परमेश्वर अपने बच्चों की सुरक्षा का वादा क्यों करता है फिर भी उन्हें शहीद होने की अनुमति देता है?

This page is also available in: English (English)

यह जवाब देने के लिए एक कठिन सवाल और एक स्पष्ट विरोधाभास के रूप में प्रकट हो सकता है, लेकिन आइए हम बाइबल को देखें। नबी दाऊद ने घोषणा की:

“इस्राएल यह कहे, कि यदि हमारी ओर यहोवा न होता, यदि यहोवा उस समय हमारी ओर न होता जब मनुष्यों ने हम पर चढ़ाई की, तो वे हम को उसी समय जीवित निगल जाते, जब उनका क्रोध हम पर भड़का था, हम उसी समय जल में डूब जाते और धारा में बह जाते; उमड़ते जल में हम उसी समय ही बह जाते॥ धन्य है यहोवा, जिसने हम को उनके दातों तले जाने न दिया! हमार जीव पक्षी की नाईं चिड़ीमार के जाल से छूट गया; जाल फट गया, हम बच निकले! यहोवा जो आकाश और पृथ्वी का कर्ता है, हमारी सहायता उसी के नाम से होती है” (भजन संहिता 124)।

यदि यह शैतान के ऊपर होता, तो वह एक ही बार में पृथ्वी के चेहरे से सभी धर्मी लोगों को मिटा देता। दाऊद की तरह बाइबल में किसी अन्य व्यक्ति को लगातार खतरे का सामना नहीं करना पड़ा और उसने कई युद्ध लड़े, फिर भी प्रभु ने उसे यह सब करने के लिए सुरक्षित किया और उसने अपना जीवन पूर्ण रूप से जीया कि वह ईश्वर की इच्छा को पूरा कर सके। जब तक उसका काम ख़त्म नहीं होगा परमेश्वर अपने बच्चों की जिंदगी ख़त्म नहीं होने देंगे। इसका सही उदाहरण यूहन्ना बपतिस्मा देने वाला है।

इसके अलावा, शैतान ने चेलों के जीवन को समाप्त कर दिया होता, लेकिन परमेश्वर ने उन्हें उसके मिशन को अंत तक निभाने के लिए संरक्षित किया। और कोई भी किसी भी तरह से उन्हें नुकसान पहुंचाने में सक्षम नहीं था जब तक कि उसका मिशन पूरा नहीं हुआ या अधिक से अधिक अच्छा नहीं हुआ। यीशु ने उसके चेलों से वादा किया, “नई नई भाषा बोलेंगे, सांपों को उठा लेंगे, और यदि वे नाशक वस्तु भी पी जांए तौभी उन की कुछ हानि न होगी, वे बीमारों पर हाथ रखेंगे, और वे चंगे हो जाएंगे” (मरकुस 16:18)।

लेकिन जब दौड़ दौड़ी जाती है, और किसी मिशन को पूरा किया जाता है, तो हम पौलूस के साथ कह सकते हैं, ” क्योंकि अब मैं अर्घ की नाईं उंडेला जाता हूं, और मेरे कूच का समय आ पहुंचा है। मैं अच्छी कुश्ती लड़ चुका हूं मैं ने अपनी दौड़ पूरी कर ली है, मैं ने विश्वास की रखवाली की है। भविष्य में मेरे लिये धर्म का वह मुकुट रखा हुआ है, जिसे प्रभु, जो धर्मी, और न्यायी है, मुझे उस दिन देगा और मुझे ही नहीं, वरन उन सब को भी, जो उसके प्रगट होने को प्रिय जानते हैं” (2 तीमुथियुस 4:6-8)।

सभी युगों में, आरंभिक कलिसिया की तरह, जो लोग अपने प्रभु से सच्चा प्यार करते हैं, वे “अपने नाम के लिए शर्म सहने लायक” गिने जाते हैं। (प्रेरितों 5:41; 1 पतरस 2: 19–23; 3:14; 4: 14)। इसलिए, शहीद होना सर्वोच्च सम्मान है जो मसीही अनुभव कर सकते हैं। मसीह ने उन लोगों को बताया जो उसके शिष्य होंगे कि वे “मेरे नाम के कारण सब लोग तुम से बैर करेंगे” (मत्ती 10:22), लेकिन उसने उन्हें यह कहते हुए प्रोत्साहित किया कि “जो मेरे कारण अपना प्राण खोता है, वह उसे पाएगा।” (मती 10:39)।

अनंत काल से, जो लोग परमेश्वर के लिए शहीद हुए हैं, उन्हें बहुत सम्मानित किया जाएगा क्योंकि उन्होंने अपने गुरु के उदाहरण का अनुसरण किया जिसने उनके लिए अपना जीवन दिया। इस कारण यीशु ने हमें यह कहते हुए आशा दी, ” धन्य हैं वे, जो धर्म के कारण सताए जाते हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है। धन्य हो तुम, जब मनुष्य मेरे कारण तुम्हारी निन्दा करें, और सताएं और झूठ बोल बोलकर तुम्हरो विरोध में सब प्रकार की बुरी बात कहें। आनन्दित और मगन होना क्योंकि तुम्हारे लिये स्वर्ग में बड़ा फल है इसलिये कि उन्होंने उन भविष्यद्वक्ताओं को जो तुम से पहिले थे इसी रीति से सताया था” (मत्ती 5:10-12)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
Bibleask टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

यशायाह के अनुसार परमेश्वर का “अनोखा कार्य” क्या है?

Table of Contents परमेश्वर का स्वरूपपरमेश्वर का न्यायदुष्टों को चेतावनीनरक में अंतिम न्याय This page is also available in: English (English)नबी यशायाह ने लिखा, ” क्योंकि यहोवा ऐसा उठ खड़ा…
View Post