BibleAsk Hindi

“दोष न लगाओ, कि तुम पर दोष न लगाया जाए” का क्या अर्थ है?

“दोष न लगाओ, कि तुम पर दोष न लगाया जाए” का क्या अर्थ है?

यीशु ने कहा, “दोष मत लगाओ, कि तुम पर भी दोष न लगाया जाए।

2 क्योंकि जिस प्रकार तुम दोष लगाते हो, उसी प्रकार तुम पर भी दोष लगाया जाएगा; और जिस नाप से तुम नापते हो, उसी से तुम्हारे लिये भी नापा जाएगा।

3 तू क्यों अपने भाई की आंख के तिनके को देखता है, और अपनी आंख का लट्ठा तुझे नहीं सूझता?।

4 और जब तेरी ही आंख मे लट्ठा है, तो तू अपने भाई से क्योंकर कह सकता है, कि ला मैं तेरी आंख से तिनका निकाल दूं।

5 हे कपटी, पहले अपनी आंख में से लट्ठा निकाल ले, तब तू अपने भाई की आंख का तिनका भली भांति देखकर निकाल सकेगा” (मत्ती 7:1-5)।

यीशु, यहाँ, मुख्य रूप से किसी अन्य व्यक्ति के उद्देश्यों का न्याय करने के लिए संदर्भित करता है, न कि सही या गलत कार्यों का न्याय करने के लिए। केवल परमेश्वर ही मनुष्यों के उद्देश्यों का न्याय करने के योग्य है, इस तथ्य के कारण कि वह अकेले ही मनुष्यों के व्यक्तिगत विचारों को पढ़ने में सक्षम है (इब्रा० 4:12)। इसलिए मनुष्यों के हृदयों को देखते हुए, परमेश्वर पापी से प्रेम करता है, परन्तु वह पाप से घृणा करता है। क्योंकि लोग केवल “बाहरी रूप” को ही पहचानने में सक्षम होते हैं (1 शमू. 16:7) वे अनिवार्यत: गलतियाँ करते हैं।

यीशु यहाँ न्याय की उचित भावना का उल्लेख नहीं करता है जिसके द्वारा मसीही को सही और गलत के बीच अंतर करना है (प्रका०वा० 3:18), बल्कि अस्वीकृति और अन्यायपूर्ण आलोचना की दिनचर्या के लिए।

हम जो माप देंगे, वही हमें मिलेगा, क्योंकि अन्याय अन्याय की ओर ले जाता है। इससे भी बढ़कर, एक व्यक्ति का अपने साथियों के प्रति अन्याय ईश्वरीय न्याय की ओर ले जाता है, जैसा कि यीशु ने क्षमा न करने वाले दास के दृष्टान्त में सिखाया (मत्ती 18:23-35)। हम अपराध की निंदा कर सकते हैं, लेकिन, परमेश्वर की तरह, हमें अपराधी को क्षमा करने और क्षमा देने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए। हम अपराधी के द्वारा की गई बुराई को क्षमा किए बिना उस पर दया कर सकते हैं।

लूका 6:41 में लिखा है, “तू अपने भाई की आंख के तिनके को क्यों देखता है, और अपनी ही आंख का लट्ठा तुझे नहीं सूझता।” बाइबल हम में से प्रत्येक के व्यवहार का एक धर्मी न्यायी बनाने के लिए पर्याप्त प्रकाश और सच्चाई प्रदान करती है, यहाँ तक कि विशेष रूप से अपना भी।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

More Answers: