पत्नी होने का क्या मतलब है?

Total
0
Shares

This answer is also available in: English

परमेश्वर ने आदम को उसकी पत्नी हव्वा दी। वह आदम की पसूली से बनाई गई थी। इसने एक पति और उसकी पत्नी के बीच अविभाज्य एकता, प्रेम और संगति का प्रतिनिधित्व किया। आदम की पत्नी और उसकी रचना को विवाह के नैतिक अध्यादेश के लिए वास्तविक नींव रखना था। पत्नी को पति के पक्ष में एक समान लेकिन विनम्र व्यक्ति के रूप में खड़ा होना था। विवाह प्रेम और जीवन की संगति का एक प्रकार है जो प्रभु और उसकी कलिसिया (इफिसियों 5:32) के बीच मौजूद है।

यीशु ने कहा, “कि इस कारण मनुष्य अपने माता पिता से अलग होकर अपनी पत्नी के साथ रहेगा और वे दोनों एक तन होंगे? सो व अब दो नहीं, परन्तु एक तन हैं: इसलिये जिसे परमेश्वर ने जोड़ा है, उसे मनुष्य अलग न करे” (मत्ती 19: 5,6)। ये शब्द एक पति और एक पत्नी की गहरी शारीरिक और आत्मिक एकता को व्यक्त करते हैं। ये शब्द पिता और माता के प्रति सहायक कर्तव्य और सम्मान का त्याग करने की अनुशंसा नहीं करते हैं, लेकिन मुख्य रूप से इस तथ्य का उल्लेख करते हैं कि किसी व्यक्ति की पत्नी को उसके संबंधों में पहले होना है और उसका पहला कर्तव्य उसके प्रति है।

धरती के सबसे बुद्धिमान आदमी, सुलैमान ने नीतिवचन 31 में एक अच्छी पत्नी का वर्णन दिया:

10 भली पत्नी कौन पा सकता है? क्योंकि उसका मूल्य मूंगों से भी बहुत अधिक है। उस के पति के मन में उस के प्रति विश्वास है।

11 और उसे लाभ की घटी नहीं होती।

12 वह अपने जीवन के सारे दिनों में उस से बुरा नहीं, वरन भला ही व्यवहार करती है।

13 वह ऊन और सन ढूंढ़ ढूंढ़ कर, अपने हाथों से प्रसन्नता के साथ काम करती है।

14 वह व्यापार के जहाजों की नाईं अपनी भोजन वस्तुएं दूर से मंगवाती हैं।

15 वह रात ही को उठ बैठती है, और अपने घराने को भोजन खिलाती है और अपनी लौण्डियों को अलग अलग काम देती है।

16 वह किसी खेत के विषय में सोच विचार करती है और उसे मोल ले लेती है; और अपने परिश्रम के फल से दाख की बारी लगाती है।

17 वह अपनी कटि को बल के फेंटे से कसती है, और अपनी बाहों को दृढ़ बनाती है।

18 वह परख लेती है कि मेरा व्यापार लाभदायक है। रात को उसका दिया नहीं बुझता।

19 वह अटेरन में हाथ लगाती है, और चरखा पकड़ती है।

20 वह दीन के लिये मुट्ठी खोलती है, और दरिद्र के संभालने को हाथ बढ़ाती है।

21 वह अपने घराने के लिये हिम से नहीं डरती, क्योंकि उसके घर के सब लोग लाल कपड़े पहिनते हैं।

22 वह तकिये बना लेती है; उसके वस्त्र सूक्ष्म सन और बैंजनी रंग के होते हैं।

23 जब उसका पति सभा में देश के पुरनियों के संग बैठता है, तब उसका सम्मान होता है।

24 वह सन के वस्त्र बनाकर बेचती है; और व्योपारी को कमरबन्द देती है।

25 वह बल और प्रताप का पहिरावा पहिने रहती है, और आने वाले काल के विषय पर हंसती है।

26 वह बुद्धि की बात बोलती है, और उस के वचन कृपा की शिक्षा के अनुसार होते हैं।

27 वह अपने घराने के चाल चलन को ध्यान से देखती है, और अपनी रोटी बिना परिश्रम नहीं खाती।

28 उसके पुत्र उठ उठकर उस को धन्य कहते हैं, उनका पति भी उठ कर उसकी ऐसी प्रशंसा करता है:

29 बहुत सी स्त्रियों ने अच्छे अच्छे काम तो किए हैं परन्तु तू उन सभों में श्रेष्ट है।

30 शोभा तो झूठी और सुन्दरता व्यर्थ है, परन्तु जो स्त्री यहोवा का भय मानती है, उसकी प्रशंसा की जाएगी।

31 उसके हाथों के परिश्रम का फल उसे दो, और उसके कार्यों से सभा में उसकी प्रशंसा होगी॥

जो लोग हृदय को नहीं पढ़ सकते हैं, उनके लिए दूसरे की गुणवत्ता का अनुमान लगाने का एकमात्र निश्चित तरीका जीवन के फल का अध्ययन करना है जैसा कि उनके कार्यों में पता चलता है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या आप विवाह के संबंध में अपवाद खंड पर विस्तार से बता सकते हैं?

This answer is also available in: Englishक्या आप विवाह के संबंध में अपवाद खंड पर विस्तार से बता सकते हैं? अपवाद खंड मत्ती 5:32 और 19: 9 में पाया जाता…

स्त्रियों को पुरुषों के अधीन क्यों होना चाहिए?

This answer is also available in: Englishप्रश्न: स्त्रियों को पुरुषों के के अधीन क्यों होना चाहिए? क्या परमेश्वर ने उन्हें समान नहीं बनाया? उत्तर: परमेश्वर की नजर में पुरुषों का…