दानिय्येल 9 में सत्तर सप्ताह की भविष्यद्वाणी का उद्देश्य क्या था?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

दानिय्येल 9 में सत्तर सप्ताह की भविष्यद्वाणी का उद्देश्य मसीह के पहले आगमन का सही समय और उद्धारकर्ता के जीवनकाल में मुख्य घटनाओं को देना था। “सत्तर सप्ताह “तेरे लोगों और तेरे पवित्र नगर के लिये सत्तर सप्ताह ठहराए गए हैं कि उनके अन्त तक अपराध का होना बन्द हो, और पापों को अन्त और अधर्म का प्रायश्चित्त किया जाए, और युगयुग की धामिर्कता प्रगट होए; और दर्शन की बात पर और भविष्यद्वाणी पर छाप दी जाए, और परमपवित्र का अभिषेक किया जाए” (दानिय्येल 9:24)। भविष्यद्वाणी में एक दिन एक वर्ष के लिए होता है (गिनती 14:34; यहेजकेल 4: 6)।

सत्तर सप्ताह, या चार सौ नब्बे दिन, चार सौ नब्बे साल का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस अवधि के लिए एक प्रारंभिक बिंदु दिया गया है: “सो यह जान और समझ ले, कि यरूशलेम के फिर बसाने की आज्ञा के निकलने से ले कर अभिषिक्त प्रधान के समय तक सात सप्ताह बीतेंगे। फिर बासठ सप्ताहों के बीतने पर चौक और खाई समेत वह नगर कष्ट के समय में फिर बसाया जाएगा” (दानिय्येल 9:25) )। उनहत्तर सप्ताह चार सौ अड़तीस वर्षों का प्रतिनिधित्व करते हैं। यरूशलेम को पुनःस्थापित करने और निर्माण करने की आज्ञा, जैसा कि अर्तक्षत्र के फरमान से पूरा हुआ, 457 ईसा पूर्व की शरद ऋतु में लागू हुआ (एज्रा 6:14; 7: 1, 9)।

इस शुरुआती बिंदु से, चार सौ अड़तीस साल ईस्वी सन् 27 की शरद ऋतु तक जाते हैं। भविष्यद्वाणी के अनुसार, यह अवधि मसीहा, उस अभिषिक्त जन तक पहुँचने के लिए थी। 27 ईस्वी में, यीशु ने अपने बपतिस्मा में पवित्र आत्मा का अभिषेक प्राप्त किया और जल्द ही उसकी सेवकाई शुरू की। फिर संदेश सुनाया गया, “समय पूरा हुआ” (मरकुस 1:15)।

“और वह प्रधान एक सप्ताह के लिये बहुतों के संग दृढ़ वाचा बान्धेगा” (दानिय्येल 9:27)। सात साल तक उद्धारकर्ता की उसकी सेवकाई में प्रवेश करने के बाद, सुसमाचार का प्रचार विशेष रूप से यहूदियों को किया जाना था; स्वयं मसीह द्वारा साढ़े तीन साल और बाद में प्रेरितों द्वारा। परन्तु आधे सप्ताह के बीतने पर वह मेलबलि और अन्नबलि को बन्द करेगा; और कंगूरे पर उजाड़ने वाली घृणित वस्तुएं दिखाई देंगी और निश्चय से ठनी हुई बात के समाप्त होने तक परमेश्वर का क्रोध उजाड़ने वाले पर पड़ा रहेगा” (दानिय्येल 9:27)। 31 ईस्वी के वसंत में, कलवरी पर मसीह, सच्चा बलिदान दिया गया था। तब मंदिर का पर्दा ऊपर से नीचे तक फट गया था, यह दिखाते हुए कि बलिदान और सेवा का महत्व समाप्त हो गया था। सांसारिक त्याग और विस्मृति का समय आ गया था।

एक सप्ताह – सात वर्ष – का अंत ईस्वी 34 में हुआ जब स्तिुफनुस को पथरवाह से यहूदियों ने अंत में सुसमाचार की अपनी अस्वीकृति को मुहरबंद कर दिया; शिष्यों ने उत्पीड़न द्वारा विदेश में बिखरे हुए थे “हर जगह वचन का प्रचार किया” (प्रेरितों के काम 8: 4)। कुछ ही समय बाद, शाऊल सताहट देने वाला परिवर्तित हो गया और पौलूस अन्यजातियों के लिए प्रेरित बन गया।

इस बार भविष्यद्वाणी, जो मसीह के आगमन का सटीक समय बताती है, यहूदियों को उसे अस्वीकार करने के लिए कोई बहाना नहीं छोड़ती है। प्रभु ने उन्हें अन्य सभी मसीहाई भविष्यद्वाणियों (उनमें से 125 से अधिक) के अलावा मसीहा के आगमन का समय दिया ताकि यह साबित किया जा सके कि यीशु मसीह वास्तव में मसीहा हैं, जो दुनिया के उद्धारकर्ता हैं।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या पशु का चिन्ह हाथ या माथे पर एक टैटू होगा?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)बाइबल की कुछ भविष्यद्वाणी करनेवाले शिक्षक सिखाते हैं कि पशु का चिन्ह हाथ या माथे में एक शाब्दिक टैटू होगा। लेकिन…

बाबुल शब्द का क्या अर्थ है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)बाबुल में बाब-इलू (बाबेल, या बाबुल) नाम का अर्थ था “देवताओं का द्वार”, लेकिन इब्रियों ने अपमानजनक रूप से इसे बलाल…