार था: “विश्वास से मूसा ने, जब वह बूढ़ा हो गया, तो उसने पुत्र कहलाने से इनकार कर दिया। फिरौन की बेटी के लिए, पाप के बीतते सुखों का आनंद लेने के बजाय, परमेश्वर के लोगों के साथ दु:ख भोगना पसंद करना (इब्रानियों 11:24-25)। मसीही अक्सर ऐसी ही स्थिति का सामना करते हैं। मसीही जीवन जीने का अर्थ हो सकता है कुछ सांसारिक संबंधों को काटना (मत्ती 10:34-36; लूका 12:51-53)।

बलिदान शुरुआत में बहुत अच्छे लग सकते हैं। लेकिन वास्तव में वे उन महिमाओं की तुलना में बिल्कुल भी नहीं हैं जो मसीही विश्‍वासी की प्रतीक्षा कर रही हैं। मूसा की नज़र परमेश्वर के साथ वाचा के संबंध के वादों और विशेषाधिकारों पर टिकी थी। उन्होंने स्वेच्छा से सांसारिक महिमा और वर्तमान जीवन की शक्ति को स्वर्ग की अनंत महिमा के लिए बदल दिया।

अच्छी नई बात यह है कि परमेश्वर ने अपने बच्चों के लिए ऐसी आशीषें तैयार की हैं जो उनकी कल्पनाओं से कहीं अधिक हैं: “परन्तु जैसा लिखा है, कि जो आंख ने नहीं देखी, और कान ने नहीं सुना, और जो बातें मनुष्य के चित्त में नहीं चढ़ीं वे ही हैं, जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखने वालों के लिये तैयार की हैं” ( 1 कुरिन्थियों 2:9)। यह ज्ञान किसी भी चीज़ से परे है जिसे लोग मसीह के सुसमाचार से अलग जान सकते हैं।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Reply

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments