गिदोन ने केवल 300 सैनिकों के साथ युद्ध कैसे जीता?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

केवल 300 सैनिकों के साथ प्रभु ने इस्राएल को जीत कैसे दिलाई की यह कहानी न्यायियों की पुस्तक के अध्याय 7 में है। परमेश्वर ने गिदोन से कहा कि वह मिद्यानियों से लड़ने के लिए एक सेना इकट्ठा करे। इसलिए परमेश्वर के सेवक ने 32,000 सैनिकों को इकट्ठा किया लेकिन दुश्मन की सेना में 135,000 सैनिक शामिल थे। इन बाधाओं के बावजूद, परमेश्वर ने गिदोन से कहा, “जो लोग तेरे संग हैं वे इतने हैं” (पद 2) और इस्राएल की सेना की संख्या को कम करने के लिए कई चरणों का निर्देशन किया। उनकी संख्या को और भी कम करके, युद्ध को जीतना मानवीय रूप से असंभव होगा और इस तरह यह साबित होगा कि उद्धार कितना चमत्कारी होता है, यह सुनिश्चित करना कि महिमा परमेश्वर को दी जाएगी और मनुष्य को नहीं।

उनकी संख्या घटने की प्रक्रिया इस प्रकार थी: परमेश्वर ने गिदोन से कहा: “इसलिये तू जा कर लोगों में यह प्रचार करके सुना दे, कि जो कोई डर के मारे थरथराता हो, वह गिलाद पहाड़ से लौटकर चला जाए। तब बाईस हजार लोग लौट गए, और केवल दस हजार रह गए” (पद 3)। जब गिदोन ने ऐसा किया, तो उसके लड़ने वाले 22,000 लोग घर चले गए। जो रह गए वे केवल 10,000 पुरुष थे। तब फिर से यहोवा ने गिदोन से कहा: “अब भी लोग अधिक हैं” (पद 4) और गिदोन को निर्देश दिया कि वे एक सोते में आकर पानी पीएँ और फिर उन सभी लोगों को घर भेज दें जिन्होंने अपना समय लिया और घुटने के बाल पानी पिया। केवल 300 पुरुष ही रह गए जो उन्हे पीते हुए देखते रहे। परमेश्वर ने कहा, मैं तुम्हें 300 आदमियों के साथ विजय दिलाऊंगा।

135,000 दुश्मन सैनिकों के खिलाफ जा रहे 300 पुरुषों की इतनी छोटी सेना से गिदोन बेहद चिंतित और हतोत्साहित था। दया में, प्रभु ने गिदोन को गुप्त रूप से मिद्यानी कैंप में जाने का निर्देश दिया, जहाँ वह उसे प्रोत्साहन का संकेत देगा। गिदोन ने कुछ मिद्यानी सैनिकों के बीच एक संवाद सुना: “जब गिदोन वहां आया, तब एक जन अपने किसी संगी से अपना स्वप्न यों कह रहा था, कि सुन, मैं ने स्वप्न में क्या देखा है कि जौ की एक रोटी लुढ़कते लुढ़कते मिद्यान की छावनी में आई, और डेरे को ऐसा टक्कर मारा कि वह गिर गया, और उसको ऐसा उलट दिया, कि डेरा गिरा पड़ा रहा। उसके संगी ने उत्तर दिया, यह योआश के पुत्र गिदोन नाम एक इस्राएली पुरूष की तलवार को छोड़ कुछ नहीं है; उसी के हाथ में परमेश्वर ने मिद्यान को सारी छावनी समेत कर दिया है” (न्यायियों 7:13-14)।

परमेश्वर के संदेश से मजबूत, गिदोन ने अपने 300 लोगों को तीन समूहों में विभाजित किया। उसने प्रत्येक सैनिक को एक नरसिंगा दिया, और उसके अंदर एक मशाल के साथ एक घड़ा दिया। आधी रात को, उन्होंने सभी दुश्मन के शिविर को घेर लिया। फिर, एक ही समय में, उन सभी ने अपने नरसिंगें फूंके और अपने घड़े तोड़ दिए, और चिल्लाये: ” तब तीनों झुण्डों ने नरसिंगों को फूंका और घड़ों को तोड़ डाला; और अपने अपने बाएं हाथ में मशाल और दाहिने हाथ में फूंकने को नरसिंगा लिए हुए चिल्ला उठे, यहोवा की तलवार और गिदोन की तलवार। तब वे छावनी के चारों ओर अपने अपने स्थान पर खड़े रहे, और सब सेना के लोग दौड़ने लगे; और उन्होंने चिल्ला चिल्लाकर उन्हें भगा दिया। और उन्होंने तीन सौ नरसिंगों को फूंका, और यहोवा ने एक एक पुरूष की तलवार उसके संगी पर और सब सेना पर चलवाई; तो सेना के लोग सरेरा की ओर बेतशित्ता तब और तब्बात के पास के आबेलमहोला तक भाग गए।”(न्यायियों 7:20-22 )। परमेश्वर ने उस दिन इस्राएल को जीत दी और यह एक शक के बिना एक ईश्वरीय चमत्कार था।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

मैं यीशु को अपने दिल में कैसे स्वीकार कर सकता हूं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)मैं यीशु को अपने दिल में कैसे स्वीकार कर सकता हूं? “क्योंकि पाप की मजदूरी तो मृत्यु है, परन्तु परमेश्वर का…

क्या परमेश्वर ऐसे व्यक्ति का उपयोग करेगा जो मिशन में पूरी तरह से आत्मिक रूप से प्रबुद्ध नहीं है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)क्या परमेश्वर ऐसे व्यक्ति का उपयोग करेगा जो मिशन में पूरी तरह से आत्मिक रूप से प्रबुद्ध नहीं है? कुछ मसीही…