दस आज्ञाएँ क्या हैं? क्या आज मसिहियों को उन्हे मानना चाहिए?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी) Français (फ्रेंच) Español (स्पेनिश)

दस आज्ञाएँ दस नियम हैं जो परमेश्वर ने पत्थर पर अपनी उंगली से लिखे थे। पहले चार आज्ञाएँ परमेश्वर के साथ हमारे संबंधों को संबोधित करती हैं। अंतिम छह आज्ञाएं एक दूसरे के साथ हमारे संबंधों को संबोधित करती हैं। निर्गमन 20: 1-17 और व्यवस्थाविवरण 5:6-21 में बाइबल की दस आज्ञाएँ दर्ज हैं:

दस आज्ञाएँ

परमेश्वर के लिए

“तू मुझे छोड़ दूसरों को ईश्वर करके न मानना” यह आज्ञा सृजनहार के अलावा किसी भी देवता या किसी भी चीज़ की उपासना करने के खिलाफ है।

“तू अपने लिये कोई मूर्ति खोदकर न बनाना, न किसी कि प्रतिमा बनाना, जो आकाश में, वा पृथ्वी पर, वा पृथ्वी के जल में है। तू उन को दण्डवत न करना, और न उनकी उपासना करना; क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा जलन रखने वाला ईश्वर हूं, और जो मुझ से बैर रखते है, उनके बेटों, पोतों, और परपोतों को भी पितरों का दण्ड दिया करता हूं, और जो मुझ से प्रेम रखते और मेरी आज्ञाओं को मानते हैं, उन हजारों पर करूणा किया करता हूं॥” यह आज्ञा एक मूर्ति या परमेश्वर का एक दृश्य प्रतिनिधित्व करने के खिलाफ है।

“तू अपने परमेश्वर का नाम व्यर्थ न लेना; क्योंकि जो यहोवा का नाम व्यर्थ ले वह उसको निर्दोष न ठहराएगा॥” यह प्रभु के नाम को व्यर्थ में लेने के खिलाफ एक आज्ञा है। हम परमेश्वर के नाम को हकले रूप मे संबोधित नहीं करना है।

“तू विश्रामदिन को पवित्र मानने के लिये स्मरण रखना। छ: दिन तो तू परिश्रम करके अपना सब काम काज करना; परन्तु सातवां दिन तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये विश्रामदिन है। उस में न तो तू किसी भांति का काम काज करना, और न तेरा बेटा, न तेरी बेटी, न तेरा दास, न तेरी दासी, न तेरे पशु, न कोई परदेशी जो तेरे फाटकों के भीतर हो। क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश, और पृथ्वी, और समुद्र, और जो कुछ उन में है, सब को बनाया, और सातवें दिन विश्राम किया; इस कारण यहोवा ने विश्रामदिन को आशीष दी और उसको पवित्र ठहराया॥” यह सब्त (शनिवार, सप्ताह का अंतिम दिन) को प्रभु को समर्पित विश्राम दिन के रूप में अलग स्थापित करने की आज्ञा है।

 

मनुष्य के लिए

“तू अपने पिता और अपनी माता का आदर करना, जिस से जो देश तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे देता है उस में तू बहुत दिन तक रहने पाए॥” यह एक आज्ञा है कि हमेशा एक के माता-पिता को आदर और सम्मान के साथ व्यवहार करें।

“तू खून न करना॥” यह दूसरे मनुष्य की पूर्व-निर्धारित हत्या के खिलाफ एक आज्ञा है।

” तू व्यभिचार न करना॥“ यह एक पति या पत्नी के अलावा किसी और के साथ यौन संबंध रखने के खिलाफ एक आज्ञा है।”

” तू चोरी न करना॥” यह किसी भी चीज को लेने के खिलाफ एक आज्ञा है जो किसी का अपना नहीं है।

” तू किसी के विरुद्ध झूठी साक्षी न देना॥” यह एक आज्ञा है जो किसी दूसरे व्यक्ति के खिलाफ गलत तरीके से गवाही देने से रोकता है। यह अनिवार्य रूप से झूठ बोलने के खिलाफ एक आज्ञा है।

” तू किसी के घर का लालच न करना; न तो किसी की स्त्री का लालच करना, और न किसी के दास-दासी, वा बैल गदहे का, न किसी की किसी वस्तु का लालच करना॥” यह किसी भी चीज़ की इच्छा रखने वाली एक आज्ञा है जो किसी की अपनी नहीं है।

यीशु और दस आज्ञाएँ

यीशु ने खुद को दस आज्ञा पालन का समर्थन किया: “अब देखो, एक आया और उससे कहा,” और देखो, एक मनुष्य ने पास आकर उस से कहा, हे गुरू; मैं कौन सा भला काम करूं, कि अनन्त जीवन पाऊं? उस ने उस से कहा, तू मुझ से भलाई के विषय में क्यों पूछता है? भला तो एक ही है; पर यदि तू जीवन में प्रवेश करना चाहता है, तो आज्ञाओं को माना कर। उस ने उस से कहा, कौन सी आज्ञाएं? यीशु ने कहा, यह कि हत्या न करना, व्यभिचार न करना, चोरी न करना, झूठी गवाही न देना। अपने पिता और अपनी माता का आदर करना, और अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रखना। (मत्ती 19:16-19)।

उद्धार और दस आज्ञाएँ

कृपया ध्यान दें कि दस आज्ञा को माँ कर कोई भी बचाया नहीं जा सकता है। उद्धार केवल अनुग्रह के माध्यम से यीशु मसीह से एक मुफ्त उपहार के रूप में आता है, और हम इस उपहार को विश्वास से प्राप्त करते हैं, कार्यों से नहीं। दस आज्ञाएँ हमारे जीवन में पाप को संकेत करने के लिए केवल एक दर्पण के रूप में काम करती हैं। पाप से शुद्धता और क्षमा केवल मसीह के माध्यम से आती है ” क्योंकि व्यवस्था के कामों से कोई प्राणी उसके साम्हने धर्मी नहीं ठहरेगा” (रोमियों 3:20)। “क्योंकि विश्वास के द्वारा अनुग्रह ही से तुम्हारा उद्धार हुआ है, और यह तुम्हारी ओर से नहीं, वरन परमेश्वर का दान है। और न कर्मों के कारण, ऐसा न हो कि कोई घमण्ड करे” (इफिसियों 2: 8, 9)।

लेकिन जब विश्वासी मसीह के पास आता है, तो प्रभु स्वयं वादा करता है, ” मैं अपनी व्यवस्था को उन के मनों में डालूंगा, और उसे उन के हृदय पर लिखूंगा” (इब्रानियों 8:10)। परमेश्‍वर ने यीशु के ज़रिए एक विश्वास का प्रावधान किया कि वह विश्वासी को उसकी अन्तर्निवास उपस्थिति की शक्ति के माध्यम से उसकी आज्ञाओं को बनाए रखने में सक्षम बनाए (फिलिप्पियों 4:13)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी) Français (फ्रेंच) Español (स्पेनिश)

More answers: