दूसरे आगमन के संकेत क्या हैं?

Total
0
Shares

This answer is also available in: English

दूसरे आगमन के संकेत क्या हैं?

यहाँ बहुतों में से कुछ ही, सकारात्मक संकेत हैं जो दिखाते हैं कि हम पृथ्वी के इतिहास के अंतिम दिनों में हैं:

पूंजी-श्रम की परेशानी

“देखो, जिन मजदूरों ने तुम्हारे खेत काटे, उन की वह मजदूरी जो तुम ने धोखा देकर रख ली है चिल्ला रही है, और लवने वालों की दोहाई, सेनाओं के प्रभु के कानों तक पहुंच गई है। तुम भी धीरज धरो, और अपने हृदय को दृढ़ करो, क्योंकि प्रभु का शुभागमन निकट है” याकूब 5: 4, 8।

युद्ध

“और जब तुम लड़ाइयों और बलवों की चर्चा सुनो, तो घबरा न जाना; क्योंकि इन का पहिले होना अवश्य है; परन्तु उस समय तुरन्त अन्त न होगा” लुका 21: 9।

संकट और भय

“और सूरज और चान्द और तारों में चिन्ह दिखाई देंगें, और पृथ्वी पर, देश देश के लोगों को संकट होगा; क्योंकि वे समुद्र के गरजने और लहरों के कोलाहल से घबरा जाएंगे। और भय के कारण और संसार पर आनेवाली घटनाओं की बाट देखते देखते लोगों के जी में जी न रहेगा क्योंकि आकाश की शक्तियां हिलाई जाएंगी” लुका 21:25, 26।

ज्ञान की वृद्धि

“परन्तु हे दानिय्येल, तू इस पुस्तक पर मुहर कर के इन वचनों को अन्त समय तक के लिये बन्द रख। और बहुत लोग पूछ-पाछ और ढूंढ-ढांढ करेंगे, और इस से ज्ञान बढ़ भी जाएगा” दानिय्येल 12: 4।

ऐसा कहा जाता है कि दुनिया के कुल ज्ञान का 80 प्रतिशत पिछले एक दशक में सामने आया है और 90 प्रतिशत वैज्ञानिक जो कभी जीवित रहे हैं वे आज भी जीवित हैं।

धार्मिक संशय

“और यह पहिले जान लो, कि अन्तिम दिनों में हंसी ठट्ठा करने वाले आएंगे, जो अपनी ही अभिलाषाओं के अनुसार चलेंगे” 2 पतरस 3: 3। “क्योंकि ऐसा समय आएगा, कि लोग खरा उपदेश न सह सकेंगे पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाषाओं के अनुसार अपने लिये बहुतेरे उपदेशक बटोर लेंगे। और अपने कान सत्य से फेरकर कथा-कहानियों पर लगाएंगे” 2 तीमुथियुस 4: 3, 4।

नैतिक पतन; आत्मिकता की गिरावट

“पर यह जान रख, कि अन्तिम दिनों में कठिन समय आएंगे। क्योंकि मनुष्य अपस्वार्थी, लोभी, डींगमार, अभिमानी, निन्दक, माता-पिता की आज्ञा टालने वाले, कृतघ्न, अपवित्र। दयारिहत, क्षमारिहत, दोष लगाने वाले, असंयमी, कठोर, भले के बैरी। विश्वासघाती, ढीठ, घमण्डी, और परमेश्वर के नहीं वरन सुखविलास ही के चाहने वाले होंगे। वे भक्ति का भेष तो धरेंगे, पर उस की शक्ति को न मानेंगे; ऐसों से परे रहना” 2 तीमुथियुस 3: 1-5।

खुशी की तलाश

“पर यह जान रख, कि अन्तिम दिनों में कठिन समय आएंगे। क्योंकि मनुष्य अपस्वार्थी, लोभी, डींगमार, अभिमानी, निन्दक, माता-पिता की आज्ञा टालने वाले, कृतघ्न, अपवित्र। दयारिहत, क्षमारिहत, दोष लगाने वाले, असंयमी, कठोर, भले के बैरी। विश्वासघाती, ढीठ, घमण्डी, और परमेश्वर के नहीं वरन सुखविलास ही के चाहने वाले होंगे” 2 तीमुथियुस 3: 1-4।

अराजकता

“और अधर्म के बढ़ने से बहुतों का प्रेम ठण्डा हो जाएगा” मत्ती 24:12। “और दुष्ट, और बहकाने वाले धोखा देते हुए, और धोखा खाते हुए, बिगड़ते चले जाएंगे” 2 तीमुथियुस 3:13। “एक सांकल बना दे, क्योंकि देश अन्याय की हत्या से, और नगर उपद्रव से भरा हुआ है” यहेजकेल 7:23।

प्राकृतिक आपदाएँ

“और बड़ें बड़ें भूईडोल होंगे, और जगह जगह अकाल और मरियां पड़ेंगी, और आकाश में भयंकर बातें और बड़े बड़े चिन्ह प्रगट होंगे” लुका 21:11।

पूरी दुनिया को सुसमाचार प्रचार

“और राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो, तब अन्त आ जाएगा” मत्ती 24:14।

आध्यात्मवाद का उदय

“परन्तु आत्मा स्पष्टता से कहता है, कि आने वाले समयों में कितने लोग भरमाने वाली आत्माओं, और दुष्टात्माओं की शिक्षाओं पर मन लगाकर विश्वास से बहक जाएंगे” 1 तीमुथियुस 4: 1। “ये चिन्ह दिखाने वाली दुष्टात्मा हैं, जो सारे संसार के राजाओं के पास निकल कर इसलिये जाती हैं, कि उन्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उस बड़े दिन की लड़ाई के लिये इकट्ठा करें” प्रकाशितवाक्य 16:14।

सभी संकेत बताते हैं कि हम समय के अंतिम क्षणों में जी रहे हैं। क्या आप तैयार हैं!

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या मुझे क्लेश से पहले पहाड़ों में शरण लेनी चाहिए?

This answer is also available in: Englishप्रश्न: मुझे आने वाले क्लेश का डर है। क्या मुझे फिर पहाड़ों पर भाग जाना चाहिए? उत्तर: “क्योंकि परमेश्वर ने हमें भय की नहीं…